गीली मिट्टी होते हैं बच्चे...

02 अप्रैल 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (549 बार पढ़ा जा चुका है)

गीली मिट्टी होते हैं बच्चे...

कहते हैं कि अगर बच्चों को मान-सम्मान का माहौल मिले तो उन्हें जीवन का लक्ष्य निर्धारण करने में आसानी होती है. यदि बच्चों को प्रेम और स्वीकृति का माहौल मिले तो वे दुनिया से प्रेम करना सीख जाते हैं. अगर बच्चे दोस्ती के माहौल में रहते हैं तो वे दुनिया को एक अच्छी जगह मानने लगते हैं. अगर बच्चों को प्रशंसा और प्रोत्साहन मिले तो उनके भीतर आत्मविश्वास की भावना जागृत होती है. अगर बच्चों को ईर्ष्या के माहौल में रहना पड़े तो वे भी दूसरों से ईर्ष्या करने लगते हैं और कुढ़न का आभास करते हैं. अगर बच्चों को हम आलोचना के माहौल में रखें तो वे औरों की निंदा करना सीख जाते हैं. वास्तव में बच्चे वो कोरी स्लेट होते हैं जिस पर आप जो लिखेंगे वही लिख जायेगा. बच्चे उस गीली मिटटी के सामान हैं, जिसे हम चाहें तो रूप दे दें, भगवान की मूरत का या किसी डरावनी सूरत का. कहना सिर्फ इतना है कि हम तमाम कामकाज के लिए जाने कहाँ से वक़्त निकाल लेते हैं, थोड़ा सा वक़्त ज़रूर निकालें, नन्हे-मुन्नों के लिए, इन्हें खेल-खेल में ही कुछ न कुछ सिखाने की ज़रुरत होती है. इन्हें मोटी-मोटी किताबों की नहीं, बल्कि हमारे थोड़े से प्यार और दुलार की ज़रुरत होती है. लिखते-लिखते मशहूर शायर और गीतकार निदा फ़ाज़ली साहब की एक ग़ज़ल की एक लाइन याद आ गयी है...


घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यूँ कर लें,


किसी रोते हुए बच्चे को हंसाया जाए.

अगला लेख: आज का शब्द (२)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 अप्रैल 2015
महीना अप्रैल का...अजी इसमें ख़ास क्या है, हर साल आता है, मार्च के बाद और मई से पहले. लेकिन, सच कहें तो पूरे वर्ष अप्रैल में कुछ ऐसा होता है जो बाक़ी के महीनों में नहीं होता. इस महीने की शुरूआत को ही देखिये, कैसा बुद्धू बनाकर आता है. पहली अप्रैल यानि हंसी-मज़ाक का दिन 'एप्रिल फ़ूल'. अपने-अपने ढंग से अपन
02 अप्रैल 2015
03 अप्रैल 2015
ग़ुलामी से भी शर्मनाक है-दास होने की चेतना का नष्ट हो जाना. आज हम मानसिक और वैचारिक, दोनों स्तरों पर ब्रिटिश साम्राज्यवाद के दिनों से भी अधिक जड़ता की स्थिति में पहुँच चुके हैं, वो इसलिए कि जिस देश में लोगों में झूठ को झूठ कहने का नैतिक साहस नष्ट हो जाए, सच को सच कहने की ताब भी नहीं रह जाती. यह हिन्द
03 अप्रैल 2015
13 अप्रैल 2015
सा
निश्चय ही मनुष्य की संकल्प शक्ति का पारावार नहीं, यदि वह मानसिक तथा शारीरिक क्षमता बढ़ाने में ही स्वयं को लगा दे, तो ऐसा बलवान बन सकता है जिसे देखकर लोग आश्चर्यचकित हो जाएँ. दृढ संकल्प के साथ उद्द्यम, आशा और साहस का संयुक्त समन्वय हो, तो वह असाध्य रोगों से भी लड़ सकता है. मनुष्य, दृढ संकल्प शक्ति के ब
13 अप्रैल 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
10 अप्रैल 2015
11 अप्रैल 2015
11 अप्रैल 2015
03 अप्रैल 2015
11 अप्रैल 2015
11 अप्रैल 2015
03 अप्रैल 2015
31 मार्च 2015
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x