15 हजार रुपए प्रति किलो कीमत है इस शहद की, 400 फीट की ऊंचाई पर बांस के सहारे निकालता है

26 मई 2018   |  रेखा यादव   (360 बार पढ़ा जा चुका है)

15 हजार रुपए प्रति किलो कीमत है इस शहद की, 400 फीट की ऊंचाई पर बांस के सहारे निकालता है

शहद आज भी लोगों के जीवन के लिए कितना कीमती है, ये खबर पढ़कर आप भी समझ जाएंगे। नेपाल के सद्दी गांव में रहने वाला शख्स हिमालय के ऊंचे-ऊंचे पहाड़ों पर जाकर शहद निकालता है।


करीब 400 फीट की ऊंचाई पर सिर्फ बांस की सीढ़ी पर लटककर शहद निकाल रहा यह व्यक्ति माउली दन है। माउली 57 साल के हैं और अब भी हिमालय के ऊंचे-ऊंचे पहाड़ों पर जाकर शहद निकालते हैं।


माउली गुरुंग जनजाति के हैं। नेपाल की यह जनजाति शहद के खतरनाक शिकारियों के रूप में जानी जाती है।



नेशनल जियॉग्राफी ने ‘मौत को मात देने वाले आखिरी शिकारी’ नाम से एक डॉक्यूमेंट्री तैयार की है। यह डॉक्यूमेंट्री फोटोग्राफर रेनन ओजटर्के ने तैयार की है।

इस दौरान रेनन ने माउली और उनके शिष्य असदन के साथ काफी समय बिताया और उनके साथ जाकर शहद निकालने की फिल्म बनाई।



रेनन बताते हैं कि माउली के शिकार करने का तरीका देखकर उनकी भी सांसे मानो थम सी गई थीं। क्योंकि, माउली ऊंचे-ऊंचे पहाड़ों से सिर्फ बांस की सीढ़ी के सहारे लटककर शहद निकाल लेते हैं।


माउली ने जब एवरेस्ट पर 400 फीट की ऊंचाई पर लटककर शहद निकाला तो वे देखते ही रह गए। नीचे का नजारा डरावना था और गलती की कोई गुंजाइश नहीं थी।

हालांकि, माउली को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। वे बचपन से ही इसी तरह मौत को मात देते आ रहे हैं। अब पहाड़ों की ऊंचाई नापना उनके लिए बच्चों का खेल जैसा है।



माउली बताते हैं कि अब उनकी जनजाति में शहद निकालने वाले सिर्फ दो ही लोग बचे हैं। एक वे और दूसरा उनका शिष्य असदन है। असदन 40 साल के हैं।

पहले इनकी पूरी जनजाति शहद निकालने का ही काम करती थी, लेकिन कम आय के चलते धीरे-धीरे लोग दूसरे व्यवसाय से जुड़ गए। माउली ने 15 साल की उम्र में ही अपने पिता से यह हुनर सीख लिया था। पिता के साथ वे हमेशा पहाड़ों पर मौजूद रहते थे।



माउली ने पिता से ही बांस की सीढ़ी बनाना, उसे बांधना और उसके सहारे शहद के छत्ते तक पहुंचना सीखा। माउली बताते हैं कि अब तक उन्हें इतनी बार मधुमक्खियां काट चुकी हैं कि अब उन पर इनके डंक का असर नहीं होता।

इस दौरान वे 20 किलो तक की शहद इकट्ठी कर लेते हैं। बाजार में इस शहद की कीमत प्रति किलो 15 हजार रुपए है। यह दुनिया की सबसे अच्छी शहद में से एक है।

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/05/22/15-%E0%A4%B9%E0%A4%9C%E0%A4%BE%E0%A4%B0-%E0%A4%B0%E0%A5%81%E0%A4%AA%E0%A4%8F-%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%A4%E0%A4%BF-%E0%A4%95%E0%A4%BF%E0%A4%B2%E0%A5%8B-%E0%A4%95%E0%A5%80%E0%A4%AE%E0%A4%A4/

अगला लेख: बिन पूछे फूल तोड़ने पर बहू ने 75 वर्षीय सास के बाल पकड़कर उनकी बेरहमी से की पिटाई



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 जून 2018
भारत में जहां हर गली और चौराहे पर अंग्रेज़ी सिखाने के लिए कोचिंग सेंटर खुले हुए हैं, वहीं एक ऐसी लड़‍की भी है जो हिंदी की कोचिंग चलाकर लाखों कमा रही है.दिल्ली की रहने वाली 26 साल की पल्लवी सिंह न केवल देश में आए विदेशियों को हिंदी सिखाती हैं बल्कि मॉडल, सिंगर, बॉलीवुड स्ट
07 जून 2018
12 मई 2018
बच्चों का फेवरेट ब्रेड पिज़्ज़ा बहुत ही स्वादिष्ट स्नैक्स हैं. बच्चों की मनपसंद टॉपिंग के साथ ये पिज़्ज़ा बनाकर दिन में किसी भी समय बच्चों को दीजिए, बच्चे झट से चट कर जाएंगे. तुरत फुरत तैयार होने वाले इस पिज़्ज़ा के बच्चे ही नहीं बड़े भी दीवाने हैं.आवश्यक सामग्री ब्राउन ब्रेड-
12 मई 2018
07 जून 2018
नाखूनों में सफेद सा अर्ध-चंद्राकार क्या होता है? क्या यहां पर नाखून डिस्कलर हो जाता है?ऐसा सोचकर इसको खुरच ना देना. बहुत जालिम चीज है. माफ नहीं करती. नाखून वैसे तो नेल-कटर या ब्लेड से भी काट लेते हैं. पर ये वाला पार्ट बहुत सेंसिटिव होता है गुरु. लुनुला कहते हैं इसको. लैटि
07 जून 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x