मेरा दोस्त

25 मार्च 2018   |  दीपिका तिवारी   (94 बार पढ़ा जा चुका है)

पहले आँगन में रहता था, अब खिड़की पे आता है।


मुस्का के अपना उजला मुखड़ा कुछ यूँ दिखलाता है।


देख के उसको खुश होती, मैं हौले से मुस्काती हूँ।


झटपट सीढ़ी चढ़कर छत पर मैं आ जाती हूँ।


प्यारी प्यारी बातें करता, कितना मुझे हँसाता है।


परेशानी में देख मुझे वह अच्छे से समझाता है।।


अपने मन की सारी दुविधा मैं उससे साझा करती हूँ।


पास बैठ कर उसके, मैं खुश हो जाया करती हूँ।


मेरी बूद्धू बातें सुनकर भी वह सदा यूँ ही मुस्काता है।


जब मैं हो जाऊँ गुस्सा, आ पास मेरे फुसलाता है।।


मेरी बकझक को भी वह ऐसे सुनता रहता है,


उन बातों से भी वह ना जाने क्या क्या गुनता है?

कितना भी बोलूँ मैं उससे, इक बार भी ना उबकाता है।


सारी रातें, करते बातें, ना जाने कब दिन आ जाता है?


जब पास नहीं होता तो बीती बातें सोचा करती हूँ।


कभी-कभी सपनों में भी मैं उसको देखा करती हूँ।


बचपन का वह दोस्त मेरा, सबके घर में आता है।


वह कोई और नहीं, सबका चन्दा मामा कहलाता है।।

अगला लेख: लेख को शेयर करना



mnojpoptani
31 मार्च 2018

supar......

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x