याराना हो तो ऐसा... ट्रैन छूटने के कारण नहीं बन सके इंजीनियर, एक बना IFS, दूसरा IAS और तीसरा IRTS

09 जून 2018   |  प्राची सिंह   (759 बार पढ़ा जा चुका है)

याराना हो तो ऐसा... ट्रैन छूटने के कारण नहीं बन सके इंजीनियर, एक बना IFS, दूसरा IAS और तीसरा IRTS

याराना हो तो ऐसा। पटना के एक स्कूल में पढ़ाई के दौरान तीन छात्र दोस्त बने। तीनों छात्रों के पिता संयोग से इंजीनियर थे। वे भी इंजीनियर बनना चाहते थे। तीनों को इंजीनियरिंग की परीक्षा देने पटना से बाहर जाना था। तीनों को एक ही ट्रेन से यात्रा करनी थी। लेकिन संयोग कुछ ऐसा हुआ कि उन्हें स्टेशन पहुंचने में देर हो गयी। जब तक वे प्लेटफॉर्म पर पहुंचते उनकी ट्रेन खुल चुकी थी। ट्रेन छूटने का उन्हें बेहद अफसोस हुआ।


तीनों पढ़ने में बहुत तेज थे। सपने टूटने की कसक भी हुई। लेकिन उन्होंने उसी समय फैसला कर लिया कि अब इंजीनियर नहीं बनना है। आगे पढ़ाई कर सिविल सर्विसेज परीक्षा पास करने का इरादा पक्का कर लिया। तीनों अपने इरादे में सफल हुए। एक दोस्त IFS , दूसरा IAS और तीसरा IRTC के लिए चुना गया।



ये कहानी है पटना के तीन दोस्तों की। अरुण कुमार सिंह, अफजल अमानुल्ला और कुंदन सिन्हा पटना के संत माइकल स्कूल में एक साथ पढ़ते थे। जब ट्रेन छूट जाने के कारण उनके इंजीनियर बनने के सपना टूट गया तो ये तीनों ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए दिल्ली चले गये।


अरुण कुमार सिंह ने दिल्ली यूनिवर्सिटी में इकॉनोमिक्स ऑनर्स में दाखिला लिया। एम ए करने के बाद वे दो साल तक दिल्ली यूनिवर्सिटी में लेक्चरर रहे। 1979 में उनका चयन भारतीय विदेश सेवा के लिए हुआ। UPSC की मेरिट लिस्ट में उनका स्थान चौथा था।



अफजल अमानुल्ला ने दिल्ली आने के बाद सेंट स्टीफेंस कॉलेज में दाखिला लिया। उन्होंने इकॉनोमिक्स से ग्रेजुएशन किया। फिर दिल्ली स्कूल इकॉनोमिक्स से एम ए किया। 1979 में वे भारतीय प्रशासनिक सेवा के लिए चुने गये। तीसरे दोस्त कुंदन सिन्हा की किस्मत भी 1979 में ही मेहरबान हुई। वे इंडियन रेलवे टेरिफ सर्विसेज (IRTC) के लिए चुने गये।

अरुण कुमार सिंह कई देशों में राजदूत रहे। 2015 में नरेन्द्र मोदी की सरकार ने उन्हें अमेरिका का राजदूत बना कर एक बड़ी जिम्मवारी दी थी। संयुक्त बिहार में मुचकुंद दूबे के बाद इस प्रतिष्ठित पद पर जाने वाले वे दूसरे बिहारी बने। अमेरिका का राजदूत होना राजनयिक रूप से बड़ी जिम्मेवारी मानी जाती है। सरकार सबसे काबिल अफसर को ही इस पद पर तैनात करती है। विदेश नीति के हिसाब से सरकार का ये बड़ा फैसला होता है। अफजल अमानुल्ला बिहार के चर्चित IAS अफसर रहे हैं। वे बिहार के गृह सचिव भी बने।



कुंदन सिन्हा भी रेलवे के काबिल अफसर बने। विलासपुर रिजन के DRM बने। फिर वे रोलवे बोर्ड के सदस्य भी चुने गये।स्कूल के इन तीन दोस्तों की किस्मत देखिए कि वे एक ही साल (1979) भारत की उच्च सेवा के लिए चुने गये। ट्रेन छूटने की घटना ने इन तीन दोस्तों की जिंदगी में एक नया मोड़ पैदा कर दिया। अगर ट्रेन मिल जाती और वे इंजीनियरिंग की परीक्षा पास कर जाते तो उनकी भूमिका कुछ अलग ही होती। लेकिन तकदीर ने उनके लिए कुछ खास तय कर रखा था। एक दिन उनकी ट्रेन तो छूट गयी लेकिन एक नयी मंजिल के लिए रास्ता भी खुल गया।

Source: live bihar


https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/06/09/if-the-yerana-is-so-the-engine-could-not-be-created-due-to-the-exit-of-the-train-one-made-ifs-the-second-ias-and-the-third-irts/

अगला लेख: ये बंदा दिल्ली मेट्रो की सुरंग में घुसा और अगले स्टेशन पर बाहर निकला



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जून 2018
आज कल सीबीएसई का रिजल्ट आ चुका हैं हर तरफ 95% पाने वालों की चर्चा चल रही हैं सोशल मीडिया हो या व्हाट्स एप्प या कुछ और | जिनके 90% हैं या उससे कम वो तो बेचारे शर्म से कुछ कह भी पा रहे मानो वो फेल हो गये हो | इतने मार्क्स की देख कर अक्सर यही सोच
12 जून 2018
06 जून 2018
नई दिल्ली: अकसर देखा गया है कि रेल में यात्रा के दौरान परिवार के साथ चलते समय यात्री जरूरत से ज्यादा सामान लेकर चलते हैं. कई बार तो कुछ लोग अकेले होते हुए भी काफी सामान लेकर चलते हैं. मौजूद जगह पर वे ऐसे कब्जा करते हैं जैसे कि वे ही अकेले सफर क
06 जून 2018
08 जून 2018
इस वीडियो को देखिए. एक बार नहीं. बार बार. ईयरफोन लगाकर. स्पीकर तेजकर. अकेले. दोस्तों के साथ. तब तक. जब तक इसकी एक एक आवाज, एक एक शब्द, एक एक भाव रोएं रोएं से भीतर न पैठ जाए.ये कल्कि कोएचलिन हैं. ये उनकी लिखी कविता है. या कि एक सच्चाई. एक खौफ. जिसके हम सब जो पढ़ रहे हैं, ह
08 जून 2018
08 जून 2018
प्यार से ही दुनिया चल रही है. नफ़रत कितनी भी जगह क्यों न बना ले, अगर प्यार है तो हर मर्ज़ की दवा मिल जाती है, सारी परेशानियों का हल मिल जाता है.लेकिन कई बार कुछ लोग ग़लत इंसान से मोहब्बत कर लेते हैं. इतनी गहरी मोहब्बत कि उनके लिए सही-ग़लत के सारे पैमाने ख़त्म हो जाते हैं.
08 जून 2018
21 जून 2018
21 जून. बेनजीर भुट्टो का जन्मदिन. इस मौके पर हम आपको एक किस्सा सुनाते हैं. सीधे, बेनजीर की किताब से. किताब का नाम था- डॉटर ऑफ द ईस्ट. माने, पूरब की बेटी.1971 की हार के बाद पाकिस्तान सामूहिक शोक में था. उसका पूर्वी हिस्सा अलग होकर मुल्क बन चुका था. बांग्लादेश का बनना यूं ह
21 जून 2018
03 जून 2018
एक महिला की शक्ति का आकंलन करना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है. आज की औरत घर भी चलाना जानती है, तो बाहर की ज़िम्मेदारी भी. वो ज़माने की तमाम मुश्किलें झेल कर अपने परिवार की रक्षा करना जानती है. ये तो हुई एक आम महिला की बात, लेकिन इसके अलावा महिला का एकऔर रूप होता है, जो कि
03 जून 2018
08 जून 2018
हिंदुओं में ऐसी मान्यता है कि इस दुनिया का सबसे पुराना धर्म हिंदू सनातन धर्म है. इसके अनुसार माना जाता है कि ब्रह्मा का कर्म है सृष्टि की रचना करना, भगवान विष्णु का कर्म है उसका संचालन करना और भगवान शिव का कर्म है विनाश करना. वैसे तो हिंदू धर्म में हर धार्मिक ग्रंथों की अ
08 जून 2018
29 मई 2018
कहते हैं कि प्रतिभा, सुविधाओं की मोहताज नहीं होती है और इस बात को गुजरात के एक ऑटोरिक्शा चालक की बेटी ने साबित कर दिखाया है। अहमदाबाद की आफरीन शेख ने गुजरात बोर्ड के 10वीं के घोषित नतीजों में 98.31 पर्सेंटाइल अंक हासिल किया है।अपनी इस शानदार सफलता पर आफरीन शेख ने कहा, ‘मै
29 मई 2018
26 मई 2018
सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजूकेशन (सीबीएसई) ने 12वीं बोर्ड परीक्षाओं के नतीजे शनिवार (26 मई) को घोषित कर दिए. इसमें उत्‍तर प्रदेश के गाजियाबाद की रहने वाली मेघना श्रीवास्‍तव ने पूरे देश में पहला स्‍थान पाया है. उन्‍होंने 500 अंकों में 499 अंक प्राप्‍त किए. मेघना ने अपनी
26 मई 2018
19 जून 2018
ट्रेनों के आवागमन में लेटलतीफी बीते कुछ सालों तक केवल सर्दियों के मौसम तक ही सीमित रहती थी. सर्दियों में कोहरे की मार झेल रही ट्रेनों में सफर करने वाला हर शख्‍स खुद को लेटलतीफी के लिए मानसिक तौर पर तैयार रखता था. बदली हुई मौजूदा परिस्थितियों में ट्रेनों की लेतलतीफी अब सर्
19 जून 2018
09 जून 2018
हमारे जहन में जब भी इंटरव्यू की बात आती है तो पूरे शरीर में पसीना आने लगता है। लिखित में पेपर देना आसान होता है लेकिन इंटरव्यू में आपको अथाह नोलेज, हाजिरजवाबी और संयम तीनो की जरूरत पड़ती है।पहला सवाल तो अक्सर महिलाओ से पूछा जाता है, अगर आपके पति का किसी और महिला से अफेयर
09 जून 2018
07 जून 2018
आप बीमार हो और डॉक्टर को दिखाने हॉस्पिटल जाओ. लेकिन वहां पहुंच कर आपको पता चले कि आपका इलाज डॉक्टर के बजाय सफाई कर्मी करेगा. फिर तो कुछ देर के लिए सन्न हो जाओगे. सही-गलत की समझ होगी तो बवाल काट दोगे. लेकिन उत्तर प्रदेश में ऐसा न हुआ. क्योंकि ये घटना जहां की है, वहां हाई-फ
07 जून 2018
19 जून 2018
आजकल खिचड़ी चर्चा का विषय बनी हुई है। नेताओं से लेकर सोशल मीडिया तक में खिचड़ी पर ही बातें हो रही हैं। खैर कुछ भी हो लेकिन हमने भी खिचड़ी की तरह सब कुछ मिलाकर आपके लिए तैयार की है खिचड़ी की कहानी …नेपाल से आती है सबसे पहली खिचड़ीलोक मान्यताओं के अनुसार सबसे पहले खिचड़ी बन
19 जून 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x