दर्द नहीं,मुस्कान बनो

07 अप्रैल 2015   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (302 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@@@ दर्द नहीं,मुस्कान बनो @@@@@@
**********************************************************
न शैतान बनो,न हैवान बनो,भगवान् नहीं इन्सान बनो |
न भीड़ बनो, न भेड़ बनो , दर्द नहीं, मुस्कान बनो ||
दुश्मनी की गाँठे खोलो,मूँह से सोच-समझ कर बोलो |
प्रेम-अमृत जीवन में घोलो,नहीं कभी फिजुल में बोलो ||
न खुदगर्ज बनो,न मर्ज बनो,शर्म नहीं,पहचान बनो |
न भीड़ बनो, न भेड़ बनो , दर्द नहीं ,मुस्कान बनो ||
*****************************************************




अगला लेख: हिटलर पत्नी



परसराम
07 अप्रैल 2015

सही बात है

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 अप्रैल 2015
खानदान की इज्जत के नाम पर बहन की हत्या करने वाले कलयुगी भाइयों की काली करतूतों का भण्डाफोड़ करती कविता - @@@@@@@@ भेड़िया भाई @@@@@@@@ *********************************************************** जो करते हैं मटरगश्ती ,वो पढ़ते होंगें कोलेज में ख़ाक | पढाई को ताक पर रख कर ,लड़कियों को रहते ताक || दस -दस सह
02 अप्रैल 2015
02 अप्रैल 2015
@@@@@ हमारे प्यारे बाबूजी @@@@@ ************************************************* सीधे -सादे ,गौरे -नाटे, मितभाषी थे बाबूजी | थोड़े में संतुष्ट रहने वाले ,थे हमारे बाबूजी || थे अपनी धुन के पक्के ,गृहस्थ-साधू थे बाबूजी | अपने सभी अनुजों के , पितृ-तुल्य थे बाबूजी || बहू को भी बेटा समझा , ऐसे उदार थे बा
02 अप्रैल 2015
02 अप्रैल 2015
हि
@@@@@@ हिटलर पत्नी @@@@@@ ************************************************* अपनी पत्नी के राज में ,मैं रहता हूँ मायूस | उसके सामने मैं कभी भी ,नही रहता हूँ खुश || एक दिन मुझे अपनी , प्रेमिका याद आ गयी | और होठों पर मेरे, मुस्कान छा गयी || मेरी मुस्कान देख कर, पत्नी घबरा गयी | नब्ज देखने लगी वो मेरी
02 अप्रैल 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x