माया खाडवे की कहानी आपको हौसला देगी, कूड़ा बीनने वाली महिला बन गई सिटिजन जर्नलिस्ट !

15 मई 2018   |  प्राची सिंह   (112 बार पढ़ा जा चुका है)

माया खाडवे की कहानी आपको हौसला देगी, कूड़ा बीनने वाली महिला बन गई सिटिजन जर्नलिस्ट !

जिस तरह पानी अपना रास्ता खुद तलाश लेता है ठीक उसी तरह टैलेंट भी अपना रास्ता खोज निकालता है। महाराष्ट्र की माया खाडवे की कहानी भी कुछ ऐसी है। माया ने पढ़ाई लिखाई नहीं की है, मुफलिसी ने उनसे कूड़ा बीनने का काम कर करवाया। लेकिन माया जानती थी कि वो इसके लिए नहीं बनी हैं, उन्हें लोगों के रुखे व्यवहार से बड़ी टीस पहुंचती थी। माया ने बीच का रास्ता निकाला, जिसने न सिर्फ उनका स्टेटस बदला बल्कि इलाके के तस्वीर भी बदल कर रख दिया।


माया ने पीएम मोदी के हर कदम और मिशन को बड़ी गंभीरता से लिया। जिस 4जी क्रांति की बात प्रधानमंत्री करते हैं, उसी के सहारे उन्होंने स्वच्छता अभियान को एक दिशा दी। माया ने अपने आस पास की गंदगी को फोन में कैद करना शुरू किया। फिर उसके वीडियो को लोगों और अधिकारियों को दिखाने शुरू किए। देखते ही देखते माया की पहल रंग लाने लगी। वो बताती हैं कि जब पहली बार मैंने अधिकारी को वीडियो दिखाया तो उसका असर हुआ। गली के बाहर फैली गंदगी तो तुरंत साफ करवा दिया गया। यहां से मुझे दिशा मिली।

वैसे तो माया ने पढ़ाई-लिखाई नहीं की है लेकिन अब वो बिना झिझक के लैप टॉप को चला लेती हैं। अब उनके पास कैमरे वाला फोन है, जहां भी गंदगी देखती हैं उसे रिकॉर्ड कर लेती हैं। फिर उस वीडियो को लैपटॉप में एडिट करती हैं और अधिकारियों को दिखाती हैं। उनके इस प्रयास से वह न सिर्फ काफी लोकप्रिय हो चुकी हैं बल्कि इलाके के सभी अधिकारी उनको जानते हैं। वो बताती हैं कि पहले जब मैं रिकॉर्डिंग करती थी तो हंसा करते थे, अब वही लोग गंदगी की शिकायत लेकर मेरे पास आते हैं।


माया ने बताया कि पढ़ाई लिखाई नहीं की है लेकिन मोबाइल चलाना सीखा तो हिम्मत मिली। इसी की मदद से कंप्यूटर चलाना सीखा और अब इस सिटीजन जर्नलिस्ट बन चुकी हैं।


Know About Maya Khadwe Garbage Collectors Now Become Renowned Citizen Journalist - माया खाडवे की कहानी आपको हौसला देगी, कूड़ा बीनने वाली महिला बन गई सिटिजन जर्नलिस्ट

https://www.firkee.in/feminism/know-about-maya-khadwe-garbage-collectors-now-become-renowned-citizen-journalist

अगला लेख: 'मां कसम'! फिल्मों के ये 10 डायलॉग्स अंदर तक हिला देंगे आपको |



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 मई 2018
FollowThird party image referenceसियासत में न दोस्त स्थाई होते हैं , न दुश्मन . मौके की नजाकत हमेशा नए रिश्ते की बुनियाद रखता है . कल देर शाम अखिलेश यादव जब काली मर्सिडीज में बैठकर मायावती के घर पहुंचे तो इस नए रिश्ते की बुनियाद रख दी गई . यूपी के गेस्ट हाउस कांड के बाद श
22 मई 2018
24 मई 2018
प्रसिद्ध श्री गंगा माता शंखोद्वार प्राचीन मंदिर गांधीसागर बैक वाटर से करीब 12 साल बाद बाहर आ गया है। महाभारत काल के माने जाने वाले इस मंदिर को देखने और पूजन के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं का पहुंचना शुरू हो गया है।राजस्थान को अधिक पानी देने से बैक वाटर क्षेत्र में पानी
24 मई 2018
26 मई 2018
बरेली से एक दूल्हा अपनी दुल्हन को लेने 35 बरातियों के साथ पाकिस्तान पहुंच गया। वहां रस्मों रिवाज से निकाह कर दुल्हन के साथ इंडिया वापस लौटा। इस दौरान देश के दोनों बॉर्डर पर सेनाओं और अफसरों ने स्वागत किया। कोई नजर उतार रहा तो कोई बलाएं लेने में लगा है। 30 दिन के लिए आई इस
26 मई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x