बड़ों की जिद और बचपन का भविष्य

07 अप्रैल 2018   |  हरीश भट्ट   (49 बार पढ़ा जा चुका है)

 बड़ों की जिद और बचपन का भविष्य

सब घालमेल है. सरकारी स्कूलों में बच्चे नहीं हैं. सरकारी स्कूल बंद कर रही है. एक्सपर्ट टीचर को यहां-वहां समायोजित कर रही है. दूसरी ओर निजी स्कूल हैं. फीस लगातार बढ़ाते हैं. अपनी मनमर्जी से सिलेबस तय करते हुए बुक्स और अपने मनमाफिक बुक सेलर से बुक खरीदने को कहते हैं. पैरेंट्स मान रहे हैं निजी स्कूल में अनुभवहीन टीचर बच्चों को नहीं पढ़ाते हैं. स्कूल बच्चों की आड़ में पैरेंट्स पर दबाव बनाते हैं. स्कूल में कम और घर पर ज्यादा काम करना पड़ता है. लेकिन जिद्दीपन देखिए न स्कूल मान रहे हैं ना पेरेंट्स. जहां सरकार बच्चे ना होने की वजह से स्कूलों को बंद कर रही है वही निजी स्कूलों में ही बच्चों को पढ़ाने की चाहत वाले पेरेंट्स को निजी स्कूल और बुक्स पब्लिकेशंस हाउस वाले जम कर दोहन कर रहे हैं. सरकारी स्कूल में बच्चे हो तो टीचर्स के लिए सरकार पर दबाव बनाया जा सकता है. बनाना भी होगा. हर 5 साल में सरकार बदलती है. लेकिन हालात नहीं. तब किस को दोष दे सरकार को या सरकार बनाने वालों को. निजी स्कूल पैसा कमाने के लिए ही खुले हैं. तब वह पैसा क्यों नहीं कमाएंगे. पेरेंट्स निजी स्कूल में बच्चों के एडमिशन नहीं कराएंगे, तब वह तो खुद ब खुद ही बंद हो जाएंगे. कि वहां पर बच्चों पर ध्यान नहीं दिया जाता है अनुभवहीन कम सैलरी वाली टीचर का ध्यान ट्यूशन पर ज्यादा होता हैं. देखा जाए तो यह भी वोट बैंक की राजनीति का ही हिस्सा है. बड़ों की जिद और बचपन का भविष्य कहां ले जायेगा यह तो आने वाले वक़्त में ही पता चलेगा. फ़िलहाल तो स्थिति चिंताजनक है.

अगला लेख: जब सवाल को मिल जाए मोक्ष



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x