गीली मिट्टी होते हैं बच्चे...

02 अप्रैल 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (505 बार पढ़ा जा चुका है)

गीली मिट्टी होते हैं बच्चे...

कहते हैं कि अगर बच्चों को मान-सम्मान का माहौल मिले तो उन्हें जीवन का लक्ष्य निर्धारण करने में आसानी होती है. यदि बच्चों को प्रेम और स्वीकृति का माहौल मिले तो वे दुनिया से प्रेम करना सीख जाते हैं. अगर बच्चे दोस्ती के माहौल में रहते हैं तो वे दुनिया को एक अच्छी जगह मानने लगते हैं. अगर बच्चों को प्रशंसा और प्रोत्साहन मिले तो उनके भीतर आत्मविश्वास की भावना जागृत होती है. अगर बच्चों को ईर्ष्या के माहौल में रहना पड़े तो वे भी दूसरों से ईर्ष्या करने लगते हैं और कुढ़न का आभास करते हैं. अगर बच्चों को हम आलोचना के माहौल में रखें तो वे औरों की निंदा करना सीख जाते हैं. वास्तव में बच्चे वो कोरी स्लेट होते हैं जिस पर आप जो लिखेंगे वही लिख जायेगा. बच्चे उस गीली मिटटी के सामान हैं, जिसे हम चाहें तो रूप दे दें, भगवान की मूरत का या किसी डरावनी सूरत का. कहना सिर्फ इतना है कि हम तमाम कामकाज के लिए जाने कहाँ से वक़्त निकाल लेते हैं, थोड़ा सा वक़्त ज़रूर निकालें, नन्हे-मुन्नों के लिए, इन्हें खेल-खेल में ही कुछ न कुछ सिखाने की ज़रुरत होती है. इन्हें मोटी-मोटी किताबों की नहीं, बल्कि हमारे थोड़े से प्यार और दुलार की ज़रुरत होती है. लिखते-लिखते मशहूर शायर और गीतकार निदा फ़ाज़ली साहब की एक ग़ज़ल की एक लाइन याद आ गयी है...


घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यूँ कर लें,


किसी रोते हुए बच्चे को हंसाया जाए.

अगला लेख: आज का शब्द (२)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 अप्रैल 2015
जनता में एक भाषा के माध्यम से ही एकता आ सकती है. दो भाषाएँ जनता को निश्चय ही विभाजित कर देंगी, यह एक अटल नियम है. भाषा के माध्यम से संस्कृति सुरक्षित रहती है. चूंकि भारतीय एक होकर सामान्य सांस्कृतिक विकास करने के आकांक्षी हैं, अतः सभी भारतीयों का यह अनिवार्य कर्त्तव्य है कि वह हिन्दी को अपनी भाषा के
03 अप्रैल 2015
11 अप्रैल 2015
किंकर्तव्यविमूढ़ : १-दुविधा की स्थिति, २-भौचक्का या अवाक रह जाना, ३-जो यह न समझ सके की उसे अब क्या करना चाहिए जैसे-आपको कोई एक निर्णय तो लेना ही होगा कि जीवन में नौकरी करोगे या व्यापार, लेकिन इस तरह किंकर्तव्यविमूढ़ होकर बैठने से कोई लाभ नहीं होगा I शुक्रवार, १० अप्रैल, २०१५
11 अप्रैल 2015
13 अप्रैल 2015
कैसे मनाएं बैसाखी, कैसे ढोल नगाड़े बाजें, कैसे करे भांगड़ा कोई, कैसे खेले कोई गिद्दा. फ़सल पकी थीं स्वप्नों में, आशाएं थीं अपनों में, मौसम ने पानी फेरा यूँ, अन्न के स्वर्णिम रत्नों में. पूरे बरस की खेती-कमाई, जाती रही सब हांथों से, जैसे खींचे जान कोई, आती-जाती साँसों से. दिन वो भी बैसाखी था, त
13 अप्रैल 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
11 अप्रैल 2015
11 अप्रैल 2015
सा
13 अप्रैल 2015
03 अप्रैल 2015
16 अप्रैल 2015
11 अप्रैल 2015
31 मार्च 2015
10 अप्रैल 2015
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x