“भोजपुरी लोकगीत” कइसे जईबू गोरी छलकत गगरिया, डगरिया में शोर हो गइल

07 नवम्बर 2017   |  महातम मिश्रा   (122 बार पढ़ा जा चुका है)

“भोजपुरी लोकगीत”


कइसे जईबू गोरी छलकत गगरिया, डगरिया में शोर हो गइल

कहीं बैठल होइहें छुपि के साँवरिया, नजरिया में चोर हो गइल......


बरसी गजरा तुहार, भीगी अँचरा लिलार

मति कर मन शृंगार, रार कजरा के धार

पायल खनकी ते, होइहें गुलजार गोरिया

मनन कर घर बार, जनि कर तूँ विहार


कइसे विसरी धना पलखत पहरिया. शहरिया अंजोर हो गइल

कइसे जईबू गोरी छलकत गगरिया, डगरिया में शोर हो गइल......


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "पंक्तिका छंद"



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 अक्तूबर 2017
"मुक्तक"नाचत गावत ग्वाल मुरारी माधव मोहन।गोवर्धन गिरि लपकि उचारी माधव मोहन।जय जय केशव गोविंद प्रभु महिमा गिरधारी-राधापति गोपाल कछारी माधव मोहन।।-१नाम सहस्त्र रूप अलबेला माधव मोहन।मोहक मोहन अति प्रिय छैला माधव मोहन।राधा जी का प्यार अमर घनश्याम बिहारी-गोकुल गलियाँ रचते मेला
25 अक्तूबर 2017
06 नवम्बर 2017
“मुक्त काव्य गीत ”परिंदों का बसेरा होता है प्रतिदिन जो सबेरा होता हैचहचाहती खूब डालियाँ हैं कहीं कोयल तो कहीं सपेरा होता हैनित नया चितेरा होता है पलकों में घनेरा होता हैपरिंदों का बसेरा होता हैप्रतिदिन जो सबेरा होता है॥ हम नाच बजाते अपनी धुन मानों थिरकाते गेंहू के घुन प्र
06 नवम्बर 2017
17 नवम्बर 2017
"पिरामिड"येमकाँजर्जर जीर्ण शीर्णअति संकीर्णभुतहा महलझपटती बिल्लियाँ।।-१जीजान ईमानइम्तहानसहारा होगाआँख तारा होगापल गुजारा होगा।।-२महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
17 नवम्बर 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x