हमारा परिवार

23 मई 2018   |  गौरीगन गुप्ता   (98 बार पढ़ा जा चुका है)

छोटा-सा,साधारण-सा,प्यारा मध्यमवर्गीय हमारा परिवार,

अपने पन की मिठास घोलता,खुशहाल परिवार का आधार,

परिवार के वो दो,मजबूत स्तम्भ बावा-दादी,

आदर्श गृहणी माँ,पिता कुशल व्यवसायी,

बुआ-चाचा साथ रहते,एक अनमोल रिश्ते में बंधते,

बुजुर्गों की नसीहत से,समझदार और परिपक्व बनते,

चांदनी जैसी शीतलता माँ में,पिता तपते सूरज से,

खौफ इतना,आभास जरा सा,सब नौ-दौ ग्यारह हो जाते,

मुखिया,बावा की मर्जी बगैर ,घर का पत्ता तक न हिलता,

छांव तले अनुशासन से ,सौहाद्र की भावना का बीज पड़ता,

बावा,दादी को 'चिंटू की अयैया',दादी 'चिंटू' कह बावा को बुलाती,

सप्तक दशक पार 'माडर्न दादी',बातों में सबके छक्के छुड़ाती,

लड़ते भाई-बहिन का शोर सुन,बावा-दादी बीच-बचाव करने आते,

ये क्या?/झगड़ा सुलटाते-सुलटाते,खुद आपस में भीड़ जाते,

माहौल गरम भांप,खसक वहां से,बिस्तर में गुल जाते,

डांट खाने की चिंता ,डर में,सुबह जल्दी उठ जाते,

सर्दी हो या गर्मी ,तडके पांच बजे भोर हो जाती,

दादी सबको पड़ने को जगा,गाय-भैंस में लग जाती,

समय के पावंद ,भ्रमण लौट बावा,नहा-धौ,चाय-नाश्ता करते,

लाठी अपनी उठा,मन्दिर से दोस्त-यारो से मिलने निकल पड़ते,

याद उन दिनों की आती,जब मेला लगता ,रामलीला होती या सर्कस जाते,

भैय्या बावा के कंधे पर बैठ,हम सब दादी ऊँगली थाम पीछे हो लेते,

इधर-उधर भागते,सोफ्टी खाते,मूंगफली चबाते,झूले झूलते चाट-पकोड़ी चाटते,

जब बात नही मनती हमारी,तो,भैय्या को उकसा कर अपनी लाग लगाते,

मौज-मस्ती कर,थकहार कर,पर,प्रसन्न मन घर लौटते,

रात बिस्तर में दादी से किस्से- कहानी सुन सो जाते,

बात जब होती दोस्तों में,घूमने-फिरने ,मौज-मस्ती या बावा-दादी की,

सुनने वाले थक जाते इतना सब सुन,दोस्तों में अपनी धाक जम जाती,

बात छिड़ती जब,बचपन के बीते बावा-दादी संग दिनों की ,

मन पंख लगा पहुँच जाता,गलियारों,मेलों में,बीते दिनों की,

आज अहसास होता हैं,परिवार के महत्वता की,

एकजुटता ही बुनियाद हैं,जीवन के आधार की,

जमाना बदला ,सोच बदली, 'छोटा परिवार,सुखी परिवार' सूचक बन गये,

पर,सत्य यही हैं, 'दुआएं लुटाते बावा-दादी' ही,खुशहाल परिवार की नींव होते.

अगला लेख: हमारा परिवार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 मई 2018
बदलती प्रकृति बदलती हरियाली और बदलता ये जहा ये मौसमे और की मानवों बढ़ती की आबादी ये बरसात के बुँदे और गर्मी में पशीनो की बुँदे ये लेती करवटे मोसमे न वर्षा ऋतू न बसंत ऋतू और गर्मी में भी बरसते बदल के बुँदे एक _दूसरे के
18 मई 2018
21 मई 2018
जि
इस मायावी दुनिया में भाँती -भांति के लोग,सबकी अपनी जिन्दगी,कोई अदरक तो कोई सोंठ,किसी की जगह आलू जैसी,तो कोई थाली का बैगन,अहमियत होती सबकी अपनी,जैसे व्यंजनों में नोन,रसगुल्ले का रस-सा घोलती माँ की प्यारी लोरियां,पेड़े पर छपी चन्द्र कलाएं जैसी बच्चों की ह्ठ्खेलियाँ,गुझियाँ -सा बंधा परिवार में बड़ों का अ
21 मई 2018
06 जून 2018
जल्दी चलो माँ,जल्दी चलो बावा,देर होती हैं,चलो ना,बुआ-चाचा,बन ठनकर हंसते-मुस्कराते जाते,परीक्षा फल सुनने को अकुलाते,मैदान में परिजन संग बच्चों का तांता कतार बद्ध थे,विराजमान शिक्षकों के माथे पर बल पड़े हुए थे,पत्रकफल पा,हंसते-रोते ,मात-पिता पास दौड़ लगते, भीड़ छट गई,शिक्षकों के सर से बोझ उतर गये,तभी,ती
06 जून 2018
13 मई 2018
मा
माँ तुम बड़ी याद आती हो क्यू नहीं अपनी लोरिया सुनाने वापस आ जाती हो बिगड़ गया है तुम्हारा बेटा क्यू आके डाट नहीं लगाती हो माँ तुम बड़ी याद आती हो देखता हु दुनिया
13 मई 2018
15 मई 2018
छोटा-सा ,साधारण -सा मध्यमवर्गीय हमारा परिवार,अपनेपन की मिठास घोलता,खुशहाल परिवार का आधार,परिवार के वो दो मजबूत स्तम्भ थे बावा -दादी,आदर्श गृहणी थी माँ,पिता कुशल व्यवसायी,बुआ,चाचा साथ रहते,एक अनमोल रिश्ते में बंधते,बुजुर्गो की नसीहत से समझदार और परिपक्व बनते,मुखिया बावा
15 मई 2018
20 मई 2018
मो
बरसात के मौसम में मोहब्त हो ना जाए दिल तुझको देख के तुझे पाने को मचल ना जाए सितारा टूट ना जाए चाँद अकेला हो ना जाए तन्हा रात मे दीवाना हो ना जाए ऐ
20 मई 2018
27 मई 2018
टेड़ी मेड़ी मतवाली सी लहर बन अपना मार्ग प्रशस्त करती, पर आज, नीरव निस्तब्धता इसकी खतरे काआगाज़ करती, सरिता नीर से धरती संचित करते करते तटों पर सिमटती सी, जीवन दायिनी की जीवान्तता शनैः शनैः खत्म होती सी, भंवर में फंसी नाव कई-कई उतार चढ़ाव सहती, फ़िसल गया चप्पू, छोड़ गया खिवैया, अनाथ हो गईं नाव, पर, स
27 मई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x