"अब कितनी बार बाँटोगे"

14 मई 2018   |  महातम मिश्रा   (39 बार पढ़ा जा चुका है)

"अब कितनी बार बाँटोगे"


अब कितनी बार बाँटोगे यही कहकर सुनयना ने सदा के लिए अपनी बोझिल आँख को बंद कर लिया। आपसी झगड़े फसाद जो बंटवारे को लेकर हल्ला कर रहे थे कुछ दिनों के लिए ही सही रुक गए। सुनयना के जीवन का यह चौथा बंटवारा था जिसको वह किसी भी कीमत पर देखना नहीं चाहती थी सबने एक सुर से यही कहा कि दादी किसी भी बंटवारे से बहुत दुखी हो जाती थीं। जब वह व्याह कर आयी तो इस परिवार का पहला बंटवारा अजिया ससुर का हुआ था जो इन्हें अच्छा तो न लगा पर कर ही क्या सकती थी। कुछ एक साल ही बीता कि इनके ससुर जो दो भाई थे अलग-बिलग हो गए, लोग बताते हैं कि चार दिनों तक इन्होंने खाना नहीं खाया था और निश्चय कर लिया कि अपने पति को उनके भाइयों से अलग नहीं होने दूँगी। मिशाल भी कायम किया सुनयना ने बहुत कुछ सहन करके परिवार को एकजुट रखा पर समय के परिवर्तन किसका बस चला है टूट गईं जब परिवार तीसरी बार बँटकर बिखर गया। न वह शान रही न मर्यादा सब कुछ मिट्टी में मिलते अपनी उन्हीं आँखों से देखती रही जिसकी सुंदरता से बशीभूत होकर उनके पिता जी ने सुनयना नाम रखा था।


उम्र जब पचासी पार कर गई तो उनके खुद के बच्चों ने कलह शुरू कर दिया। सुनयना ने बहुत समझाया कि मेरे मरने के बाद ही अब तुम लोग अपने मन की करना, मेरे जीते जी चौथा बँटवारा संभव नहीं है। दश वर्ष कसमकश में निकला और उनके तीनो लड़के अपने बाल-बच्चों को लेकर शहर पकड़ लिए पर पुस्तैनी जमीन का मोह लिए सुनयना ने घर को अपने कमजोर हाथों से अकेले पकड़े रखा कि गर्मी की छुट्टी में सबका आना हुआ और बँटवारे की मंशा बलवती हो गई और श्राद्ध कर्म करके पूर्ण भी हो गई। सुनयना के एक नाती ने याद दिलाया कि दादी के तस्वीर के नीचे लिखवा दो न पापा,कि "अब कितनी बार बाँटोगे"


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: यह एक स्वस्थ सुझाव



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 मई 2018
“दोहा”चक्र सुदर्शन जोर से घूम रहा प्रभु हाथरक्षा करें परमपिता जग के तारक नाथ।।-१ जब जब अंगुली पर चढ़ा चक्र सुदर्शन पाशतब तब हो करके रहा राक्षस कुल का नाश।।-२ महातम मिश्र गौतम गोरखपु
01 मई 2018
11 मई 2018
“मुक्तक”तुझे छोड़ न जाऊँ री सैयां न कर लफड़ा डोली में। क्या रखा है इस झोली में जो नहीं तेरी ठिठोली में। आज के दिन तूँ रोक ले आँसू नैन छुपा ले नैनों से- दिल ही दिल की भाषा जाने क्या रखा है बोली में॥-१ “मुक्तक” २१२२ २१२२ २१२२ २१२२दर किनारे हो गए जब तुम किनारे खो गए थे उस समय
11 मई 2018
16 मई 2018
“पिरामिड”है सुखनगर बिनाघरकिरायेदार आनंदातिरेक प्रलोभन प्रत्येक॥-१है छद्म छलावाहर्षोत्कर्ष कल उत्कर्ष हृदय कस्तुरी वन नाचे मयूरी॥-२ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
16 मई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x