“हाइकु”

30 मई 2018   |  महातम मिश्रा   (64 बार पढ़ा जा चुका है)

“हाइकु”


आज की गर्मी

चलन बेरहमी

जल की कमी॥-१


झुकी डाल है

क्यों फल बीमार है

जी अनार है॥-२

नर निर्वाह

नव रोग निपाह

रोके प्रवाह॥-३


कृत्रिम छाल

मत रगड़ गाल

हो जा निहाल॥-४

ये केला आम

खजूर व बादाम

है? रोग धाम ॥-५


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: “पिरामिड”



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 मई 2018
"कुंडलिया"मौसम होता प्रौढ़ है कर लेता पहचानचलती पथ पर सायकल डगर कहाँ अनजानडगर कहां अनजान बचपनी साथी राहेंसंग मुलायम भाव लौह से लड़ती चाहेंकह गौतम कविराय प्यार तो जीवन सौ समचक्र चले दिन रात धुरी पर चलता मौसम।।महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
21 मई 2018
16 मई 2018
“गीतिका”रात की यह कालिमा प्रहरी नहीं दिन उजाले में डगर ठहरी नहींआज वो भी छुप गए सुबहा हुई जो जगाते समय को पहरी नहीं॥ रोशनी है ले उड़ी इस रात को तब जगाती पकड़ दोपहरी नहीं॥चाहतें उठ कर बुलाती शाम कोगीत स्वर को समझना तहरी नहीं॥ताल जाती बहक बस इक भूल परज़ोर ठुमका कदम कद महरी नही
16 मई 2018
22 मई 2018
छंद - दिग्पाल /मृदुगति (मापनी युक्त मात्रिक छंद )मापनी -221 2122 221 2122 “गीतिका” मौसम बहुत सुहाना मन को लुभा रहा है डाली झुकी लचककर फल फूल छा रहा है मानों गरम हवा यह गेसू सुखा रही हो कोयल सुना रही है भौंरा सुना रहा है॥ नव रंग आ रहे हैं घिर हर कली कली पर फ
22 मई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x