“गज़ल” रात कारी घटा चाँद ने देखिए॥

05 फरवरी 2018   |  महातम मिश्रा   (92 बार पढ़ा जा चुका है)

“गज़ल”


आइना पास है सामने देखिए

सूरतों की कसक मायने देखिए

आप भी बेवजह दाग धोने चलीं

नूर नैना नजर दाहिने देखिए॥


उठ रहें हैं धुआँ किस गली आग है

हद हवा उड़ चली भाप ने देखिए॥


घिर गई रोशनी धुंध की आड़ में

यह पुराना महल छाप ने देखिए॥


राख़ चिंगारियाँ दिल जलाती नहीं

हाल कंपन अधर ताप ने देखिए॥


कुछ दवा भी नहीं नाम इस दर्द का

हो सके तो पुनः आप ने देखिए॥


गैर गौतम गरज पर सुहाते सभी

रात कारी घटा चाँद ने देखिए॥


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: चौपाई



कवि भाव प्रेमी है जो रचना में यदा कदा निकल ही जाता है, हार्दिक धन्यवाद बहना

रेणु
06 फरवरी 2018

बहुत खूब - बड़े भैया !!!!!!!!!
आइना पास है सामने देखिए
सूरतों की कसक मायने देखिए--- सरस और सुंदर रचना | ------ सादर ---

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 फरवरी 2018
“पिरामिड”ये सीमा भारत पाकिस्तानसमझौता है बटवारा हुआ असंतोष क्यों है॥-१ ये हद बहाना उलंघनअतिक्रमण नाजायज हठधूर्त छल कपट॥-२ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
07 फरवरी 2018
08 फरवरी 2018
“कुंडलिया”इंद्र धनुष की यह प्रभा मन को लेती मोह हरियाली अपनी धरा लोग हुये निर्मोह लोग हुये निर्मोह मसल देते हैं कलियाँ तोड़ रहें हैं फूल फेंक देते हैं गलियाँ कह गौतम कविराय व्यथा कब पाये निंद्र नगर नगर पाषाण उगे क्यों छलिया इंद्र॥ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
08 फरवरी 2018
02 फरवरी 2018
“मुक्तक”लो आ गया अपने वतन तो दिल दीवाना हो रहा है। जब मिल गई धरती हमें तो नैन लगाना हो रहा है। जाकर मिला घर छोड़ अपना होकर पराया रह गया था- जमें आसुओं की धारा से बाग खिलाना हो रहा है॥-१ मजबूर माँ के आँसुओं की तस्वीर दिखा सकता नहीं चाह विदेशी हरगिज न थी रुपया उगा सकता
02 फरवरी 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x