एक डगर जीवन की......

27 मई 2018   |  गौरीगन गुप्ता   (106 बार पढ़ा जा चुका है)

टेड़ी मेड़ी मतवाली सी लहर बन अपना मार्ग प्रशस्त करती,

पर आज, नीरव निस्तब्धता इसकी खतरे काआगाज़ करती,

सरिता नीर से धरती संचित करते करते तटों पर सिमटती सी,

जीवन दायिनी की जीवान्तता शनैः शनैः खत्म होती सी,

भंवर में फंसी नाव कई-कई उतार चढ़ाव सहती,

फ़िसल गया चप्पू, छोड़ गया खिवैया, अनाथ हो गईं नाव,

पर, सोचती, जीवन की नैया पार लगाने आएगा कभी तो कोई खिवैया,

फिर मैंअविरल, अनवरत बहकर, वो मुझे मेरी मंजिल पहुंचाएगा

अगला लेख: हमारा परिवार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x