“मुक्तक” माँ जगत की अन्नदाता भूख को भर दीजिये।

09 मार्च 2018   |  महातम मिश्रा   (110 बार पढ़ा जा चुका है)

“मुक्तक”


माँ जगत की अन्नदाता भूख को भर दीजिये।

हों सभी के शिर सु-छाया संग यह वर दीजिये।

उन्नति के पथ डगर पिछड़े शय शहर का नाम हो-

टप टपकती छत जहाँ उस गाँव को दर दीजिये॥-१


माफ कर जननी सुखी सारे सिपाही आप के।

बेटियों की हो रहीं कैसी बिदाई माप के।

जी रहें अंधेर में बिजली चिढ़ाती है कड़क-

खो गयी है प्रगति पथपर भार कंधे बाप के॥-२


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: ;जोगिरा , लाल गुलाबी नीली पीली श्याम रंग तस्वीर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 मार्च 2018
“गीतिका”रंग डालो लली है होलीगाओ फाग गली है होलीतब देख बहारें होली की भंग रसिया भली है होली॥चाल नागिन केश घुँघरालीनैन कजरा कली है होली॥पाँव लाली महावर लिए होठ दंतन खिली है होली॥आज छैला अधीर हुए हैं भाव भाभी भिगी है होली॥फिर न कहना ये क्या हो गया राग रस मन चली है होली॥देख ग
05 मार्च 2018
19 मार्च 2018
"कलह"आज का मानव सुख सुविधा और विलासिता का जितना जीवन नहीं जी पा रहा है उससे कहीं अधिक का जीवन कलह के साथ जीने पर मजबूर हो रहा है। टी.वी. सीरियल से लेकर समाचार हाउस तक कलह का साम्राज्य फैला हुआ है। अर्थ व्यर्थ में हलाल हो रहा है और खर्च तराजू पर तौला जा रहा है। आन-बान और श
19 मार्च 2018
19 मार्च 2018
छंद- आनंदवर्धक (मापनीयुक्त) मापनी- २१२२ २१२२ २१२“गीत”ऋतु बसंती रूठ कर जाने लगी कंठ कोयल राग बिखराने लगीदेख री किसका बुलावा आ गया छाँव भी तप आग बरसाने लगी मोह लेती थी छलक छवि छाँव की लुप्त होती जा रही प्रति गाँव कीगा रहे थे गीत गुंजन सावनी अब कहाँ रंगत दिवाली ठाँव की॥हो च
19 मार्च 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x