जाने ये किसका दोष है

22 मई 2018   |  शिशिर मधुकर   (134 बार पढ़ा जा चुका है)

जाने ये किसका दोष है

ढूंढ़ते हैं हम जहाँ पे ज़िन्दगी मिलती नहीं
जाने ये किसका दोष है कलियां अब खिलती नहीं

पत्तियां इस पेड़ की खामोश हैं मायूस हैं
जब हवा ही ना चले तन्हा ये हिलती नहीं

इस कदर कमज़ोर है कुछ आज धागा प्रेम का
लाख कोशिश कर ले कोई चोटें तो सिलती नहीं

गर्द इतनी जम चुकी है रिश्तों के संसार में
कुछ भी कर लो मोटी परतें इसकी अब छिलती नहीं

झांक लो अब जिस भी घर में केवल यही तुम पाओगे
रोटियां वो प्रेम की मधुकर कहीं बिलती नहीं

अगला लेख: भंवर रिश्तों के



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 मई 2018
ते
नज़र भर के देखु तुझे तेरा प्यारा रूप चुरा लु इतना हो जाए तेरा मुझ पे एतबार तेरे लबों से तेरा इनकार चुरा लु फूल जो खिले तेरे मन मे , मेरे प्यार का
28 मई 2018
29 मई 2018
कोई तो बात है अदावत है जो हमसे हज़ारों को चाँद को कुछ नहीं होगा जा के कह दो सितारों को जलो कितना भी तुम सूरज ताप अपना दिखाने कोरोक फिर भी न पाओगे तुम आती बहारों को मकां ऊंचा बनाने की हम ही तो भूल कर बैठेसमझ आता नहीं कैसे गिराएं अब दीवारों को कहीं गहराई जो होती तो हम भी सर झुका लेतेझुकाएं सर
29 मई 2018
10 मई 2018
दो दिल जहाँ नज़दीक हों और खुल के मन की बात होवो पल अगर तुम थाम लो हरदम सुहानी रात हो झुलसा सा तन उलझा सा मन और तुम कहीं से आ गएनभ में घटाएं छा गईँ कैसे ना अब बरसात हो ओस से भीगा समां और ठंडी ठंडी ये सुबहतुम ढली जाती हो मुझपे ज्यूँ महकता पारिजात हो प्यार का गुल खिल गया तो फिर ये मुरझाता नहींचाहे मुकद
10 मई 2018
10 मई 2018
दो दिल जहाँ नज़दीक हों और खुल के मन की बात होवो पल अगर तुम थाम लो हरदम सुहानी रात हो झुलसा सा तन उलझा सा मन और तुम कहीं से आ गएनभ में घटाएं छा गईँ कैसे ना अब बरसात हो ओस से भीगा समां और ठंडी ठंडी ये सुबहतुम ढली जाती हो मुझपे ज्यूँ महकता पारिजात हो प्यार का गुल खिल गया तो फिर ये मुरझाता नहींचाहे मुकद
10 मई 2018
26 मई 2018
ये माना रास्ते मुश्किल हैं और मन उदास हैज़िन्दगी से नहीं शिकवा अगर रहती वो पास हैहर तरफ आग बरसे है कहीं बादल नहीं दिखतेधरा फिर से हरी होगी मगर पलती ये आस हैबेरुखी जिसने की मुझसे उसे मैंने वहीँ छोड़ामगर तुमको नहीं छोड़ा कहीं पे कुछ तो ख़ास हैमुझे मंज़ूर है सब कुछ मगर अपमान चुभता हैऐसे इंसान की सूरत क
26 मई 2018
21 मई 2018
जि
इस मायावी दुनिया में भाँती -भांति के लोग,सबकी अपनी जिन्दगी,कोई अदरक तो कोई सोंठ,किसी की जगह आलू जैसी,तो कोई थाली का बैगन,अहमियत होती सबकी अपनी,जैसे व्यंजनों में नोन,रसगुल्ले का रस-सा घोलती माँ की प्यारी लोरियां,पेड़े पर छपी चन्द्र कलाएं जैसी बच्चों की ह्ठ्खेलियाँ,गुझियाँ -सा बंधा परिवार में बड़ों का अ
21 मई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x