"लोहे की सड़सी" लघुकथा

06 नवम्बर 2017   |  महातम मिश्रा   (71 बार पढ़ा जा चुका है)

"लोहे की सड़सी"


जय हो झिनकू भैया की। भौजी की अँगुली चाय की खौलती तपेली से सट गई, तो ज़ोर से झनझना गई भौजी, झिनकू भैया के बासी चाय पर। चार दिन से कह रहीं हूँ कि सड़सी टूट गई है, बनवा लाओ या नई बाजार से खरीद लाओ,पर सुनते ही नहीं। आखिर बिना सड़सी के तपेली कैसे उतरेगी, लो अब खुद ही चाय और रोटी बनाओ। फफोले सहलाते हुए भौजी दरवाजे पर आकर बिलबिलाने लगी। भैया की आँखों से प्यार का दरिया छलक गया और पहुँच गए बाजार में।


भाई एक सड़सी दे देना, इतना कहना था कि टेबल पर कई सड़सियाँ खनकने लगी, स्टील, पीतल इत्यादि की जिसमे से एक स्टील की सड़सी उठाते हुए झिनकू भैया ने पूछा,इसका क्या दाम है। दुकानदार ने अस्सी रुपए सुनाया तो झल्ला गए झिनकू भैया और बोले अरे भाई लोहे वाली दिखाओ न। हाँ हाँ यही चाहिए, कितना दूँ?पचास दे दीजिए। कुछ कम करो भाई चलिए चालीस दीजिए।

सड़सी लेकर झिनकू भैया निकले ही थे कि लुहार की दूकान नजर आ गई और उन्होंने उसके दूकान पर रखी हुई सड़सी उठाकर पूछ लिया, कितने की है। तीस रुपये दे दीजिए बाबू जी, कुछ कम करो, अच्छा पच्चीस दे दीजिए। ठीक है अभी वापस आते समय लूँगा। लुहार को भरोषा देकर झिनकू भैया पुनः उस दूकान पर पहुँच गए, जहां से पहली वाली सड़सी लिए थे, उसको मनगढंत कहानी सुना दिए कि मेरे भाई ने एक सड़सी खरीद लिया है इसे वापस ले लो। दुकानदार ने चालीस रुपये लौटाकर सड़सी वापस लेकर उसकी जगह पर रख दिया और धन्यवाद कहते हुए झिनकू भैया, उस लोहार के वहाँ से सड़सी लेकर घर आ गए पर भौजी की जली हुई उँगली के लिए कोई दवा और मलहम की याद न आई। रास्ते भर कोसते रहे दुकानदार को, लूट मची है, जो जिसके मर्जी में आता है भाव बोल देता है। कहाँ की जी.एस. टी. और कहाँ की व्यवस्था। अंधेर मची है, क्या करेगी सरकार, ईमान को किस नियम कानून के पल्ले से बाँधेगी। वगैरह वगैरह भड़ास निकालते रहे और अपने चौराहे पर उतरे तो उनकी महँगाई खत्म हो गई, एक बीड़ा बनारसी पान दबाए हुए सड़सी भौजी के सामने पटक दिए, मानों नव लखा हार निछावर कर रहें है। इसपर भौजी ने इतना ही कहा,

बहुत दर्द हो रहा है कोई मलहम नहीं लाए क्या?, जिसका जबाब नहीं था झिनकू भैया के पास जैसे सरकार के पास कोई जबाब नहीं होता है, और जनता कराहती रह जाती है।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "पंक्तिका छंद"



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 अक्तूबर 2017
"विधा- दोहा"रे रंगोली मोहिनी, कैसे करूँ बखानविन वाणी की है विधा, मानों तुझमे जान।।-१भाई दूजी पर्व है, झाँक रहा है चाँदनभ तारे खुशहाल हैं, अपने अपने माँद।।-२झूम रही है बालियाँ, झलक उठे खलिहानपुअरा तपते खेत में, कहाँ गए धन धान।।-३नौ मन गेंहूँ भरि चले, बीया बुद्धि बिहानपानी
25 अक्तूबर 2017
20 नवम्बर 2017
"सुनो सुनयना मेरी बात" सुनो सुनयना मेरी बात, जिसकी गोंद में हम सभी पले-बढ़े, उछले-कूदे, नाचे-गाए और खेले-खिलाए। उसकी सुंदरता की सरिता में भीगे- नहाए, छाँव में बैठे तो धूप में कुम्हिलाए। बरसात की बौछार छलकाए तो ठंड में ठिठुरे भी। पुरखों की रजाई ओढ़ी तो माँ के आँचल को बिछाया
20 नवम्बर 2017
06 नवम्बर 2017
"पंक्तिका छंद"प्राण नाथ जो आप साथ होंमोर मोरनी बाग बाग होंधूम धाम से झूम झूम केप्यार वार दूं नाच नाच के।।नाथ आप से प्रात लाल है ठौर झूमती हाथ ताल हैराम राम जी राम राम जीनैन नाचते रैन वास जी।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
06 नवम्बर 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x