राजस्थान की संगठित शक्ति की जय हो

26 नवम्बर 2017   |  शालिनी कौशिक एडवोकेट   (156 बार पढ़ा जा चुका है)

राजस्थान की संगठित शक्ति की जय हो

पद्मावती आजकल सुर्ख़ियों में हैं .हों भी क्यूँ न नारी शक्ति की जो मिसाल पद्मावती ने पेश की वह अनूठी है और ऐसी मिसाल ही होती हैं जो अनुकरणीय बन जाती हैं यही कारण है कि आज राजस्थान उनके सम्मान को लेकर भंसाली की सोच से ,भंसाली की फिल्म से लड़ रहा है और साफ तौर पर दिखाई दे रहा है कि भंसाली अपनी फिल्म को प्रदर्शित नहीं करा पाएंगे .पर यहाँ मैं भंसाली की फिल्म के प्रदर्शन को लेकर नहीं अपितु राजस्थान की महिला शक्ति को लेकर आयी हूँ जहाँ एक विधवा माँ की तीन बेटियों ने राजस्थान प्रशासनिक परीक्षा में एक साथ सफलता प्राप्त कर पूरे देश में केवल राजस्थान का ही नहीं अपितु पूरे विश्व में भारतीय नारी की शक्ति का डंका बजाया है . पर यह बात भी गौर करने लायक है कि यह एकमात्र नारी शक्ति की ही नहीं बल्कि पूरे परिवार के सहयोग की भी अनूठी मिसाल है जिसमे एक भाई ने भी अपनी माँ व् बहनों का सहयोग किया और अपने पिता की इच्छा को पूरा करने में अपनी बहनों की सफलता में योगदान दिया .भाई का योगदान इसलिए सर्वोपरि है कि उसने अपने पुरुष अहम् को इस बीच में आड़े नहीं आने दिया .इसलिए बार बार राजस्थान के इस परिवार ,इन बहनों के भाई व् सम्पूर्ण नारी शक्ति को हार्दिक बधाई . शालिनी कौशिक ने

अगला लेख: तभी लेंगे शपथ .....



रेणु
27 नवम्बर 2017

आदरणीय शालिनी जी --- इस भाग्यशाली माँ और बेटियों ने समाज को बड़ा ही अनुपम सन्देश दिया है | उनकी जीवटता को नमन | हजारों सलाम इन चारों को | नारी शक्ति जिंदाबाद ---

इंजी. बैरवा
26 नवम्बर 2017

ऐसी लगनशील और कर्मठ बेटियों के लिए नमन....

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 नवम्बर 2017
तलाक कहूं या विवाह -विच्छेद ,बहुत दुखद होता है किन्तु बहुत सी शादियां ऐसी होती हैं जिनमे अगर तलाक न हो तो न पति जी सकता है और न पत्नी ,बच्चों के तो कहने ही क्या ,ऐसे में तलाक आवश्यक हो जाता है .हिन्दू विधि में तलाक के बहुत से ढंग कानून ने दिए हैं किन्तु उनमे बहुत सी बार इतना समय लग जाता
20 नवम्बर 2017
15 नवम्बर 2017
उत्तर प्रदेश में नगरपालिका चुनाव कार्यक्रम आरम्भ हो चुका है .चुनाव आचार संहिता अधिसूचना जारी होते ही लागू हो चुकी है .सरकारी घोषणाओं पर विराम लग चुका है ,सरकारी बंदरबाट फ़िलहाल उत्तर प्रदेश में बंद हो चुकी है किन्तु भारत के अन्य राज्यों की तरह यह राज्य भी संप्रभु नह
15 नवम्बर 2017
29 नवम्बर 2017
बचपन में अपने स्कूली पाठ्यक्रम में एक कहानी पढ़ी थी .जिसमे जंगल में एक जीव भागा जा रहा है और उससे जब अन्य जानवर ये पूछते हैं कि वह क्यों भागा जा रहा है तब वह कहता है ''कि आसमान गिर रहा है ,आसमान गिर रहा है ,पहले कोई यकीन नहीं करता पर
29 नवम्बर 2017
03 दिसम्बर 2017
बड़े बड़े शहरों में ,महानगरों में जाम की समस्या से सामना होता ही रहता है और इसे बड़े शहरों के लिए एक वरदान के रूप में स्वीकार भी लिया जाता है किन्तु छोटे कस्बे और गावों के लिए जाम को स्वीकार नहीं किया जा सकता इनमे ज़िंदगी आसान ही इसीलिए होती है क्योंकि इनमे किसी भी जगह ज
03 दिसम्बर 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x