कौन है ये औरत, जिसकी तस्वीर वायरल हो रही है?

08 जून 2018   |  अखिलेश ठाकुर   (127 बार पढ़ा जा चुका है)

कौन है ये औरत, जिसकी तस्वीर वायरल हो रही है?

बारात वाली लाइट अपने सर पर उठाए हुए इस औरत की तस्वीर लगभग 4 दिनों से फेसबुक पर चक्कर लगा रही है. पिछले 4 दिनों में अपनी टाइमलाइन देखें, तो पाएंगे कि कई लोगों ने इस तस्वीर को शेयर किया है. सबने अलग-अलग कैप्शन लिखकर.


ये तस्वीर असल में महेश बग्जई नाम के फोटोग्राफर ने इंदौर में ली. और 24 दिसंबर को ये लिखते हुए शेयर किया:

मुझे नहीं लगता कि इस तस्वीर को किसी तरह के ब्रीफ या स्टोरीबोर्ड की आवश्यकता है. इस मां को मेरा सलाम जो ऐसी हालत में भी सुपरहीरो की तरह काम कर रही है. अतुल्य भारत!


mahesh

महेश की टाइमलाइन से इसे कई लोगों ने उठाया. और मातृत्व को नमन किया. कई लोगों ने अपनी मां को याद किया. और लिखा, ऐसा सिर्फ एक मां ही कर सकती है. कई लोगों ने सरकार को कोसा कि गरीबी क्या-क्या करवा रही है. किसी ने लिखा कि ये औरत ‘ऊंची’ जाति की होती तो इतनी मेहनत न करवाई जाती. कि एक बहुजन औरत की मेहनत पर देश ऐश कर रहा है. कुल मिलाकर सबने तस्वीर को अपने-अपने नजरिए से देखा.


इस तस्वीर को इतना शेयर किया गया क्योंकि ये औरत गर्भवती है. न होती तो इस पर इतना हल्ला न मचता. गर्भावस्था हमारे देश में इतनी ख़ास क्यों है?

हम मांओं को इज्जत भरी निगाहों से देखते हैं. औरतों को देवियों की निगाहों से देखते हैं. इसलिए औरत का दर्द में होना पुरुष के दर्द में होने से ज्यादा वजन रखता है. औरतें हमें ज्यादा इमोशनल करती हैं. और वो गर्भवती हों, तो और भी ज्यादा इमोशनल करती हैं. कहने का ये अर्थ नहीं कि हम मांओं की इज्जत न करें. लेकिन सिर्फ इसलिए कि सिर्फ वो गर्भवती है, उस पर अतिरिक्त गर्व क्यों?


प्रेगनेंसी एक औरत की समस्या नहीं, उसका चुनाव है. ये बात अलग है कि प्रेगनेंसी के दौरान काम करना एक औरत का चुनाव नहीं मजबूरी हो सकती है. अव्वल तो प्रेगनेंसी में कई औरतें काम करती हैं. क्योंकि उन्हें तकलीफ नहीं होती. कई औरतें काम करती रहना चाहती हैं ताकि वो स्वस्थ रहें. और उनका शरीर मूवमेंट में रहे. प्रेगनेंसी में काम करना कोई ऐसी चीज नहीं, जिसके लिए अपनी कुर्सियों पर खड़े होकर आप किसी औरत को सलामी दें.


दूसरी बात, अगर उस औरत की सेहत अच्छी नहीं और केवल मजबूरी में काम रही है, तो इसमें बेचारगी खोजना कहां तक सही है? वो काम कर पा रही है, इसलिए कर रही है. और अगर ये सचमुच उसकी बेचारगी ही है, तो उसे हीरो क्यों बनाना?


जब हम किसी मां या औरत के दिए गए बलिदानों की तारीफ़ करते हैं, हम उनके सारे बलिदानों को सही ठहरा देते हैं. जैसे इस औरत को प्रेगनेंसी में काम करते देख जब हम उसे हीरो बनाते हैं, हम परोक्ष रूप से ये कह रहे होते हैं कि ये अच्छा काम है. ये बलिदान अच्छा है. और इस तरह उसका काम करना सही साबित हो जाता है.


तीसरी बात ये कि हम इस तस्वीर के बारे में कुछ नहीं जानते. औरत का धर्म, जाति, वो कहां रहती है और किस परिस्थिति में वो काम कर रही है, हम नहीं जानते. हो सकता है कि ये उसका रोज का काम हो. हो सकता बस ये काम आज भर का हो.


देश में बहुत सी चीजें हैं जिन्हें देखकर दया उपजती है. बहुत सी तस्वीरें हैं जिन्हें देखकर कलेजा कांप जाता है. मजबूर लोगों को हीरो मत बनाइए. सामान्य लोगों को दयनीय मत दिखाइए. औरतों पर और तरस मत खाइए. मांओं को त्याग की मूर्तियों में तब्दील मत करिए. आपकी तस्वीर का शेयर दुनिया की वो आखिरी वस्तु है, जो किसी की मदद कर सकता है.

why is the photo of this pregnant woman being so widely shared?

https://www.thelallantop.com/jhamajham/why-is-the-photo-of-this-pregnant-woman-being-so-widely-shared/

अगला लेख: अपने सामान की सुरक्षा स्वयं करे' इन लोगों ने इस बात को ज्यादा ही सीरियसली ले लिया, मजेदार तस्वीरें



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 मई 2018
18 बरस की उम्र से बीजेपी की राजनीति करने का फल है ये.ये एक मेसेज था. जो त्रिलोचन महतो की टीशर्ट पर लिखा था. उनके पैर के पास एक पर्ची पड़ी थी. उस पर लिखा था-चुनाव के वक्त से ही तुम्हें कत्ल करने की कोशिश कर रहा था. नाकाम रहा. मगर आज तुम मारे गए.ये पर्ची जमीन पर रख छोड़ी गई
31 मई 2018
25 मई 2018
'राज़ी' देखने के बाद आपको पता चल गया होगा कि कुछ गुमनाम हीरो बिना किसी शोहरत की चाहत के लिए देश की ख़ातिर किस हद तक चले जाते हैं. भारत के रॉ(R&AW) में ऐसी कितनी कहानियां होंगी जिन पर फ़िल्में बन सकती हैं. ख़ुद इस संस्थान के संस्थापक की कहानी ऐसी है जिस पर कोई फ़िल्म बन जा
25 मई 2018
08 जून 2018
कितने दुर्भाग्य की बात है कि जिन बच्चों को मां-बाप अपना पेट काटकर बड़ा करते हैं. अपने बच्चों की खुशियों के लिए मां-बाप अपनी खुशियों को क़ुर्बान कर देते हैं, वही बच्चे बड़े होकर उनको दाने-दाने को मोहताज कर देते हैं. वहीं एक बात ये भी है कि जो बेटी अपने माता-पिता के लिए एक शब्
08 जून 2018
29 मई 2018
वाराणसी पुल हादसे के पीछे बताया जा रहा है नितिन गडकरी के बेटे का हाथ.15 मई 2018. इस दिन बीजेपी के साथ दो कांड हुए. पहला वो कर्नाटक में बहुमत पाते-पाते रह गई. दूसरा झटका लगा उत्तर प्रदेश के वाराणसी में. उस वाराणसी में जहां के सांसद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं. वहां एक नि
29 मई 2018
04 जून 2018
अगर आप सोशल मीडिया पर हैं और ये सब नहीं देखा-पढ़ा. मतलब आपने कुछ देखा ही नहीं. दर्जनों तस्वीरें. दर्जनों विडियो. सोशल मीडिया पर नेहरू की ‘चरित्रहीनता’ साबित करने के लिए एक खजाना मौजूद है. इसी खजाने में शामिल एक पोस्ट पिछले कई महीनों से खूब
04 जून 2018
05 जून 2018
1862 में बने मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलने की कवायद पिछले साल ही शुरू हो गई थी. यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ही मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलने का सुझाव केंद्र के पास भेजा था जिसे बाद में केंद्र ने स्वीकार कर लिया.कांग्रेस राज के बाद अब मोदी राज में भी नाम बदलने का ख
05 जून 2018
30 मई 2018
पेट्रोल-डीजल की महंगाई लगातार बढ़ती जा रही है. हालांकि, बुधवार को तेल कंपनियों ने मामूली कटौती की है. लेकिन, इससे कोई खास राहत आम आदमी को नहीं मिली है. अब ऐसी खबर आ रही है कि मोदी सरकार के पास ऑफर है कि वो पेट्रोल 23 रुपए 35 पैसे तक और डीजल 21 रुपए तक सस्ता कर सकती है. दु
30 मई 2018
31 मई 2018
1 नवंबर, 1999ये तारीख आंख में भर लीजिए. एक गलत कदम. एक गलत फैसला. किस तरह तकदीर बदल देता है, इसकी मिसाल देने और समझने के लिए ये बहुत मुफीद तारीख है.इस तारीख को इंडिया टुडे मैगजीन का एक इशू छपा था. मैगजीन के अंदर एक रिपोर्ट थी. रिपोर्ट क्या थी, लिस्ट थी एक. जिसकी हेडिंग थी
31 मई 2018
02 जून 2018
38 साल की औरत, शादीशुदा. जाने कितने साल पहले शादी हुई थी, जाने कितने बच्चे थे. थे भी या नहीं. मगर हां, इतना अनुमान तो लगा ही सकते हैं कि शादी को दस-एक साल तो हो ही गए होंगे.पति-पत्नी में असहमतियां होती हैं, झगड़े होते हैं. यूं भी होता है कि पति पत्नी को घर में वस्तु की तरह
02 जून 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x