12 साल बाद पानी से बाहर आया ये महाभारतकालीन मंदिर !

24 मई 2018   |  प्राची सिंह   (85 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रसिद्ध श्री गंगा माता शंखोद्वार प्राचीन मंदिर गांधीसागर बैक वाटर से करीब 12 साल बाद बाहर आ गया है। महा भारत काल के माने जाने वाले इस मंदिर को देखने और पूजन के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं का पहुंचना शुरू हो गया है।


राजस्थान को अधिक पानी देने से बैक वाटर क्षेत्र में पानी काफी कम होने से यह स्थिति बनी है। चंबल नदी पर बने गांधीसागर बांध के निर्माण के वक्त नीमच से करीब 65 किमी दूर चचौर के नजदीक के उक्त प्राचीन मंदिर के साथ कई गांव भी डूब गए थे। बांध में जल स्तर 1100 मीटर होने पर मंदिर के शिखर से 5 फीट ऊपर तक पानी रहता है। इस बार पड़ोसी राजस्थान को अधिक पानी देने की वजह से डूब क्षेत्र में पानी का लेवल काफी कम हो गया।



महाभारतकालीन मंदिर !


मंदिर में सेवा कर रहे योगी राजू नाथ मान्यताओं के अनुसार दावा करते हैं कि मंदिर महाभारत काल का है। पांडवों ने अज्ञातवास के दौरान कुछ समय इस क्षेत्र में बिताया था। यहां भीम ने शंखासुर राक्षस का वध किया था। मृत्यु से पूर्व शंखासुर ने पांडवों से वरदान मांगा था।


वरदान के तहत नियत स्थान पर तर्पण करने से अकाल मृत्यु के शिकार व्यक्ति को मोक्ष प्राप्त होगा। पांडवों ने इस मंदिर में शिवलिंग की स्थापना की थी। एक अन्य मान्यता के अनुसार इस स्थान पर भगवान शिव के हाथों शंखासुर मृत्यु को प्राप्त हुआ था और उसे मोक्ष मिला था।



नया मंदिर रामपुरा के पास

पुराना श्री गंगा माता शंखोद्वार मंदिर डूब में आने के बाद रामपुरा के नजदीक भूमि प्रदान की गई थी। जहां नया भव्य मंदिर भी बन चुका है। यहां दूर-दूर से श्रद्धालु पहुंचते हैं और प्रतिवर्ष भव्य मेला भी आयोजित किया जाता है। यह मेला पशुओं के कारोबार के लिए भी पहचाना जाता है।

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/05/24/12-years-later-came-out-of-the-water-these-mahabharata-temples/

अगला लेख: 'मां कसम'! फिल्मों के ये 10 डायलॉग्स अंदर तक हिला देंगे आपको |



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 मई 2018
जिस तरह पानी अपना रास्ता खुद तलाश लेता है ठीक उसी तरह टैलेंट भी अपना रास्ता खोज निकालता है। महाराष्ट्र की माया खाडवे की कहानी भी कुछ ऐसी है। माया ने पढ़ाई लिखाई नहीं की है, मुफलिसी ने उनसे कूड़ा बीनने का काम कर करवाया। लेकिन माया जानती थी कि वो इसके लिए नहीं बनी हैं, उन्ह
15 मई 2018
12 मई 2018
देश में नाबालिग बच्चों के साथ बढ़ रही रेप की घटनाओं को रोकने के लिए बने कानून को सख्त बनाया गया है. अप्रैल 2018 में 12 साल से कम उम्र की बच्चियों के साथ रेप के दोषियों को मौत की सजा के प्रावधान को राष्ट्रपति ने मंजूरी दे दी थी. अब इस सख्त कानून के बाद पहली बार किसी को फा
12 मई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x