प्यार का मुझपे से जरा बुखार उतर जाने दो

21 मई 2018   |  vikas khandelwal   (75 बार पढ़ा जा चुका है)

प्यार का मुझपे से जरा बुखार उतर जाने दो



बारिश कि कुछ बुँदे मुझपे जरा गिर जाने दो



दिल के हालत जरा संभल जाने दो



फिर आना तुम मेरे अंगना



पहले आदमी को आदमी जरा बन जाने दो



तुम क्या जानो पीर पराई



तुम क्या जानो प्रियतम कि याद में आँखे कितना रोई



है ये मोहबत कि रुस्वाई



जो जीवन मे तन्हाई पाई



कोई भी आकर नहीं कर सकता भरपाई



साजन चले जाना छुड़ा के दामन लेकिन



पहले मुझे आदत तन्हा जीने कि जरा पड़ जाने दो



प्यार का मुझपे से जरा बुखार उतर जाने दो



बारिश कि कुछ बुँदे मुझपे जरा गिर जाने दो



सुलगता बदन जरा बुझ जाने दो



प्यार का मुझपे से जरा.............!


अगला लेख: ये मुलाकात आखरी है



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 मई 2018
क्
क्यु नाराज़ हो तुम हर खता क़बूल है मेरे लिए अनमोल हो तुम , तुम्हारी दी हर सज़ा क़बूल है जलते है हम दिए कि तरह बोल दो बस इक बार , तुम्हारी रौशनी क़बूल है
30 मई 2018
18 मई 2018
बदलती प्रकृति बदलती हरियाली और बदलता ये जहा ये मौसमे और की मानवों बढ़ती की आबादी ये बरसात के बुँदे और गर्मी में पशीनो की बुँदे ये लेती करवटे मोसमे न वर्षा ऋतू न बसंत ऋतू और गर्मी में भी बरसते बदल के बुँदे एक _दूसरे के
18 मई 2018
06 मई 2018
मंज़िल से भटक गया हु प्यार कि राहो मे जो आ गया हु ऐसा लगता कि काबा काशी हो आया हु तेरे पहलू मे जो आ गया हु मुझे उनके घर ना ढूंढें कोई मैं तो उनके दिल मे रहने लगा
06 मई 2018
20 मई 2018
मो
बरसात के मौसम में मोहब्त हो ना जाए दिल तुझको देख के तुझे पाने को मचल ना जाए सितारा टूट ना जाए चाँद अकेला हो ना जाए तन्हा रात मे दीवाना हो ना जाए ऐ
20 मई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x