क्या आपको पता है कि नाखूनों पर सफेद आधा चांद कितनी जालिम चीज है?

07 जून 2018   |  रेखा यादव   (152 बार पढ़ा जा चुका है)

क्या आपको पता है कि नाखूनों पर सफेद आधा चांद कितनी जालिम चीज है?

नाखूनों में सफेद सा अर्ध-चंद्राकार क्या होता है? क्या यहां पर नाखून डिस्कलर हो जाता है?

ऐसा सोचकर इसको खुरच ना देना. बहुत जालिम चीज है. माफ नहीं करती. नाखून वैसे तो नेल-कटर या ब्लेड से भी काट लेते हैं. पर ये वाला पार्ट बहुत सेंसिटिव होता है गुरु. लुनुला कहते हैं इसको. लैटिन भाषा का शब्द है ये. और तमाशा ये है कि इसका मतलब छोटा चांद होता है. इसी बात का रंज है हमें. हमारी भाषा में भी वही शब्द है, पर नाम लेना पड़ेगा लैटिन वाला. हम इसे चंदू कहकर नहीं बुला सकते क्या? पर लुनुला बोलने में थोड़ा क्यूट सा साउंड करता है.

चलिए ठीक है. जो भी हो. अब पढ़ते हैं इसके बारे में:

1. अंगूठे पर ज्यादा साफ दिखता है ये. पर हर इंसान में साफ नहीं दिखता. किसी की त्वचा इसको कवर कर लेती है. तो थोड़ा दिखता है, या नहीं दिखता. जिनके नासूर होता है, उनका ज्यादा दिखता है.

2. ये सफेद होता है. क्योंकि एपिडर्मिस का पांचवा लेयर होता है ये. कलरलेस. इसके नीचे खून वाली शिरायें होती हैं.

3. ये नाखून का जड़ होता है. अगर इसको डैमेज कर दिया जाये तो नाखून कभी उगेगा ही नहीं.

4. इस भाग को कोई हानि नहीं पहुंचनी चाहिए. ये बहुत ही नाजुक होता है.

5. ऐसा माना जाता है कि लुनुला के आधार पर इंसान के हेल्थ के बारे में भी बताया जा सकता है. अगर बिल्कुल ही नहीं दिखता तो खून की कमी भी हो सकती है. अगर सफेद ना दिख के पीला या नीला दिखे तो डायबिटीज होने की संभावना होती है. अगर लाल दिखे तो दिल का रोग हो सकता है. मतलब खुद ही ना इलाज करना शुरू कर दें, तुरंत डॉक्टर से मिलें. लाल तो इस वजह से भी हो सकता है कि 2000 वाला नया नोट बहुत देर तक हाथ में लिये हो. जमाने को जलाने के लिए.

6. अगर बहुत छोटा दिख रहा है तो पेट की गड़बड़ी रहती है. किसी-किसी वैद्य के बारे में सुना ही होगा कि हाथ देखकर रोग बता देता है. ये रोग तो ऐसे भी पकड़ा जा सकता है. जादू नहीं है.

7. दोनों हाथों को मिलाकर अगर कम-से-कम 8 लुनुला रहें तो बेहतर है. और शेप भी भरपूर रहे. एकदम दुखी टाइप का ना रहे. बुलंदी रहनी चाहिए. हाथी दांत के कलर का. जितना ज्यादा, जितना सफेद, इंसान उतना ही मजबूत.

8. लुनुला देखकर ये भी बता सकते हैं कि इंसान चंचल है या सुस्त. अगर गंदा सा दिखता है तो एकदम ही सुस्त कंटाला इंसान. अगर लाइट मार रहा है तो एकदम चंचल. एक बार पूछेंगे तो दस बार दिखाएगा अपना लुनुला.

lunula the white half moon on nails in hindi

https://www.thelallantop.com/bherant/lunula-the-white-half-moon-on-nails-in-hindi/

अगला लेख: बिन पूछे फूल तोड़ने पर बहू ने 75 वर्षीय सास के बाल पकड़कर उनकी बेरहमी से की पिटाई



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 मई 2018
शहद आज भी लोगों के जीवन के लिए कितना कीमती है, ये खबर पढ़कर आप भी समझ जाएंगे। नेपाल के सद्दी गांव में रहने वाला शख्स हिमालय के ऊंचे-ऊंचे पहाड़ों पर जाकर शहद निकालता है।करीब 400 फीट की ऊंचाई पर सिर्फ बांस की सीढ़ी पर लटककर शहद निकाल रहा यह व्यक्ति माउली दन है। माउली 57 साल
26 मई 2018
24 मई 2018
आज हम आपको दुनिया की सबसे कीमती गणेश जी की मूर्ति के बारे में बता रहे हैं। जो भी इस मूर्ति की कीमत सुनता है हैरान हो जाता है, जी हां गणेश जी कि इस मूर्ति की कीमत है 600 करोड़ रुपये।गुजरात के सूरत शहर को हीरा नगरी के रूप में जाना जाता है। इस
24 मई 2018
19 जून 2018
ट्रेनों के आवागमन में लेटलतीफी बीते कुछ सालों तक केवल सर्दियों के मौसम तक ही सीमित रहती थी. सर्दियों में कोहरे की मार झेल रही ट्रेनों में सफर करने वाला हर शख्‍स खुद को लेटलतीफी के लिए मानसिक तौर पर तैयार रखता था. बदली हुई मौजूदा परिस्थितियों में ट्रेनों की लेतलतीफी अब सर्
19 जून 2018
07 जून 2018
2016 के बिहार बोर्ड की टॉपर रूबी को जब मीडिया बधाई देने पहुंचा तो बातों-बातों में ही बड़ा मुद्दा बन गया. एक फॉर्मल से इंटरव्यू में जब पत्रकार ने रूबी से एकेडेमिक्स से रिलेटेड कुछ सवाल पूछे तो बड़े अटपटे से जवाब आने लगे – जैसे रूबी से जब पूछा गया कि उनके क्या-क्या सब्जेक्ट थ
07 जून 2018
18 जून 2018
भारतीय रेलवे जल्द ही पूरे देश में अपने रंग रूप को बदलने जा रही है। रेल मंत्रालय ने फैसला लिया है कि सभी ट्रेनों के डिब्बों को आकर्षक बनाने के लिए कलर शेड में रंगकर वर्ल्ड क्लास लुक दिया जाएगा।इस स्कीम के तरह सभी मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों के डिब्बों के कलर में बदलाव किया जा
18 जून 2018
06 जून 2018
बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता धर्मेंद्र आज 82 साल के हैं लेकिन काम को लेकर उनमें आज भी पहले ही जैसी एनर्जी है. मिट्टी की खुशबू से वह आज भी जुड़े हुए हैं और आज-कल वह बॉलीवुड की चमक-धमक से दूर खेती-बाड़ी करते हुए नजर आ रहे हैं. दरअसल, इंस्टाग्राम पर आपका धरम नाम के एक इंस्टाग्र
06 जून 2018
08 जून 2018
कितने दुर्भाग्य की बात है कि जिन बच्चों को मां-बाप अपना पेट काटकर बड़ा करते हैं. अपने बच्चों की खुशियों के लिए मां-बाप अपनी खुशियों को क़ुर्बान कर देते हैं, वही बच्चे बड़े होकर उनको दाने-दाने को मोहताज कर देते हैं. वहीं एक बात ये भी है कि जो बेटी अपने माता-पिता के लिए एक शब्
08 जून 2018
07 जून 2018
भारत में जहां हर गली और चौराहे पर अंग्रेज़ी सिखाने के लिए कोचिंग सेंटर खुले हुए हैं, वहीं एक ऐसी लड़‍की भी है जो हिंदी की कोचिंग चलाकर लाखों कमा रही है.दिल्ली की रहने वाली 26 साल की पल्लवी सिंह न केवल देश में आए विदेशियों को हिंदी सिखाती हैं बल्कि मॉडल, सिंगर, बॉलीवुड स्ट
07 जून 2018
08 जून 2018
कभी कभी ऐसे हादसे देखने को मिलते हैं कि उन पर हैरानी करें या अफसोस, समझ में नहीं आता. जैसे ये हुआ. महाराष्ट्र के नंदूरबार जिले में. वहां रेलवे ट्रैक पर एक आदमी आया. खुदकुशी करने का इरादा था. ट्रैक पर लेट गया. ट्रेन उसे बीच से काटकर गुजर गई. उसके बाद जो हुआ वो दर्दनाक भी था और हैरानी वाला भी. पैर वाल
08 जून 2018
06 जून 2018
14 साल का राजू यादव जो की हजारीबाग, झारखंड में अपने माता-पिता और दो भाइयों के साथ रहता था। जब वो छठी क्लास में था तभी उसे अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी, वजह था परिवार पर हज़ारों का कर्ज और माता-पिता की खराब तबियत। राजू भाइयों में सबसे बड़ा था और परिवार की आर्थिक ज़रूरतों को पूरा करने
06 जून 2018
28 मई 2018
निपाह वायरस को लेकर तमाम तरह की खबरें आ रही हैं. रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि यह चमगादड़ की लार से फैलता है, चमगादड़ जिस फल को खाता है उसमें उसका लार्वा रह जाता है. यही फल जब बाजार में जाते हैं तो उससे निपाह का खतरा बढ़ जाता है. वहीं, कुछ रिपोर्ट्स में यह भी सामने
28 मई 2018
14 जून 2018
सफलता के लिए क्या ज़रूरी है, एक डिग्री या कुछ कर गुजरने की ललक? अमित कुमार दास इस बात की मिसाल हैं कि अगर लगन हो तो बाकी सब चीज़ें अपने आप हो जाती हैं.बिहार के अररिया जिले में पैदा हुए अमित आज ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में एक सफल बिजनसमैन हैं. कभी ढाई सौ रुपये ले कर दिल्ली जाने
14 जून 2018
28 मई 2018
मोटापा एक ऐसी समस्या है, जिससे इन दिनों ज्यादातर लोग परेशान हैं. पेट कम करने या वजन कम करने के लिए लोग कई तरह की एक्सरसाइज और दवाओं का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन, इससे भी कुछ फर्क नहीं पड़ता. दरअसल, वजन बढ़ना या मोटापा आने सिर्फ अनियमित खानपान और खराब दिनचर्या का कारण है. म
28 मई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x