लावारिस बच्चे को दूध पिलाती कॉन्स्टेबल की ये फोटो आज की सबसे खूबसूरत फोटो है

07 जून 2018   |  रवि मेहता   (80 बार पढ़ा जा चुका है)

लावारिस बच्चे को दूध पिलाती कॉन्स्टेबल की ये फोटो आज की सबसे खूबसूरत फोटो है - शब्द (shabd.in)

सोशल मीडिया पर दिनभर में बहुत कुछ दिखता है. अच्छा-बुरा, हर तरह का कॉन्टेंट. पर कुछ चीज़ें ऐसी होती हैं कि देखकर एकदम दिल खुश हो जाता है. बेंगलुरु से ऐसी ही एक फोटो आई है, जो आपने ऊपर देखी. इसकी कहानी भी दिल खुश कर देने वाली है.


शुक्रवार की सुबह बेंगलुरु के दोद्दाथगुरु इलाके में एक शख्स कचरा बीन रहा था. सेलिब्रिटी लेआउट इलाके में जहां एक घर बन रहा था, वहां झाड़ी के पास उसे प्लास्टिक के बैग में एक नवजात बच्चा दिखा. उसने पास के दुकानदार को उसके बारे में बताया. दुकानदार ने उस बच्चे की जानकारी पुलिस कंट्रोल रूम तक पहुंचाई. फिर ASI नागेश आर. बच्चा मिलने वाली जगह पहुंचे और उन्होंने बच्चे को बचाया. तब तक उस जगह ढेर सारे लोग इकट्ठे हो गए थे.


नागेश उस बच्चे को वहां से उठाकर पास के ही एक डॉक्टर के पास ले गए. डॉक्टरों को जब उस बच्चे की कहानी पता चली, तो उन्होंने मुफ्त में उसका इलाज किया. नागेश बताते हैं, ‘बच्चा बहुत बुरी हालत में था. वो खून से सना हुआ था और उसकी गर्भनाल उसके गले में लिपटी हुई थी.’




डॉक्टरों से फौरी राहत मिलने के बाद नागेश बच्चे को थाने ले आए और उसे महिला कॉन्स्टेबल अर्चना के हवाले कर दिया. अर्चना का अपना तीन महीने का एक बेटा है. कचरे में मिला बच्चा बहुत ही कमज़ोर था. हिल-डुल भी नहीं पा रहा था. अर्चना से ये देखा नहीं गया. उन्होंने बच्चे को अपना दूध पिलाया. इसके कुछ देर बाद बच्चे की ऐसी हालत हुई कि वो कम से कम रो सके.


अर्चना इस बारे में बताती हैं, ‘वो रो रहा था और ये मुझसे सहन नहीं हो रहा था. मुझे उसमें अपना बच्चा दिखा और मैंने उसे दूध पिलाया.’

बच्चे के होश में आने के बाद पुलिस थाने में ऐसा माहौल था, जैसे वहां कोई जलसा चल रहा हो. नागेश उस बच्चे के लिए नए कपड़े लेकर आए और उसका नाम रखा- ‘कुमारस्वामी’. नाम रखने के पीछे की वजह बताते हुए वो कहते हैं, ‘अब से सरकार का बच्चा है और हमने इसका नाम कुमारस्वामी रखा है, क्योंकि अब ये सरकार के संरक्षण में रहेगा.’


कुमारस्वामी

कुमारस्वामी

सड़क किनारे लावारिस हालत में मिलने से लेकर एक पुलिस कॉन्स्टेबल से मां का प्यार पाने और राज्य के सीएम का नाम पाने वाले इस बच्चे ने कुछ ही दिनों में इतना सफर तय कर लिया है, जिसका उसे अंदाज़ा तक नहीं है. पुलिस की ये सूरत और अर्चना का ये प्यार और प्यार जगाता है. एक अच्छा इंसान बनने की तरफ ले जाता है. थाने में ख्याल रखने के बाद कुमारस्वामी को होसुर रोड के शिशु मंदिर में दे दिया गया.


Meet Archana who breastfed a newborn child who was found stuffed in a plastic bag under a bush by a rag picker

https://www.thelallantop.com/news/meet-archana-who-breastfed-a-newborn-child-who-was-found-stuffed-in-a-plastic-bag-under-a-bush-by-a-rag-picker/

अगला लेख: 'देश के दुश्मन' की मदद करते मनमोहन सिंह के इस फोटो की एक बात आपसे छिपाई गई है



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 मई 2018
15 अगस्त, 1957. इस दिन एक फिल्म रिलीज हुई थी. नाम था- नया दौर. दिलीप कुमार. बैजयंती माला. इंसान बनाम मशीन की कहानी. इसमें एक गाना था- ‘साथी हाथ बढ़ाना, एक अकेला थक जाएगा मिलकर बोझ उठाना’. इस गाने की आत्मा को सही मायने में सोशल मीडिया ने समझा है. सोशल मीडिया पर चीजें वायरल
26 मई 2018
30 मई 2018
कच्चे तेल का दाम भले इन दिनों कुछ कम हुआ हो, इंडिया में पेट्रोल और डीज़ल का दाम अंगद के पांव की तरह जमा हुआ है. जहां तेल का भाव 85 हो गया है वो पेट्रोल से ही पूछने लगे हैं कि चौरासी में कहां थे. क्योंकि नेता तो बताते नहीं. खैर, टॉपिक पर लौटते हैं. सुबह ही हमने आपको खबर दी
30 मई 2018
25 मई 2018
तस्वीर छपरा के राजेंद्र प्रसाद कॉलेज की है. ये उस वक्त ली गई है जब कॉलेज में बीए के थर्ड ईयर की परीक्षा चल रही थी.बिहार के छपरा में एक यूनिवर्सिटी है जयप्रकाश विश्वविद्यालय. वही छपरा जहां के रहने वाले थे हमारे पहले राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद. कहा जाता है कि पढ़ाई में इतने
25 मई 2018
09 जून 2018
हमारे जहन में जब भी इंटरव्यू की बात आती है तो पूरे शरीर में पसीना आने लगता है। लिखित में पेपर देना आसान होता है लेकिन इंटरव्यू में आपको अथाह नोलेज, हाजिरजवाबी और संयम तीनो की जरूरत पड़ती है।पहला सवाल तो अक्सर महिलाओ से पूछा जाता है, अगर आपके पति का किसी और महिला से अफेयर
09 जून 2018
24 मई 2018
जुलाई 2017 में मुंबई हाईकोर्ट ने साउथ रीजन के एडिशनल कमिश्नर ऑफ़ पुलिस को निर्देश दिया था कि मोहर्रम के जुलुस में बच्चों को कोई नुकसान न हो ये सुनिश्चित करें. इसके लिए वे शिया समुदाय के प्रमुख संगठनों और धर्मगुरुओं के साथ बैठक करें. मोहर्रम मनाने में बच्चे भाग न लें. ताकि
24 मई 2018
02 जून 2018
केरल में निपाह वायरस घूम घूमकर आ रहा है. दहशत का माहौल पूरे देश में बन रहा है. चमगादड़ और फल रिस्की हो गए हैं. लेकिन निपाह वायरस से भी खतरनाक हैं वो लोग जो बीमारी के नाम पर भी अफवाहें फैला लेते हैं. जैसे अभी ये मैसेज व्हाट्सऐप पर घूम रहा है.व्हाट्सऐप मैसेज का स्क्रीनशॉटसि
02 जून 2018
08 जून 2018
प्यार से ही दुनिया चल रही है. नफ़रत कितनी भी जगह क्यों न बना ले, अगर प्यार है तो हर मर्ज़ की दवा मिल जाती है, सारी परेशानियों का हल मिल जाता है.लेकिन कई बार कुछ लोग ग़लत इंसान से मोहब्बत कर लेते हैं. इतनी गहरी मोहब्बत कि उनके लिए सही-ग़लत के सारे पैमाने ख़त्म हो जाते हैं.
08 जून 2018
31 मई 2018
उस साल बहुत बड़ा अकाल पड़ा था. राजा ने ऋषियों से पूछा, क्या किया जाए. उनकी बात मानकर खेत में हल चलाने निकले. खेत में जमीन के अंदर एक बच्ची मिली. राजा उसे घर ले आए. वो बच्ची कहलाई सीता. राजा जनक की बेटी. राम की सीता. कहते हैं कि जहां सीता जमीन से निकली थीं, वहां आज भी एक क
31 मई 2018
08 जून 2018
एसिड अटैक सर्वाइवर्स को समाज या तो बहिष्कृत महसूस कराता है या फिर उनको संवेदना और दया भाव से ही देखा जाता है. दया दिखाने से ज़्यादा ज़रूरी है संवेदनशीलता दिखाना. सर्वाइवर्स की जगह पर ख़ुद को रखकर सोचने की ज़रूरत है.Source- KettoHumans of Bombayफ़ेसबुक पेज पर एक एसिड अटैक
08 जून 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x