दिल उनकी अदाओं पे मरने लगा है

03 मई 2018   |  vikas khandelwal   (65 बार पढ़ा जा चुका है)

कोई आजकल हमसे प्यार करने लगा है



दिल हमारा भी धड़कने लगा है



बसन्ती बहार चलने लगी है



दिल मे गुलाब प्यार का खिलने लगा है



उनका चेहरा है या चाँद है पूनम का



जब भी देखता हु उनको , हसरतों को अपनी सम्भाल नहीं पाता हू



कोई आजकल इतना करीब रहने लगा है



मेरा तन मन उसकी खुशबु से महकने लगा है



दिल उनकी अदाओ पे मरने लगा है



और जिस्म जो है उनकी हसरत करने लगा है



शमा बन कर वो तो जलेंगे आज रात भर



लेकिन ये परवाना उनका जलेगा उम्र भर



हसीन कातिल रात में लेकिन, प्यार हद से गुजरने लगा है

अगला लेख: माँ तुम बड़ी याद आती हो



अच्छी पंक्तियाँ हैं

vikas khandelwal
04 मई 2018

थैंक्स सर जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 मई 2018
मंज़िल से भटक गया हु प्यार कि राहो मे जो आ गया हु ऐसा लगता कि काबा काशी हो आया हु तेरे पहलू मे जो आ गया हु मुझे उनके घर ना ढूंढें कोई मैं तो उनके दिल मे रहने लगा
06 मई 2018
30 अप्रैल 2018
अधिक पाने की चाहत में यहाँ थोड़ा भी खोया हैवही काटा है इंसा नें जो निज हाथों से बोया हैस्वप्न जब टूटते हैं आँखों में आंसू नही दिखतेकोई तो झांक कर देखे ये मनवा कितना रोया हैबुझा चेहरा थकी आँखें बातें बोझिल सी करता है गुमां होता है यूँ इंसान वो कब से ना सोया हैबड़ा मज़बूर है इंसा जुदा बाहर से दिखता है ज
30 अप्रैल 2018
06 मई 2018
कविता..... कविता ! तू मेरे मन की कसकतू है उमंग अरमानों की,शब्दों में तरल तरंगित होबहती दिल में, दीवानों की....कभी टीस ह्रदय की बन करके उद्वेलित करती मन, विचार,कभी करुणा, दया, स्नेह लेकरबिखराती स्नेहिल, मृदुल प्यार...कभी रौद्र रूप, कभी घ्रणित भेष,कभी वीर शब्द के चमत्कार,कभी शांत कभी, श्रृंगार कभी कभी
06 मई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x