याराना हो तो ऐसा... ट्रैन छूटने के कारण नहीं बन सके इंजीनियर, एक बना IFS, दूसरा IAS और तीसरा IRTS

09 जून 2018   |  प्राची सिंह   (765 बार पढ़ा जा चुका है)

याराना हो तो ऐसा... ट्रैन छूटने के कारण नहीं बन सके इंजीनियर, एक बना IFS, दूसरा IAS और तीसरा IRTS

याराना हो तो ऐसा। पटना के एक स्कूल में पढ़ाई के दौरान तीन छात्र दोस्त बने। तीनों छात्रों के पिता संयोग से इंजीनियर थे। वे भी इंजीनियर बनना चाहते थे। तीनों को इंजीनियरिंग की परीक्षा देने पटना से बाहर जाना था। तीनों को एक ही ट्रेन से यात्रा करनी थी। लेकिन संयोग कुछ ऐसा हुआ कि उन्हें स्टेशन पहुंचने में देर हो गयी। जब तक वे प्लेटफॉर्म पर पहुंचते उनकी ट्रेन खुल चुकी थी। ट्रेन छूटने का उन्हें बेहद अफसोस हुआ।


तीनों पढ़ने में बहुत तेज थे। सपने टूटने की कसक भी हुई। लेकिन उन्होंने उसी समय फैसला कर लिया कि अब इंजीनियर नहीं बनना है। आगे पढ़ाई कर सिविल सर्विसेज परीक्षा पास करने का इरादा पक्का कर लिया। तीनों अपने इरादे में सफल हुए। एक दोस्त IFS , दूसरा IAS और तीसरा IRTC के लिए चुना गया।



ये कहानी है पटना के तीन दोस्तों की। अरुण कुमार सिंह, अफजल अमानुल्ला और कुंदन सिन्हा पटना के संत माइकल स्कूल में एक साथ पढ़ते थे। जब ट्रेन छूट जाने के कारण उनके इंजीनियर बनने के सपना टूट गया तो ये तीनों ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए दिल्ली चले गये।


अरुण कुमार सिंह ने दिल्ली यूनिवर्सिटी में इकॉनोमिक्स ऑनर्स में दाखिला लिया। एम ए करने के बाद वे दो साल तक दिल्ली यूनिवर्सिटी में लेक्चरर रहे। 1979 में उनका चयन भारतीय विदेश सेवा के लिए हुआ। UPSC की मेरिट लिस्ट में उनका स्थान चौथा था।



अफजल अमानुल्ला ने दिल्ली आने के बाद सेंट स्टीफेंस कॉलेज में दाखिला लिया। उन्होंने इकॉनोमिक्स से ग्रेजुएशन किया। फिर दिल्ली स्कूल इकॉनोमिक्स से एम ए किया। 1979 में वे भारतीय प्रशासनिक सेवा के लिए चुने गये। तीसरे दोस्त कुंदन सिन्हा की किस्मत भी 1979 में ही मेहरबान हुई। वे इंडियन रेलवे टेरिफ सर्विसेज (IRTC) के लिए चुने गये।

अरुण कुमार सिंह कई देशों में राजदूत रहे। 2015 में नरेन्द्र मोदी की सरकार ने उन्हें अमेरिका का राजदूत बना कर एक बड़ी जिम्मवारी दी थी। संयुक्त बिहार में मुचकुंद दूबे के बाद इस प्रतिष्ठित पद पर जाने वाले वे दूसरे बिहारी बने। अमेरिका का राजदूत होना राजनयिक रूप से बड़ी जिम्मेवारी मानी जाती है। सरकार सबसे काबिल अफसर को ही इस पद पर तैनात करती है। विदेश नीति के हिसाब से सरकार का ये बड़ा फैसला होता है। अफजल अमानुल्ला बिहार के चर्चित IAS अफसर रहे हैं। वे बिहार के गृह सचिव भी बने।



कुंदन सिन्हा भी रेलवे के काबिल अफसर बने। विलासपुर रिजन के DRM बने। फिर वे रोलवे बोर्ड के सदस्य भी चुने गये।स्कूल के इन तीन दोस्तों की किस्मत देखिए कि वे एक ही साल (1979) भारत की उच्च सेवा के लिए चुने गये। ट्रेन छूटने की घटना ने इन तीन दोस्तों की जिंदगी में एक नया मोड़ पैदा कर दिया। अगर ट्रेन मिल जाती और वे इंजीनियरिंग की परीक्षा पास कर जाते तो उनकी भूमिका कुछ अलग ही होती। लेकिन तकदीर ने उनके लिए कुछ खास तय कर रखा था। एक दिन उनकी ट्रेन तो छूट गयी लेकिन एक नयी मंजिल के लिए रास्ता भी खुल गया।

Source: live bihar


https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/06/09/if-the-yerana-is-so-the-engine-could-not-be-created-due-to-the-exit-of-the-train-one-made-ifs-the-second-ias-and-the-third-irts/

अगला लेख: ये बंदा दिल्ली मेट्रो की सुरंग में घुसा और अगले स्टेशन पर बाहर निकला



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 जून 2018
भारतीय रेलवे जल्द ही पूरे देश में अपने रंग रूप को बदलने जा रही है। रेल मंत्रालय ने फैसला लिया है कि सभी ट्रेनों के डिब्बों को आकर्षक बनाने के लिए कलर शेड में रंगकर वर्ल्ड क्लास लुक दिया जाएगा।इस स्कीम के तरह सभी मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों के डिब्बों के कलर में बदलाव किया जा
18 जून 2018
05 जून 2018
Mysterious hidden treasures story in Hindi: दुनियाभर में कई गुप्त और रहस्यमयी खजाने हैं, जिन्हें कोई नहीं ढूंढ पाया है। बावजूद इसके, लोगों की कोशिशें कम नहीं हुई हैं। इन खजानों में सोने, चांदी और कीमती जेवरात हैं। खास बात ये है कि लोग इन खजानों को ढूंढकर लोग जल्दी अमीर बन
05 जून 2018
14 जून 2018
सफलता के लिए क्या ज़रूरी है, एक डिग्री या कुछ कर गुजरने की ललक? अमित कुमार दास इस बात की मिसाल हैं कि अगर लगन हो तो बाकी सब चीज़ें अपने आप हो जाती हैं.बिहार के अररिया जिले में पैदा हुए अमित आज ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में एक सफल बिजनसमैन हैं. कभी ढाई सौ रुपये ले कर दिल्ली जाने
14 जून 2018
12 जून 2018
आज कल सीबीएसई का रिजल्ट आ चुका हैं हर तरफ 95% पाने वालों की चर्चा चल रही हैं सोशल मीडिया हो या व्हाट्स एप्प या कुछ और | जिनके 90% हैं या उससे कम वो तो बेचारे शर्म से कुछ कह भी पा रहे मानो वो फेल हो गये हो | इतने मार्क्स की देख कर अक्सर यही सोच
12 जून 2018
26 मई 2018
बरेली से एक दूल्हा अपनी दुल्हन को लेने 35 बरातियों के साथ पाकिस्तान पहुंच गया। वहां रस्मों रिवाज से निकाह कर दुल्हन के साथ इंडिया वापस लौटा। इस दौरान देश के दोनों बॉर्डर पर सेनाओं और अफसरों ने स्वागत किया। कोई नजर उतार रहा तो कोई बलाएं लेने में लगा है। 30 दिन के लिए आई इस
26 मई 2018
30 मई 2018
Third party image referenceमेष राशिफलइस सप्ताह नए अवसर पर विचार करेंगे नए मित्र भी आपके लिए बन सकते हैं. कुछ लोगों से इस सप्ताह संबंध अच्छे हो जाएंगे नए अनुभव भी मिलने के योग आपके लिए बन रहे हैं. चली आ रही पुरानी परेशानियों पर नए सिरे से विचार करना होगा. खर्चे पर आप थोड़ा नियंत्रण बनाकर रखें कुछ लोग
30 मई 2018
26 मई 2018
सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजूकेशन (सीबीएसई) ने 12वीं बोर्ड परीक्षाओं के नतीजे शनिवार (26 मई) को घोषित कर दिए. इसमें उत्‍तर प्रदेश के गाजियाबाद की रहने वाली मेघना श्रीवास्‍तव ने पूरे देश में पहला स्‍थान पाया है. उन्‍होंने 500 अंकों में 499 अंक प्राप्‍त किए. मेघना ने अपनी
26 मई 2018
07 जून 2018
नाखूनों में सफेद सा अर्ध-चंद्राकार क्या होता है? क्या यहां पर नाखून डिस्कलर हो जाता है?ऐसा सोचकर इसको खुरच ना देना. बहुत जालिम चीज है. माफ नहीं करती. नाखून वैसे तो नेल-कटर या ब्लेड से भी काट लेते हैं. पर ये वाला पार्ट बहुत सेंसिटिव होता है गुरु. लुनुला कहते हैं इसको. लैटि
07 जून 2018
03 जून 2018
एक महिला की शक्ति का आकंलन करना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है. आज की औरत घर भी चलाना जानती है, तो बाहर की ज़िम्मेदारी भी. वो ज़माने की तमाम मुश्किलें झेल कर अपने परिवार की रक्षा करना जानती है. ये तो हुई एक आम महिला की बात, लेकिन इसके अलावा महिला का एकऔर रूप होता है, जो कि
03 जून 2018
29 मई 2018
कहते हैं कि प्रतिभा, सुविधाओं की मोहताज नहीं होती है और इस बात को गुजरात के एक ऑटोरिक्शा चालक की बेटी ने साबित कर दिखाया है। अहमदाबाद की आफरीन शेख ने गुजरात बोर्ड के 10वीं के घोषित नतीजों में 98.31 पर्सेंटाइल अंक हासिल किया है।अपनी इस शानदार सफलता पर आफरीन शेख ने कहा, ‘मै
29 मई 2018
19 जून 2018
आजकल खिचड़ी चर्चा का विषय बनी हुई है। नेताओं से लेकर सोशल मीडिया तक में खिचड़ी पर ही बातें हो रही हैं। खैर कुछ भी हो लेकिन हमने भी खिचड़ी की तरह सब कुछ मिलाकर आपके लिए तैयार की है खिचड़ी की कहानी …नेपाल से आती है सबसे पहली खिचड़ीलोक मान्यताओं के अनुसार सबसे पहले खिचड़ी बन
19 जून 2018
21 जून 2018
21 जून. बेनजीर भुट्टो का जन्मदिन. इस मौके पर हम आपको एक किस्सा सुनाते हैं. सीधे, बेनजीर की किताब से. किताब का नाम था- डॉटर ऑफ द ईस्ट. माने, पूरब की बेटी.1971 की हार के बाद पाकिस्तान सामूहिक शोक में था. उसका पूर्वी हिस्सा अलग होकर मुल्क बन चुका था. बांग्लादेश का बनना यूं ह
21 जून 2018
06 जून 2018
14 साल का राजू यादव जो की हजारीबाग, झारखंड में अपने माता-पिता और दो भाइयों के साथ रहता था। जब वो छठी क्लास में था तभी उसे अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी, वजह था परिवार पर हज़ारों का कर्ज और माता-पिता की खराब तबियत। राजू भाइयों में सबसे बड़ा था और परिवार की आर्थिक ज़रूरतों को पूरा करने
06 जून 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x