पाकिस्तान ने कश्मीर को 'आजाद' करवाने के लिए ये आदमी भेजा है

12 जून 2018   |  प्राची सिंह   (108 बार पढ़ा जा चुका है)

पाकिस्तान ने कश्मीर को 'आजाद' करवाने के लिए ये आदमी भेजा है

पाकिस्तानी डायरेक्टर इमरान मलिक की एक फिल्म आ रही है – ‘आज़ादी.’ मसाला फिल्म है. इसमें हीरो पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर में भारतीय हिस्से वाले कश्मीर को मिलाना चाहता है. इसलिए उस कश्मीर को भारत से ‘आज़ाद’ कराने की लड़ाई लड़ता है. ये रोल किया है मोअम्मर राणा ने.

मोअम्मर ने पाकिस्तानी अखबार डॉन को दिए इंटरव्यू में कहा है कि “कश्मीर (भारतीय) में हमारी बहनों को रेप किया जा रहा है, बच्चों के कत्ल हो रहे हैं और ये सब यूनाइटेड नेशंस में क्यों नहीं दिखाया जा रहा? क्यों भारत हर बार ये करके निकल जाता है? मैं ये फिल्म कश्मीर (भारतीय) के बहुत बहादुर लोगों और वहां दमन से उनकी आज़ादी के नाम डेडिकेट करता हूं.”

करीब 20 साल के करियर में मोअम्मर ने ‘बदमाश गुज्जर’, ‘मुझे चांद चाहिए’, ‘जंगल क्वीन’, ‘लव में गम’ और ‘भाई लोग’ जैसी फिल्में की है. उनकी सबसे उल्लेखनीय फिल्मों में 1998 में आई ‘चूड़ियां’ थीं. ये सबसे ज्यादा कमाई करने वाली पाकिस्तानी पंजाबी फिल्म बनी थी. ये सबसे ज्यादा कमाई थी 20 करोड़. उनकी आने वाली एक फिल्म का नाम है – ‘प्यार की एफआईआर’.

मोअम्मर के बारे में आखिरी बात ये कि वे दो भारतीय फिल्मों में भी काम कर चुके हैं. महिमा चौधरी स्टारर ‘दोबारा’ (2004) और मनीषा कोइराला, जैकी श्रॉफ के साथ ‘एक पल.. जो ज़िंदगी बदल दे’ (2010).


‘आज़ादी’ में फीमेल लीड हैं सोन्या हुसैन जो एक ब्रिटिश जर्नलिस्ट बनी हैं. फिल्म की शूटिंग पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर, ब्रिटेन और पाकिस्तान में की गई है. ये फिल्म 15 जून को ईद के मौके पर पाकिस्तान में रिलीज हो रही है. आइए सचित्र बताते हैं कि ये हीरो अब से तीन दिन बाद कैसे कश्मीर को भारत से ‘आज़ाद’ करवा देगा.


1. कहानी शुरू होती है लंदन से.


vlcsnap-2018-06-12-14h32m51s732


2. नायिका सो रही है. नर्म बिस्तर पर. ए क्लास लाइफ. नाम है – ज़ारा.


vlcsnap-2018-06-12-14h32m57s907


3. फिर उसे शायद एक ख़त मिलता है. अपने लवर का. जो अब किसी ऐसे रास्ते पर निकल चुका है जो न होता अगर वो अलग न हुए होते. सिर्फ अनुमान. ख़ैर, तो लवर की आवाज में मैसेज सुनाई देता है – “तुम मेरी जिंदगी में कुछ पल के लिए उस चांद की तरह शामिल हो, जो ग़ुलामी की रात में निकलता है. कई साल ये जिंदगी, तुम्हारी याद के हवाले किए रखी. अब ये ज़िंदगी जहाद के हवाले कर चुका हूं.”


vlcsnap-2018-06-12-13h45m11s615


4. ज़ारा सोचती है – “जिन रिश्तों से मेरे बरसों के फासले थे, उन रिश्तों को उन्होंने मेरे, आज से जोड़ दिया. मैं उससे मिलकर उसे सबकुछ बता दूंगी.” और उसके पास जाने का फैसला करती है.


vlcsnap-2018-06-12-13h45m13s772


5. लंदन से फ्लाइट लेकर पहुंचती है, कहां? भारत के “कब्जे” वाले कश्मीर.


vlcsnap-2018-06-12-13h45m19s972


6. अपने लवर के घर पहुंचती है कश्मीर घाटी में. घर उदास है. सूनापन है. पेंटिंग्स से कलर गायब हैं. वो पूछती है – आज़ाद कहा हैं? घर की ये महिला जवाब देती हैं – “कश्मीर की आज़ादी के लिए लड़ रहे हैं.”


vlcsnap-2018-06-12-13h45m35s522



7. अब होगी हीरो की एंट्री. अपन के नहीं, पाकिस्तानी दर्शकों के.


vlcsnap-2018-06-12-13h45m39s314


8. एंट्री 1ः ‘घुंघटे में चंदा है, फिर भी है फैला..’


vlcsnap-2018-06-12-13h45m38s132


9. एंट्री 2ः ‘वो आ गया. देखो, वो आ गया..’


vlcsnap-2018-06-12-13h45m51s319


10. एंट्री 3ः बहुत ज्यादा नाटक करने वाली आवाज़ में इन विजुअल्स के साथ उसका डायलॉग आता है – “तुम में आज ना होने का कोई दुख नहीं है मुझे. क्योंके मैं…….. अपना फर्ज निभा चुका हूं.”


vlcsnap-2018-06-12-14h51m26s052


11. एंट्री 4ः एक इंडियन सोल्जर को पकड़ लिया है और पाकिस्तानी हीरो मार रहा है. क्योंकि फिल्म मीडियन एक ऐसी कल्पना है जहां किसी के द्वारा, कुछ भी किया जा सकता है.


kljljl


12. एंट्री 5ः घूंघट के पीछे चेहरा ये था. अति नाटकीय भाव-भंगिमा. दांत भींचे हुए. कंधे उचके हुए. गर्दन धंसाई हुई. जैसे ‘चाइना गेट’ (1998) में जगीरा की थी – “जो मेरे मन को भाया, तो मैं कुत्ता काट के खाया.”


vlcsnap-2018-06-12-13h46m21s067


13. शायद इस ‘हीरो’ के पिता हैं. आंखें भरकर कहते हैं – “एक ख़्वाब देखा था मैंने. कश्मीर की आज़ादी का.”


vlcsnap-2018-06-12-14h56m07s001


14. हीरोइन ज़ारा इन बुज़ुर्गवार को बोलती है – “आपको अपने मिशन को आखिरी हद तक लेकर चलना होगा.” और चूंकि वो (पाकिस्तानी मूल की?) ब्रिटिश जर्नलिस्ट है तो पहुंच जाती है भारतीय कश्मीर घाटी के अंदरूनी हिस्से में. आज़ाद का इंटरव्यू करने के बहाने उससे मिलने.


vlcsnap-2018-06-12-14h58m23s788


15. आगे कथाकार का दिखाना ये है कि भारतीय सेना ‘अत्याचार’ कर रही है.


vlcsnap-2018-06-12-13h48m21s340


16. पिच्चर का हीरो लोगों को बचा रहा है.


vlcsnap-2018-06-12-13h46m53s640


17. ‘हो गई तैयार, हमारी आरमी.’ (ये सीन देखकर श्रीदेवी-शाहरुख खान की 1996 वाली पिच्चर ‘आर्मी’ का गाना याद आ गया.)


vlcsnap-2018-06-12-13h46m58s923


18. हालांकि पिच्चर का हीरो गन को तीरंदाजी की शैली में पकड़ता है.


vlcsnap-2018-06-12-13h50m46s665


19. नायिका पूछती है – ‘जहां तक मैं तुम्हे जानती हूं तुम एक पीस लविंग इंसान थे.’


vlcsnap-2018-06-12-15h07m22s963


20. नायक कुछ जवाब देता है. लेकिन फिल्म संस्थान में उच्चारण कक्षाएं अटेंड नहीं की थी, तो यहां दर्शक को समझ नहीं आता

.

vlcsnap-2018-06-12-13h47m02s895


21. बावजूद इसके कि घाटी में आग लगी है और लोग दुखी हैं. अब नाच-गाने की बारी.


vlcsnap-2018-06-12-15h07m06s379


22. गाने के बोल हैं – “माइया वे.” सेट है ऋतिक रोशन से लेकर टाइगर श्रॉफ जैसे कई हीरोज़ की फिल्मों का.


vlcsnap-2018-06-12-13h47m36s625


23. दाढ़ी कटाकर हीरो एकदम वरुण धवन लग रहा है.


vlcsnap-2018-06-12-13h47m25s769


24. इस बीच अपने आज़ाद के पिता उर्फ नेताजी सक्रिय हो गए हैं. कह रहे हैं – ‘अपना हक न मिले तो छीन लेना चाहिए.’


vlcsnap-2018-06-12-13h47m44s265


25. अब फौज और पुलिस पीछे पड़ी है. ब्रिटिश जर्नलिस्ट इंटरव्यू लेते लेते ‘मिशन’ का हिस्सा बन गई है शायद?


vlcsnap-2018-06-12-13h47m50s416


26. एक पाकिस्तानी फिल्म में भारतीय फौजी ऐसे दिखते हैं.


vlcsnap-2018-06-12-13h47m58s741


27. एक पाकिस्तानी फिल्म में भारतीय नेता ऐसे दिखते हैं जिनके लंबे-लंबे तिलक लगाए होते हैं और जो जबड़े भींचे ही रहते हैं. जो over-dramatic होते हैं.


vlcsnap-2018-06-12-13h48m02s565


28. मीटिंग्स में भी.


vlcsnap-2018-06-12-13h51m14s285


29. लेकिन उधर पाकिस्तानी नायक के हौसले बुलंद है. वो पाकिस्तान का झंडा लिए-लिए भारतीय कश्मीर के जंगलों में घूम रहा है.


vlcsnap-2018-06-12-13h51m02s842


30. सिर पर स्टाइलिश पट्टी बांधी हुई है. बोल रहा है – “अब हम जागेंगे. आज़ादी की सुबह तक जागेंगे. अगर सोये भी, तो शहादत की बाहों में सोएंगे.”


vlcsnap-2018-06-12-13h50m13s671


31. इसके साथ ये चार बहादुर और हैं. बस ये पांच लोग कश्मीर को आज़ाद करवाएंगे.


vlcsnap-2018-06-12-13h50m58s818


32. इस बीच फिर से नाच गाने का समय हो चुका है.


vlcsnap-2018-06-12-13h50m42s526


33. एक और लोकेशन. नई कॉस्ट्यूम्स में.


vlcsnap-2018-06-12-13h50m38s654


34. बाहुबली पिच्चर वाला झरना.


vlcsnap-2018-06-12-13h47m06s291


35. अब अपने साथियों के साथ जंग की ऐलान का वक्त. आखिरी जंग. बहुत सारा गुस्सा चेहरे पर.


vlcsnap-2018-06-12-13h48m11s613


36. एक सेल्फी ले ली जाए जाते-जाते.


vlcsnap-2018-06-12-13h49m27s882


37. धर्म की शरण में.


vlcsnap-2018-06-12-13h49m23s050


38. गिटार ले लिया है हाथ में. सुर निकलने का इंतजार.


vlcsnap-2018-06-12-13h52m00s841


39. लड़ते-लड़ते घायल. नर्स पहुंच चुकी हैं. मरहम पट्टी है नहीं, सिर्फ मनोबल बढ़ा सकती हैं.


vlcsnap-2018-06-12-13h51m22s221


40. बम फूट गया है.


vlcsnap-2018-06-12-13h51m52s922


41. कश्मीर आजाद हो गया है.


vlcsnap-2018-06-12-13h52m15s958


ये स्टोरी उन प्रोड्यूसर्स और डायरेक्टर्स पर लानत भेजती है जो फिल्ममेकिंग विधा का इस्तेमाल ऐसी मूवीज़ बनाने में करते हैं जिसमें धर्म और राष्ट्र जैसे भावों का पैसे कमाने के लिए यूज़ किया जाता है. ताकि दर्शकों के इमोशंस का दुरुपयोग सिनेमाघर में किया जा सके. वो फिल्ममेकर चाहे किसी भी देश का हो. भारत का या पाकिस्तान का. अगर ‘बाग़ी-2’ में टाइगर श्रॉफ के फौजी कैरेक्टर के जरिए एक व्यक्ति को गाड़ी के बोनट पर बांधकर थियेटर में सीटियां बजवाना डायरेक्टर अहमद खान का घटिया काम था, तो ‘आज़ादी’ जैसी पूरी फिल्म के जरिए पाकिस्तानी डायेरक्टर इमरान मलिक ने भी यही किया है.

‘गदर’ जैसी फिल्म में भी भारत का नायक पाकिस्तान जाता है अपनी महबूबा को लेते हुए तो वो उस मुल्क की बेइज्जती नहीं करता. वो पाकिस्तान जिंदाबाद तक बोलता है. बस वो हिंदुस्तान मुर्दाबाद नहीं बोलना चाहता. लेकिन फिर भी हम उस फिल्म की आलोचना करते हैं क्योंकि वो देश के लिए लोगों के प्रेम का व्यावसायिक दुरुपयोग करती है. बावजूद इसके कि वो ‘आज़ादी’ जैसी फिल्मों से कम harmless है. लेकिन फिर भी आलोचना इसलिए ताकि एक मुल्क के तौर पर हमारा intellect और human growth कभी न रुके. वो विकसित होती रहे. परिष्कृत होती रहे.




लकिन दुनिया का कोई फिल्ममेकर जब अधकचरे ज्ञान और व्यावसायिक मुनाफे के लिए ऐसा प्रोपोगैंडा फैलाता है तो वो निंदनीय है. फिल्में एक बेहतर दुनिया के निर्माण के लिए होती हैं. हमें सकारात्मक कहानियां सुनाने और समाज के तौर पर हमें बेहतरी की तरफ ले जाने के लिए होती हैं. ये सब करने के लिए नहीं.

जैसे डायरेक्टर शोएब मंसूर की दो पाकिस्तानी फिल्में जो भारत में भी दर्शकों ने बहुत चाव लेकर, बहुत आदर के साथ देखी – ‘ख़ुदा के लिए’ (2007) और ‘बोल’ (2010).



Why it is stupid for Pakistani film Azaadi to show hero Moammar Rana fight Indian Army to liberate Kashmir from India?

https://www.thelallantop.com/jhamajham/why-it-is-stupid-for-pakistani-film-azaadi-to-show-hero-moammar-rana-fight-indian-army-to-liberate-kashmir-from-india/

अगला लेख: महिलाओं के किरदार पहले के Serials में कितने सही थे... अब ये या तो आदर्श बहू या फिर वैम्प बनाते हैं



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 जून 2018
ईमानदारी एक ऐसा शब्द जो शायद अब कम लोगों में ही देखने को मिलती है. जिस दौर में लोग चंद रुपयों के लिए अपना ईमान तक बेच देते हैं. उस दौर में अब भी आपको कुछ ऐसे ईमानदार लोग मिल जायेंगे, जिनके लिए आज भी उनका ईमान सबसे बढ़कर है. इसके लिए वो किसी भी प्रकार का समझौता नहीं करते, च
13 जून 2018
04 जून 2018
अगर आप सोशल मीडिया पर हैं और ये सब नहीं देखा-पढ़ा. मतलब आपने कुछ देखा ही नहीं. दर्जनों तस्वीरें. दर्जनों विडियो. सोशल मीडिया पर नेहरू की ‘चरित्रहीनता’ साबित करने के लिए एक खजाना मौजूद है. इसी खजाने में शामिल एक पोस्ट पिछले कई महीनों से खूब
04 जून 2018
06 जून 2018
बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता धर्मेंद्र आज 82 साल के हैं लेकिन काम को लेकर उनमें आज भी पहले ही जैसी एनर्जी है. मिट्टी की खुशबू से वह आज भी जुड़े हुए हैं और आज-कल वह बॉलीवुड की चमक-धमक से दूर खेती-बाड़ी करते हुए नजर आ रहे हैं. दरअसल, इंस्टाग्राम पर आपका धरम नाम के एक इंस्टाग्र
06 जून 2018
05 जून 2018
Mysterious hidden treasures story in Hindi: दुनियाभर में कई गुप्त और रहस्यमयी खजाने हैं, जिन्हें कोई नहीं ढूंढ पाया है। बावजूद इसके, लोगों की कोशिशें कम नहीं हुई हैं। इन खजानों में सोने, चांदी और कीमती जेवरात हैं। खास बात ये है कि लोग इन खजानों को ढूंढकर लोग जल्दी अमीर बन
05 जून 2018
29 मई 2018
कहते हैं कि प्रतिभा, सुविधाओं की मोहताज नहीं होती है और इस बात को गुजरात के एक ऑटोरिक्शा चालक की बेटी ने साबित कर दिखाया है। अहमदाबाद की आफरीन शेख ने गुजरात बोर्ड के 10वीं के घोषित नतीजों में 98.31 पर्सेंटाइल अंक हासिल किया है।अपनी इस शानदार सफलता पर आफरीन शेख ने कहा, ‘मै
29 मई 2018
30 मई 2018
Third party image referenceमेष राशिफलइस सप्ताह नए अवसर पर विचार करेंगे नए मित्र भी आपके लिए बन सकते हैं. कुछ लोगों से इस सप्ताह संबंध अच्छे हो जाएंगे नए अनुभव भी मिलने के योग आपके लिए बन रहे हैं. चली आ रही पुरानी परेशानियों पर नए सिरे से विचार करना होगा. खर्चे पर आप थोड़ा नियंत्रण बनाकर रखें कुछ लोग
30 मई 2018
04 जून 2018
बिहार की बेटी कल्पना कुमारी ने NEET 2018 की परीक्षा में ऑल इंडिया में टॉप किया है। कल्पना को 720 में से 691 अंक मिले हैं। सीबीएसई के अनुसार कल्पना के 99.99% फीसदी पर्सेंटाइल आए हैं।सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) आज नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET 201
04 जून 2018
06 जून 2018
फ़िल्म बनाना कोई आसन काम नहीं है. एक शॉट लेने में कई बार सैकड़ों रीटेक लेने पड़ते हैं. टेक्निकल टीम छोटी-छोटी ग़लतियों पर भी बहुत बारीक़ नज़र रखती है. इन सबके बावज़ूद भी किसी न किसी सीन में, कुछ बड़ी ग़लतियां हो जाती हैं, जिनका पता फ़िल्म रिलीज़ होने के बाद लगता है.इन बॉलीवु
06 जून 2018
05 जून 2018
Mysterious hidden treasures story in Hindi: दुनियाभर में कई गुप्त और रहस्यमयी खजाने हैं, जिन्हें कोई नहीं ढूंढ पाया है। बावजूद इसके, लोगों की कोशिशें कम नहीं हुई हैं। इन खजानों में सोने, चांदी और कीमती जेवरात हैं। खास बात ये है कि लोग इन खजानों को ढूंढकर लोग जल्दी अमीर बन
05 जून 2018
05 जून 2018
इंडिया के सबसे अमीर आदमी के बेटे आकाश अंबानी (जियो चलाया है, बाप का नाम तो सुना ही होगा) की शादी होने जा रही है. हीरा व्यापारी रसल मेहता की बेटी श्र्लोका मेहता से. लेकिन शादी के पहले भी तो कुछ फंक्शन होते हैं. एंगेजमेंट वगैरह टाइप. तो प्रपोज़ कर अंगूठी पहनाने वाली रस्म गो
05 जून 2018
08 जून 2018
प्यार से ही दुनिया चल रही है. नफ़रत कितनी भी जगह क्यों न बना ले, अगर प्यार है तो हर मर्ज़ की दवा मिल जाती है, सारी परेशानियों का हल मिल जाता है.लेकिन कई बार कुछ लोग ग़लत इंसान से मोहब्बत कर लेते हैं. इतनी गहरी मोहब्बत कि उनके लिए सही-ग़लत के सारे पैमाने ख़त्म हो जाते हैं.
08 जून 2018
09 जून 2018
हमारे जहन में जब भी इंटरव्यू की बात आती है तो पूरे शरीर में पसीना आने लगता है। लिखित में पेपर देना आसान होता है लेकिन इंटरव्यू में आपको अथाह नोलेज, हाजिरजवाबी और संयम तीनो की जरूरत पड़ती है।पहला सवाल तो अक्सर महिलाओ से पूछा जाता है, अगर आपके पति का किसी और महिला से अफेयर
09 जून 2018
13 जून 2018
ईमानदारी एक ऐसा शब्द जो शायद अब कम लोगों में ही देखने को मिलती है. जिस दौर में लोग चंद रुपयों के लिए अपना ईमान तक बेच देते हैं. उस दौर में अब भी आपको कुछ ऐसे ईमानदार लोग मिल जायेंगे, जिनके लिए आज भी उनका ईमान सबसे बढ़कर है. इसके लिए वो किसी भी प्रकार का समझौता नहीं करते, च
13 जून 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x