मैंने अपनी मौत चुन ली है।

13 जनवरी 2018   |  Tejaswita Khidake   (57 बार पढ़ा जा चुका है)

उसने अपनी ज़िन्दगी चुन ली है,


मैंने अपनी मौत चुन ली है।


उसने अपनी राह चुन ली है,

मैं अपने मक़ाम पे पोहच चूका हु।


उसने अपने सपने छुपा रखे है,
मै अपने सपने जी चूका हु।


ए हवा ज़रा अपना रुख़ मोड़ना,
उस गली में जाके मेरा पैग़ाम देके आना,

उसको मेरा अलविदा कहना,

मैं अपनी मंज़िल तक पोहच चुका हु।


Tejaswita Khidake: मैंने अपनी मौत चुन ली है।

अगला लेख: Tejaswita Khidake: your life your choice



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 दिसम्बर 2017
खिलीं हैं रौनकें बुझता सा शामियाना हैनई रंगत में भी ग़मगीन आशियाना है...अभी तो दर्द-ए-सब मेरी तड़प के गुजरी हैअभी नए रंग के दर्द-ए-गमों को आना है...रुकी रुकी सी है तन्हा ये ज़िन्दगी मेरीन जाने कब तलक साँसों का आना-जाना है...किसी ने आज़ फ़िर पूछी है हृदय की हालतलहू छलका है और अन्दाज़ शायराना है...नया यौवन
31 दिसम्बर 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x