“दोहा”

01 मई 2018   |  महातम मिश्रा   (39 बार पढ़ा जा चुका है)

“दोहा”


चक्र सुदर्शन जोर से घूम रहा प्रभु हाथ

रक्षा करें परमपिता जग के तारक नाथ।।-१


जब जब अंगुली पर चढ़ा चक्र सुदर्शन पाश

तब तब हो करके रहा राक्षस कुल का नाश।।-२


महातम मिश्र गौतम गोरखपु

अगला लेख: यह एक स्वस्थ सुझाव



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 मई 2018
“गीतिका”रात की यह कालिमा प्रहरी नहीं दिन उजाले में डगर ठहरी नहींआज वो भी छुप गए सुबहा हुई जो जगाते समय को पहरी नहीं॥ रोशनी है ले उड़ी इस रात को तब जगाती पकड़ दोपहरी नहीं॥चाहतें उठ कर बुलाती शाम कोगीत स्वर को समझना तहरी नहीं॥ताल जाती बहक बस इक भूल परज़ोर ठुमका कदम कद महरी नही
16 मई 2018
03 मई 2018
“कुंडलिया”टकटक की आवाज ले चलती सूई तीन मानों कहती सुन सखा समय हुआ कब दीनसमय हुआ कब दीन रात अरु दिवस प्रणेता जो करता है मान समय उसको सुख देताकह गौतम कविराय न सूरज करता बकबकचलता अपनी चाल प्रखर गति लेकर टकटक॥ महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
03 मई 2018
14 मई 2018
"रोला छंद"जय जय सीताराम नाम जप लो अनुसारी।रटती रसना नाम सियापति अवध बिहारी।।राधे राधे श्याम गीर धरि नख गिरधारी।भाग कालिया भाग नाग नथ नथें मुरारी।।-१गौरी पति महादेव आप शिव गौरीशंकर।देवों के प्रभु देव आप है महा निरंकर।।लक्ष्मीपति हरिनाथ है क्षीरसिंधु निवासाचँवर डुलाएँ मातु
14 मई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x