आखिर लोगों ने भाजपाई मुख्यमंत्री के जूते-चप्पलों से क्यों पीटा !

05 जून 2018   |  अखिलेश ठाकुर   (234 बार पढ़ा जा चुका है)

आखिर लोगों ने भाजपाई मुख्यमंत्री के जूते-चप्पलों से क्यों पीटा !

बीजेपी के एक बड़े नेता को लोगों ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा. चूते-चप्पल फेंके उनपर. नेता जी की ऐसी हालत हुई कि सिर पर पैर रखकर भागे. सरपट भागे.

क्या? आपको नहीं पता लगा? कोई खबर नहीं आई? टीवी, अखबार, कहीं नहीं दिखी?

ओहो. अब समझ आया. इतनी बड़ी खबर आप तक क्यों नहीं पहुंची. ये ‘बिकाऊ मीडिया’ की कारस्तानी है. ‘बिकाऊ मीडिया’ ने जान-बूझकर आपको ये खबर नहीं बताई. सब बिके हुए हैं जी. सब बिके हुए हैं.

ऊपर लिखी बातें हमने बस टाइप की हैं. कही नहीं हैं. सोशल मीडिया पर हमको एक पोस्ट वायरल होती दिखी. खूब शेयर की जा रही है. हमने ऊपर जो भी कहा, वो उसी पोस्ट में कही गई बातें हैं. कुछ अलग तरह से लिखी गई हैं वहां. आज की अपनी पड़ताल में हम इसी वायरल पोस्ट की चीर-फाड़ करेंगे. (और बिकाऊ मीडिया वाला दाग भी धो लेंगे 😉 )

ये पोस्ट अभी से नहीं घूम रहा. पिछले सात-आठ महीनों से नजर आ रहा है.

पोस्ट शेयर करने वाले यूं शेयर कर रहे हैं मानो ‘बिकाऊ मीडिया’ अपना फर्ज भले ही भूल जाए, हम नहीं भूलेंगे. हम इस खबर को देश के चप्पे-चप्पे तक पहुंचाएंगे.

सेम पोस्ट. सेम विडियो. कॉपी-पेस्ट.

ये रहा एक और पोस्ट का स्क्रीनशॉट

क्या है इस वायरल पोस्ट में?
पोस्ट का कहना है कि बीजेपी के एक मुख्यमंत्री को जनता ने बुरी तरह पीटा. ये मुख्यमंत्री साहब थे रघुवर दास. झारखंड में बीजेपी सरकार के मुखिया. पोस्ट के साथ एक विडियो भी है. किसी सड़क पर अर्धगोलाकार शेप टाइप में एक भीड़ जमा है. एक लाल रंग की कार भी खड़ी है. कुछ लोग हुतूतू टाइप में आगे आकर मारपीट कर रहे हैं. बाकी लोग देख रहे हैं. फिर विडियो में एक आदमी दिखता है. भरा बदन, आंखों पर चश्मा. गले में बीजेपी के निशान कमल के फूल वाला गमछा टाइप. ये शायद नेता जी हैं. फिर एकाएक क्या होता है कि पीछे से कुछ लोग आकर इन लोगों को दौड़ाने लगते हैं. हड़बड़ी मच जाती है.

नेता जी के साथ वाले लोगों में एक आदमी है. उसने भी वो बीजेपी वाला गमछा लपेटा हुआ है. वो नीचे गिर जाता है. नेता जी और उनके साथ के बाकी लोग तेज-तेज चलते हुए वहां से भाग जाते हैं. तब तक वो नीचे गिरा आदमी पिटने लगता है. पीछे से आए लोग उनको जमकर पीटते हैं. और वो किसी तरह उठकर भागने की कोशिश करता है. फिर अगले फ्रेम में नेता जी लोग सहमे-सहमे से जा रहे होते हैं. शायद उस इलाके से निकलने की कोशिश कर रहे हैं. जो आदमी कुछ देर पहले पिटा होता है, वो भी साथ में होता है. फिर कुछ लोग आते हैं और उस आदमी को पीटने की कोशिश करते हैं. दो-चार झापड़ लगा भी देते हैं. नेता जी और उनके सहयोगी रोकने की कोशिश करते हैं. मगर वो आदमी बार-बार निशाना बनाया जा रहा है. पीछे-पीछे आ रहे नाराज लोग कभी लात से, तो कभी घूंसे से उसको पीट रहे हैं. इस सबके बीच नेता जी शायद अपनी गाड़ी की तरफ चले जा रहे हैं. दो लोगों ने दोनों तरफ से उनको थामा हुआ है. प्रॉटेक्शन देने के लिए. ऐसे ही पॉइंट पर ये विडियो खत्म हो जाता है.

पीछे से आए लोग बीजेपी कार्यकर्ता को पीट रहे हैं.

विडियो के साथ जो पोस्ट है, उसमें लिखा है (व्याकरण की गलतियां लिखने वालों के सिर-माथे)-

बुरी तरह पिटे और बेइज्जती हुई झारखंड के भाजपाई मुख्यमंत्री रघुवर दास की. करीब 500 जूते-चप्पल सीएम पर फेके गए. सीएम मैदान से दौड़कर भागे….भारत का कोई भी बिकाऊ चैनल, कोई मीडिया चैनल नहीं दिखा रहा है. सब बिके हुए है…लेकिन आप शेयर कीजिए और देश को बताइए.

ये विडियो का ही स्क्रीनशॉट है. कुछ युवा से दिखने वाले लोग बीजेपी का गमछा लपेटे एक आदमी को दौड़ा-दौड़ाकर पीट रहे हैं.

तस्वीर देखकर पहचान कर लीजिए पहले. बाईं तरफ वाले महाशय हैं रघुबर दास. दाहिनी तरफ वाले हैं दिलीप घोष. रघुबर दास झारखंड की बीजेपी सरकार में मुख्यमंत्री हैं. वहीं दिलीप घोष पश्चिम बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष हैं (फोटो: पीटीआई)

क्या है इस वायरल पोस्ट का सच?
ये पोस्ट अभी की नहीं है. पिछले कुछ महीनों से सोशल मीडिया पर चहलकदमी कर रही है. पिछले साल नवंबर-दिसंबर में भी दिखी. फिर नया साल आया, तब भी दिखी. मार्च-अप्रैल में भी दिखी. मई भी नागा नहीं किया. और अब जून चल रहा है. ये पोस्ट अब भी पूरी शिद्दत के साथ शेयर की जा रही है. इस पोस्ट की सारी बातें काल्पनिक नहीं हैं. इसका सच्चाई से कुछ-कुछ वास्ता तो है. मगर ये घटना न तो झारखंड की है और न ही पिटने वाले शख्स मुख्यमंत्री रघुवर दास हैं. ये विडियो दार्जिलिंग का है. विडियो में जो नेता जी दिख रहे हैं, वो पश्चिम बंगाल में बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष हैं. उनके साथ बीजेपी के कार्यकर्ता हैं. दिलीप घोष तीन दिन के दौरे पर दार्जिलिंग पहुंचे थे. कुछ अज्ञात युवकों ने वहां इन कार्यकर्ताओं पर हमला किया था. दिलीप घोष के सामने बीजेपी कार्यकर्ताओं की पिटाई की. बचने के लिए दिलीप घोष अपने समर्थकों को लेकर चाक बाजार थाने में घुस गए. फिर उन्होंने अपना दौरा भी रद्द कर दिया.




ये नवभारत टाइम्स की वेबसाइट पर से लिया गया उस खबर का स्क्रीनशॉट है.

ये अक्टूबर 2017 के शुरुआत की बात है. हमने खोजा, तो इस खबर का लिंक भी मिला. नवभारत टाइम्स (वेबसाइट) पर 5 अक्टूबर की एक न्यूज दिखी. इसमें इस घटना का जिक्र है. साथ में जो तस्वीर है, वो भी वायरल विडियो में नजर आ रहे विडियो से मिलती है. उसी का स्क्रीनशॉट है. खबर की हेडिंग है-

बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष पर हमला, तीन दिन का दौरा रद्द.

खबर में अंदर लिखा है गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (GJM) के बागी नेता बिनय तमांग के समर्थक इस हमले के पीछे थे. बीजेपी ने कहा था कि तमांग के समर्थकों ने उनके दो कार्यकर्ताओं की बुरी तरह पिटाई की. दिलीप घोष का कहना था कि अपने कार्यकर्ताओं को बचाने की कोशिश के दौरान उनके ऊपर भी हमला हुआ.

ये जनसत्ता में पब्लिश हुई इस खबर का स्क्रीनशॉट है.

इस खबर का एक लिंक हमें जनसत्ता में भी मिला. 5 अक्टूबर, 2017 की ही तारीख का. इसमें भी इस घटना का जिक्र है. बिनय तमांग का भी जिक्र है. खबर की हेडिंग है-

दार्जिलिंग में पीछाकर पश्चिम बंगाल बीजेपी अध्यक्ष और समर्थकों की बेरहमी से पिटाई, बोले- पुलिस ने नहीं की मदद.

ये रहा प्रभात खबर वाले लिंक का स्क्रीनशॉट.

7 अक्टूबर, 2017 को प्रभात खबर ने भी ये खबर कैरी की है. हेडिंग है-

वायरल विडियो: दार्जिलिंग में दिलीप घोष पर हमला, समर्थकों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा.

अखबार के मुताबिक, कलेक्टर का कहना था कि कोई मारपीट नहीं हुई है. बस धक्कामुक्की हुई है.

7 अक्टूबर, 2017 की ही तारीख में हमें पत्रिका की एक खबर का लिंक मिला. इसमें इस घटना के ऊपर कलेक्टर का बयान था. खबर की हेडिंग थी-

कलेक्टर का दावा, दार्जिलिंग में सिर्फ धक्का-मुक्की हुई.

खबर की शुरुआती लाइन्स हैं-

भले ही लोगों ने गुरुवार को समाचार टीवी चैनलों पर दार्जिलिंग में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष के सिर से टोपी खींचते, उन्हें अपमानित करते, भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं को लात, घूसे और डण्डे से मारते हुए देखा, लेकिन दार्जिलिंग के कलेक्टर जे दासगुप्त को सिर्फ धक्का-मुक्की नजर आई.

ये तस्वीर न्यूज एजेंसी ANI की है. 5 अक्टूबर, 2017 को ANI ने इसे रिपोर्ट किया था. तस्वीर में नजर आ रहे शख्स के कपड़े देखिए. देखकर ऐसा लगता है मानो खून के छींटे हों.

इस खबर के सच होने की कुछ-कुछ नौबत आ गई थी
इस वायरल विडियो के साथ जो मैसेज लिखा जा रहा है, वह खबर बनने के करीब पहुंच गया था. 1 जनवरी, 2017 को झारखंड के खरसावां में शहीद स्थल पर शहीद दिवस समारोह था. वहां मुख्यमंत्री रघुवर दास शहीदों को श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे. वहीं पर आदिवासी समुदाय के लोगों ने उन्हें काला झंडा दिखाए हुए वापस जाओ के नारे लगाए थे और जूते-चप्पल फेंके थे. आदिवासी एक ऐक्ट में संशोधन से नाराज थे.

अब इतने सबूत देने के बाद बात तो मान ली जानी चाहिए. कि वायरल पोस्ट का दावा गलत है. झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास की पिटाई नहीं हुई. और मार-पिटाई करना कौन सी सही बात है? बीजेपी विरोधी होने की वजह से अगर आप बीजेपी के किसी नेता-कार्यकर्ता की पिटाई पर खुश होते हैं, ताली पीटते हैं, तो अपनी चिंता कीजिए. आपके विरोधी आपको पीटने पर उतारू हो जाएं, तो? कोई आपको बेबात बस इसलिए मार डाले कि वो आपका विरोधी है, तो? कोई आपको पसंद नहीं करता, आपकी बातों को पसंद नहीं करता, तो क्या वो आपको पीटने के लिए आजाद है? चीजों को थोड़ा अपने ऊपर लेकर सोचने की कोशिश कीजिए. थोड़ी बुद्धि खुलेगी.

ये विडियो प्रभात खबर ने 6 अक्टूबर, 2017 को अपलोड किया था. देखना चाहें, तो देख लीजिए.

Raghubar Das, CM of BJP ruling Jharkhand was thrashed by the angry crowd, claims a viral post

https://www.thelallantop.com/jhamajham/raghubar-das-cm-of-bjp-ruling-jharkhand-was-thrashed-by-the-angry-crowd-claims-a-viral-post/

अगला लेख: इस आदमी ने जो अपनी पत्नी के साथ किया, कोई जानवरों के साथ भी नहीं करता



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 मई 2018
लोग चार साल से धान बोए हैं कि 15 लाख कहां हैं- 15 लाख कहां हैं. कोई पासबुक दिखा रहा है तो कोई मोदी जी के पुराने बयान दिखा रहा है. उन सबको तगड़ा जवाब दिया है. अरे अपने मेमे वाले दीपक मिश्रा और कौन. बहुत सही लथेड़ लथेड़ मारा है भाईसाब. वो गणित देख लें तो श्री निवास रामानुजम
25 मई 2018
24 मई 2018
सन् 2004. वह मई के पहले हफ्ते की एक दोपहर थी, उमस भरी. कुल जमा 36 दिनों के बाद मुझे लिलीपुल से जयपुर की पूर्व राजमाता गायत्री देवी के एडीसी रघुनाथ सिंह का फोन आया. ‘राजमाता ने आपसे मिलने की इजाजत दे दी है. आप एक बजे पधार जाएं यहां.’ दरअसल भाई आलोक तोमर की एजेंसी ‘शब्दार्थ
24 मई 2018
28 मई 2018
वीर सावरकर का पूरा नाम विनायक दामोदर सावरकर था वीर सावरकर पहले स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने विदेशी का बहिष्कार किया था। ।। जन्म् 28 मई 1883,देहांत् 26 फरवरी 1966,जीवनकाल 83 वर्ष ।।1.वीर सावरकर का जन्म 28 मई 1883 में महाराष्ट्र के नासिक जिले के भागुंर गांव में हुआ था।2.सावरकर के पिता का नाम दामोदर
28 मई 2018
23 मई 2018
वायरल सच में आज बात प्रधानमंत्री मोदी के कर्ज चुकाने वाली खबर की. सोशल मीडिया में वायरल हो रहे मैसेज के जरिए दावा किया जा रहा है कि पीएम मोदी ने ईरान का कर्ज चुका दिया है. जानते हैं कर्ज चुकाने का दावा करने वाली इस कहानी का सच क्या है? पिछले महीने ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिन के दौरे पर ईरान
23 मई 2018
24 मई 2018
देश में फिटनेस को लेकर जागरूकता अभियान के तहत हाल ही में खेलमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने एक वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड किया था. राठौड़ ने खेल और सिनेमा जगत की कुछ प्रमुख हस्तियों को टैग करते हुए उनसे भी इस अभियान में शामिल होने की अपील की थी. उनके इस वीडियाे के बाद ज
24 मई 2018
23 मई 2018
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते 4 सालों में अपने कई विदेशी दौरों से न सिर्फ भारत के लोगों को बल्कि विदेशियों को भी कई बार चौंकाया है और प्रभावित किया है. विदेशी इवेंट्स में भी उन्हें सुनने के लिए काफी संख्या में लोग पहुंचे, दुनियाभर के शीर्ष नेताओं ने भी दिल खोलकर उनका स्वागत किया. इसी साल अप्रैल
23 मई 2018
07 जून 2018
परिसर सरकारी हो या प्राइवेट, अपनी सामान की सुरक्षा स्वयं करें की लाइन किसी न किसी दीवार, खंभे या गेट पर लिखी दिख ही जाती है। शॉपिंग मॉल में तो कई बार पार्किंग की पर्ची पर लिखा रहता है कि पार्किग एट योर ओन रिस्क। अब आदमी गाड़ी तो खड़ी कर देता है लेकिन दिल की धुकधुकी वैसे ह
07 जून 2018
06 जून 2018
बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता धर्मेंद्र आज 82 साल के हैं लेकिन काम को लेकर उनमें आज भी पहले ही जैसी एनर्जी है. मिट्टी की खुशबू से वह आज भी जुड़े हुए हैं और आज-कल वह बॉलीवुड की चमक-धमक से दूर खेती-बाड़ी करते हुए नजर आ रहे हैं. दरअसल, इंस्टाग्राम पर आपका धरम नाम के एक इंस्टाग्र
06 जून 2018
25 मई 2018
'राज़ी' देखने के बाद आपको पता चल गया होगा कि कुछ गुमनाम हीरो बिना किसी शोहरत की चाहत के लिए देश की ख़ातिर किस हद तक चले जाते हैं. भारत के रॉ(R&AW) में ऐसी कितनी कहानियां होंगी जिन पर फ़िल्में बन सकती हैं. ख़ुद इस संस्थान के संस्थापक की कहानी ऐसी है जिस पर कोई फ़िल्म बन जा
25 मई 2018
24 मई 2018
'एक पत्थर तो तबीयत से उछालों यारों, कौन कहता है कि आसमां नें सुराख नहीं होता...' वाली बात इस शख्स के जिंदगी की जैसी टैग लाइन सी बन गई है। हाथ एक है, लेकिन जज्बा हजारों हाथों का। हिम्मत की तो पूछिए मत, जनाब 14 लेन का हाईवे बना रहे हैं। हमें लगा कि इनकी झलक बहुत से मायूसों
24 मई 2018
30 मई 2018
नई दिल्ली: बाबा रामदेव के पतंजलि ब्रांड की टेलीकॉम सेक्टर में एंट्री के बाद से यूजर्स में उत्सुकता बढ़ गई है. दरअसल, जिस तरह जियो ने टेलीकॉम सेक्टर में धूम मचाई थी, वैसे ही उम्मीद यूजर्स को पतंजलि से भी है. लेकिन, क्या ऐसा होगा. BSNL के साथ करार से पतंजलि ने इस मार्केट मे
30 मई 2018
02 जून 2018
38 साल की औरत, शादीशुदा. जाने कितने साल पहले शादी हुई थी, जाने कितने बच्चे थे. थे भी या नहीं. मगर हां, इतना अनुमान तो लगा ही सकते हैं कि शादी को दस-एक साल तो हो ही गए होंगे.पति-पत्नी में असहमतियां होती हैं, झगड़े होते हैं. यूं भी होता है कि पति पत्नी को घर में वस्तु की तरह
02 जून 2018
27 मई 2018
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 मई, 2018 को रेडियो पर मन की बात करते हुए ओडिशा के कटक में रहने वाले डी. प्रकाश राव की तारीफ की. उन्होंने कहा कि पिछले 50 साल से चाय बेचने वाले प्रकाश राव अपनी आधी आमदनी 70 गरीब बच्चों की शिक्षा पर खर्च करते हैं. वो हम सब के लिए एक प्रेरणास्
27 मई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x