मृतक का आश्रित :अनुकम्पा नियुक्ति

08 नवम्बर 2017   |  शालिनी कौशिक एडवोकेट   (980 बार पढ़ा जा चुका है)

 मृतक का आश्रित :अनुकम्पा नियुक्ति

अभी लगभग १ वर्ष पूर्व हमारे क्षेत्र के एक व्यक्ति का देहांत हो गया .मृतक सरकारी कर्मचारी था और मरते वक्त उसकी नौकरी की अवधि शेष थी इसलिए मृतक आश्रित का प्रश्न उठा .यूँ तो ,निश्चित रूप से उसकी पत्नी आश्रित की अनुकम्पा पाने की हक़दार थी लेकिन क्योंकि मृतक ने पहले ही वह नौकरी अपने पिता के मृतक आश्रित के रूप में प्राप्त की थी इसलिए मृतक की बहन भी मृतक आश्रित के रूप में आगे आ गयी .मृतक की बहन के मृतक आश्रित के रूप में आगे आने का एक कारण और भी था और वह था इलाहाबाद हाईकोर्ट का ११ फरवरी २०१५ को दिया गया फैसला जिसमे इलाहाबाद हाईकोर्ट ने माना था ''परिवार की परिभाषा में भाई-बहन-विधवा माँ भी ".

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मृतक आश्रित अनुकम्पा नियुक्ति 1974 की व्याख्या करते हुए स्पष्ट किया कि वर्ष २००१ में हुए संशोधन के बाद ''परिवार'' का दायरा बढ़ा दिया गया है .इसके अनुसार यदि मृत कर्मचारी अविवाहित था और भाई-बहन व् विधवा माँ उस पर आश्रित थे तो वह परिवार की परिभाषा में आते हैं .वह अनुकम्पा आधार पर नियुक्ति पाने के हक़दार हैं . मुख्य न्यायाधीश डॉ.डी.वाई .चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति सुनीत कुमार की खंडपीठ ने प्रदेश सरकार की विशेष अपील को ख़ारिज करते हुए यह व्यवस्था दी.इसलिए इस मामले में गौर करने वाली बात यह है कि इसमें मृतक अविवाहित था .यह प्रकरण वर्ष २००६ में नियुक्त पुलिस कॉन्स्टेबल के भाई विनय यादव के मामले में सामने आया .वर्ष २००६ में प्रदेश सरकार ने १८,७०० पुलिस सिपाहियों की भर्ती की .बाद में इस भर्ती को धांधली के आधार पर २००७ में बसपा सरकार ने रद्द कर दिया .अभ्यर्थी मामले को लेकर हाईकोर्ट चले गए .हाईकोर्ट का फैसला आने से पूर्व ही विनय यादव के भाई की एक्सीडेंट में मृत्यु हो गयी .वह अविवाहित था .विनय यादव ने अनुकम्पा के आधार पर नियुक्ति की मांग की लेकिन सरकार ने उसका प्रार्थनापत्र रद्द कर दिया .प्रदेश सरकार ने भाई को मृतक आश्रित कोटे में नियुक्ति का हक़दार नहीं माना .दलील दी कि मृतक आश्रित नियमावली २०११ में संशोधित की गयी ,उसके बाद भाई को परिवार का हिस्सा माना गया .याची का मामला २००७ का था इसलिए यह संशोधन उस पर लागू नहीं होगा .खंडपीठ ने सरकार की दलील को नकारते हुए साफ किया कि वर्ष २००१ के संशोधन द्वारा परिवार का दायरा बढ़ाया गया ,इस वजह से याची परिवार की परिभाषा के अंतर्गत आता है .२०११ के संशोधन का परिवार के मामले से कोई सम्बन्ध नहीं है .

इस मामले में तो हाईकोर्ट की खंडपीठ ने भाई को मृतक आश्रित मान लिया क्योंकि पहले तो मृतक अविवाहित था ,दुसरे उसकी माँ-बहन-भाई उस पर आश्रित थे किन्तु अपने क्षेत्र के जिस मृतक का जिक्र मैंने किया उसमे मृतक भी विवाहित था और उसकी बहन भी ,ऐसे में बहन भाई के आश्रित नहीं थी और न ही उसका परिवार थी इसलिए उसकी बहन को मृतक आश्रित के रूप में नौकरी नहीं मिली और मृतक की पत्नी मृतक आश्रित की अनुकम्पा के आधार पर अब उस सरकारी विभाग में नौकरी कर रही है .


शालिनी कौशिक

[कानूनी ज्ञान ]

अगला लेख: कामकाजी महिलाएं और कानून



सटीक जानकारी जनहित में . धन्यवाद आपका.

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 अक्तूबर 2017
हमारे घर के पास अभी हाल ही में एक मकान बना है .अभी तो उसकी पुताई का काम होकर निबटा ही था कि क्या देखती हूँ कि उस पर एक किसी ''शादी विवाह ,पैम्फलेट आदि बनाना के विज्ञापन चिपक गया .बहुत अफ़सोस हो रहा था कि आखिर लोग मानते क्यों नहीं ?क्यूं नई दीवार पर पोस्टर लगाकर उसे गन्दा कर देते हैं ?
24 अक्तूबर 2017
26 अक्तूबर 2017
अभी अभी एक नए जोड़े को देखा पति चैन से जा रहा था और पत्नी घूंघट में ,भले ही दिखाई दे या न दे किन्तु उसे अब ऐसे ही चलने का अभ्यास करना होगा आखिर करे भी क्यूँ न अब वह विवाहित जो है जो कि एक सामान्य धारणा के अनुसार यह है कि अब वह धरती पर बोझ नहीं है ऐसा हमारे एक परिचित हैं उनका कहना है कि ''जब तक
26 अक्तूबर 2017
05 नवम्बर 2017
''सियासत को लहू पीने की लत है , वर्ना मुल्क में सब खैरियत है .'' महज शेर नहीं है ये ,असलियत है हमारी सियासत की ,जिसे दुनिया के किसी भी कोने में हो ,लहू पीने की ऐसी बुरी लत है कि उसके लिए यह सड़कों से लेकर चौराहों तक, राजमहलों से लेकर साधारण घरों
05 नवम्बर 2017
20 नवम्बर 2017
तलाक कहूं या विवाह -विच्छेद ,बहुत दुखद होता है किन्तु बहुत सी शादियां ऐसी होती हैं जिनमे अगर तलाक न हो तो न पति जी सकता है और न पत्नी ,बच्चों के तो कहने ही क्या ,ऐसे में तलाक आवश्यक हो जाता है .हिन्दू विधि में तलाक के बहुत से ढंग कानून ने दिए हैं किन्तु उनमे बहुत सी बार इतना समय लग जाता
20 नवम्बर 2017
01 नवम्बर 2017
अब इसको आदत कह लें या जन्मजात स्वभाव, हम भारतीय बड़े ही स्वार्थ रहित जीव होते हैं जो अपना छोड़ हमेशा दूसरों के बारे में सोचते रहते हैं। कॉलेज की पढ़ाई खत्म होने से पहले पूछना शुरू कर देते हैं कि कही नौकरी लगी या नही? नौकरी लगते ही पूछना शुरू की और शादी कब कर रहे हो? किसी तरह शादी हुई तो फिर सवाल आता है
01 नवम्बर 2017
08 नवम्बर 2017
नहटौर में एक चुनावी सभा में ''आप''नेता अलका लम्बा पर पत्थर से हमला ,कोई नई बात नहीं है .राजनीति के क्षेत्र में उतरने वाली महिलाएं आये दिन कभी शब्द भेदी बाणों का तो कभी पत्थरों आदि के हमलों का शिकार होती रहती हैं .ममता बनर्जी तो पश्चिमी बंगाल में इसका जीता-जागता उदाह
08 नवम्बर 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x