मैं अपने आप को कही भूल आया हु

06 मई 2018   |  vikas khandelwal   (95 बार पढ़ा जा चुका है)

मंज़िल से भटक गया हु



प्यार कि राहो मे जो आ गया हु



ऐसा लगता कि काबा काशी हो आया हु


तेरे पहलू मे जो आ गया हु


मुझे उनके घर ना ढूंढें कोई



मैं तो उनके दिल मे रहने लगा हु



कभी उनकी धड़कनो से खेल ता हु



कभी उनके होठो पे मुस्कान बनके सजने लगा हु



कभी ख़्वाब बनके उनकी आँखों मे रहने लगा हु



अब तो मुकदर पे अपने मुस्कुराने लगा हु



उनके इतना क़रीब रहने लगा हु



कि ख़ुद से हि आजकल दूर हो गया हु

अगला लेख: प्यार का मुझपे से जरा बुखार उतर जाने दो



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 मई 2018
प्
प्यार का मुझपे से जरा बुखार उतर जाने दो बारिश कि कुछ बुँदे मुझपे जरा गिर जाने दो दिल के हालत जरा संभल जाने दो फिर आना तुम मेरे अंगना पहले आदमी को आदमी जरा बन जाने दो तुम क्या जानो
21 मई 2018
20 मई 2018
मो
बरसात के मौसम में मोहब्त हो ना जाए दिल तुझको देख के तुझे पाने को मचल ना जाए सितारा टूट ना जाए चाँद अकेला हो ना जाए तन्हा रात मे दीवाना हो ना जाए ऐ
20 मई 2018
03 मई 2018
दि
कोई आजकल हमसे प्यार करने लगा है दिल हमारा भी धड़कने लगा है बसन्ती बहार चलने लगी है दिल मे गुलाब प्यार का खिलने लगा है उनका चेहरा है या चाँद है पूनम का जब भी देखता हु उनको , हसरतों को अपनी सम्भाल नहीं
03 मई 2018
04 मई 2018
वो
खुद को गैरो के लिए कुरबान कर देता हु काफ़ी कोशिश कि मैंने , फिर भी अच्छा इन्सान नहीं बन पाता हु कभी खुद को देखता हु , कभी आईने को अब पहले जैसा खुद को नहीं पाता हु वो तो सिर्फ एक ख्याल भर है मै
04 मई 2018
22 अप्रैल 2018
शब्द नगरी पर मित्र कैसे बनाए जा सकते हैं?
22 अप्रैल 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x