“गीतिका/ गज़ल”

14 नवम्बर 2017   |  महातम मिश्रा   (72 बार पढ़ा जा चुका है)

“गीतिका/ गज़ल”


बैठिए सर बैठिए अब गुनगुनाना सीख ले

हो सके तो एक सुर में स्वर मिलाना सीख ले

कह रही बिखरी पराली हो सके तो मत जला

मैं भली खलिहान में छप्पर बनाना सीख ले..


मानती हूँ बैल भी अब हो गए मुझसे बुरे

चर रहें हैं खेत बछड़े हल चलाना सीख ले॥


खाद देशी खो गई फसलों में फैली यूरिया

गुड़ का गोबर हो रहा है कुछ कमाना सीख ले॥


देख लिजे आँख से रुकती हुई हर साँस है

हाथ मल चलती सड़क जीवन बचाना सीख ले॥


लड़ रही है बहक गाडियाँ बिन युद्ध की रफ्तार है

दिन ढ़का दिखता नहीं है ढंग पुराना सीख ले॥


मत उड़ो आकाश में जी अब निभाते वे नहीं

जी के जोखिम पालतू से घर खिलाना सीख ले॥


आप भी “गौतम” सरीखे लग रहें इंसान हैं

जल गया वह दिल नहीं था फिर लगाना सीख ले॥


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "पंक्तिका छंद"



महातम मिश्रा
17 नवम्बर 2017

जी आदरणीय बिलकुल सही कहा आप ने , हार्दिक धन्यवाद

सार्थक रचना । मानव मेहनत करने से कतरा रहा है जिसका फायदा अवसरवादी उठा रहे हैं।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 नवम्बर 2017
“गज़ल”जा मेरी रचना तू जा, मेले में जा के आ कभी घेरे रहती क्यूँ कलम को, गुल खिला के आ कभीपूछ लेना हाल उनका, जो मिले किरदार तुझको देख आना घर दुबारा, मिल मिला के आ कभी॥शब्द वो अनमोल थे, जो अर्थ को अर्था सके सुर भुनाने के लिए, डफली हिला के आ कभी॥छंद कह सकती नहीं तो, मुक्त हो
06 नवम्बर 2017
08 नवम्बर 2017
“पिरामिड”रे गुँजाबावरी मदमातीउन्मुक्त बाँदी घुँघराले बाल लहराए नागिन॥-१ रे गुँजाभ्रामरी सुनयना घुँघची अलीमनचली गलीनव खेल खिलाती॥-२ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
08 नवम्बर 2017
20 नवम्बर 2017
"सुनो सुनयना मेरी बात" सुनो सुनयना मेरी बात, जिसकी गोंद में हम सभी पले-बढ़े, उछले-कूदे, नाचे-गाए और खेले-खिलाए। उसकी सुंदरता की सरिता में भीगे- नहाए, छाँव में बैठे तो धूप में कुम्हिलाए। बरसात की बौछार छलकाए तो ठंड में ठिठुरे भी। पुरखों की रजाई ओढ़ी तो माँ के आँचल को बिछाया
20 नवम्बर 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x