तुझे मुबारक हो

16 मार्च 2018   |   Rj अली हाशमी   (165 बार पढ़ा जा चुका है)

रह ही लेंगे बिछड़ कर तुझसे

तेरी याद तुझे मुबारक हो



कर ही लेंगे खुद को काबू सनम

तेरी मुहब्बत तुझे मुबारक हो



सह ही लेंगे गमे जुदाई का

तेरी तन्हाई तुझे मुबारक हो



तु लिखेगी क्या मुझको हरजाई

तेरी कलम तुझे मुबारक हों


Rj Ali Hashmi

अगला लेख: आओ कुछ बात करे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 मार्च 2018
बे
मैं तो इस वास्ते चुप हूं कि तमाशा न बनेउसने सब को बताकर सरेआम कर दियावे समझती है मुझे उससे मुहब्बत नहींउसने दिल को दुखाकर दर्देआम कर दियाकल बिछड़ना था तो फिर अहद ए वफा कर लेतीउसने दिल को लगाकर इश्क को बदनाम कर दियासोचता हूं मैं भी कर दूँ आंजाम ए मुहब्बतउसने आँखे मिलाकर क़त्लेआम कर दियाआज कुछ लिखने का
13 मार्च 2018
27 मार्च 2018
बचपन की कुछ यादेआज से 4 साल पहले जब हम साथ थे चेहरे पे मुस्कान थी जब मैं अपने गाँव से मुम्बई रवाना हुआ तो मैंने देखा की मैं बहुत कुछ छोड़ के जा रहा हूं पर कर भी क्या सकता था बस याद बनकर रह सा गया था जब इलाहाबाद स्टेशन पहुँच तो मैंने अपनी आँखे बंद कर ली ताकि अपने शहर को देख कर वापस न लौट जाऊ आँखे भर स
27 मार्च 2018
03 मार्च 2018
अब तर्के ताआलुक पर हम दोनों है आमादावह हमसे न बोलेंगे हम उनको भुला बैठेगर आपकी नीदों के सपने जो मिल जायेहम जागती आँखों में सपने को सजा बैठेहम कुछ भी नही उनके कहते है तो कहने दोपाएंगे हमी को ओ दिल जा भी लगा बैठेतुझे याद न आये तो तन्हाई में रोलेंगेगम तेरी जुदाई का हम दिल से लगा बैठेRj Ali Hashmi
03 मार्च 2018
11 मार्च 2018
मैं अपनी कवितायेँ शब्दनगरी में छ पवना चाहता हूँ. क्या करूँ
11 मार्च 2018
27 मार्च 2018
#मेरी_मातृभाषा_हिंदी'हिंदी मेरा मान है, हिंदी ही सम्मान हैहिंदी पर गर्व मुझको,हिंदी ही शान हैहिंदी से मैं हूँ, हिंदी मेरी जान है।हिंदी ही मेरी पहचान है।हिंदी मेरी भाषा है ,हिंदी ही मेरा ज्ञान हैहिंदी है परिवेश मेरा, हिंदी ही परिधान हैहिंदी से मे हूँ, हिंदी ही मेरी जान है।हिंदी ही मेरी पहचान है।धर्म
27 मार्च 2018
09 मार्च 2018
मू
सोचता हूँ गढ़ दूँ मैं भी अपनी मिट्टी की मूर्ति, ताकि होती रहे मेरे अहंकारी-सुख की क्षतिपूर्ति। मिट्टी-पानी का अनुपात अभी तय नहीं हो पाया है, कभी मिट्टी कम तो कभी पर्याप्त पानी न मिल पाया है। जिस दिन मिट्टी-पानी का अनुपात तय हो जायेगा, एक सुगढ़ निष्प्राण शरीर उभर आयेगा। कोई क़द्र-दां ख़रीदार भी होगा रखे
09 मार्च 2018
08 मार्च 2018
मैं और मेरी तन्हाई तुम्हे कुछ कहती हैसूनो मुझे मेरी हर कहानी कुछ कहती हैतुम्हे लगा मैं टूट जाऊंगामैं बेखर जाऊंगातुम्हारे जाने के बाद अरे जालिम मैं तो पत्थर दिल थाजिसे तुमने मोम कियातुम्हे लगा मैं भूल जाऊंगामैं सम्भल जाऊंगातुम्हारे जाने के बादसुनो मुझे मेरी हर कहानी कुछ कहती हैमैं और मेरी तन्हाई तुम्
08 मार्च 2018
05 मार्च 2018
को
कोई जब प्यार मे धोखा खा जाए फिर क्या करें , जब आँखों मे लहू आ जाए दिल को फिर कीस तरह समझाए दिल के हिस्से मे जब बेवफाई का खंजर आ जाए टूट के फिर कोई बिखर जाए लब पे
05 मार्च 2018
16 मार्च 2018
तलाश जारी है उन लोगो की जो खो गए है जिन्दगी के अन्धेरे रास्तो पे , मुझ से चल कर गए जो , मंजिलो के रास्तों पे लाऊ उनको अब ढूंढ के कहा से जो चले गए है इतनी दूर की
16 मार्च 2018
06 मार्च 2018
रू
इस तरह रोज आना ठीक नहीमेरी नींदे चुराना ठीक नहीमुझसे कहती हो पास आ जाओइस तरह दिल लगाना ठीक नहीतुम तो कहते हो रूठना मत तुमइस तरह दूर जाना ठीक नही दूर जा करके भूल जाओगेइस तरह भूल जाना ठीक नही Rj Ali Hashmi
06 मार्च 2018
18 मार्च 2018
या
माँ तु अबभी याद आती हैतेरी हर कहानी तेरी जुबानीव बचपन के किस्से हमे याद आता हैमाँ तु अब भी याद आती हैतेरी लोरी सुनाना व गुन गुनानाव बचपन मे चलना सीखना याद आता हैमाँ तु अब भी याद आती हैतेरी आँचल मे छुपना तेरी हाथो से खानाव बचपन मे तेरे हाथो से मार खाना याद आता हैमाँ तु अब भी याद आती हैतेरा गिनती सीखन
18 मार्च 2018
14 मार्च 2018
यहाँ सब ख़ामोश है कोई आवाज़ नहीं करतायह मुम्बई है साहब कोई अपना भी बात नही करता लोग पहचान कर भी अनजान बने रहते है समंदर की लहरो की तरह जैसे वह किनारो को पहचान कर भी अनजान बनी रहती हैयहाँ लोगो को फुरसत कहा खुद से साहबलोग मिलते तो है पर अजनबी की तरहहर सख्स मस्त है कोई गैरो के साथ नही चलतासच बोलकर कोई
14 मार्च 2018
09 मार्च 2018
मै
चन्द पैसो मे बिकता नही ये अली तुमने बोली लगाकर के ये क्या किया गर मुहब्बत न थी तो कह देते तुम तुमने दिल को दुःखाकर के ये क्या किया सारी खुशीओ को तुमपे लुटा देता मैं तुमने अपना बनाकर के ये क्या किया सोचता हूँ की कह दू मैं चीखकर तुमने दिल मे बसाकर के ये क्या किया Rj Ali Hashmi
09 मार्च 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x