"दोहा मुक्तक"

19 दिसम्बर 2017   |  महातम मिश्रा   (41 बार पढ़ा जा चुका है)

"दोहा मुक्तक"


पारिजात सुन्दर छटा, शम्भू के कैलाश।

पार्वती की साधना, पुष्पित अमर निवास।

महादेव के नगर में, अतिशय मोहक फूल-

रूप रंग महिमामयी, महके शिखर सुवास।।


हिमगिरि सुंदर छावनी, देवों का संसार।

कल्पतरु का वास जहाँ, फल फूले साकार।

जटा छटा शिर चाँदनी, पहिने शिव मृगछाल-

नयन रम्यता शिवपुरी, स्वर्गापति साकार।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: “कता”



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 दिसम्बर 2017
ये ऋतुबसंतबदलावमनमोहकप्रकृति अनंतमहकाये सुगंध।।-१क्यापलपहलपरछाईंपरिवर्तितपरम्परा प्रथापहचान बढ़ाएं।।-२महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
19 दिसम्बर 2017
28 दिसम्बर 2017
"पिरामिड"लोरोकोइसकोआग जलीपानी तो डालोव्यवधान भलीचिंगारी निकली क्या।।-१वोवहाँआवाजकिवाड़ हैखटक रहीकोई है जरूरबाधा है मगरूर।।-२महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
28 दिसम्बर 2017
12 दिसम्बर 2017
छंद - विधाता (मापनी युक्त ) मापनी- १२२२ १२२२ १२२२ १२२२“गीतिका”उषा की लाल लाली रे बता किरनें कहाँ छायीदिशाओं में अंधेरा ले खता कहने कहाँ आयीपरख ले खुद प्रभा है तूँ तुझे किसकी जरूरत हैनिगाहों से लुटेरा बन वफ़ा पहने कहाँ धायी॥मुझे अब भी वही फरियाद है नाशाद करती जो किसी का दिल
12 दिसम्बर 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x