भारत के 250 रुपये से सिडनी में 150 करोड़ तक की कहानी

14 जून 2018   |  कुनाल मंजुल   (225 बार पढ़ा जा चुका है)

सफलता के लिए क्या ज़रूरी है, एक डिग्री या कुछ कर गुजरने की ललक? अमित कुमार दास इस बात की मिसाल हैं कि अगर लगन हो तो बाकी सब चीज़ें अपने आप हो जाती हैं.

बिहार के अररिया जिले में पैदा हुए अमित आज ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में एक सफल बिजनसमैन हैं. कभी ढाई सौ रुपये ले कर दिल्ली जाने वाले अमित आज अपने जिले में 150 करोड़ से इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज खोल रहे हैं.



अमित की कहानी कई साल पहले बिहार के अररिया जिले के एक गांव मिरदौल से शुरू होती हैं. गरीबी में पले अमित किसी तरह बारहवीं पास करते हैं और फिर शुरू होती है कमाने और जिंदा रहने की जंग. बहुत कुछ सोचा कि चलो गांव में मछली पालें, किसी तरह एक ट्रैक्टर ले कर कुछ करें. लेकिन हर काम में पैसे की कमी सामने आ जाती.

फिर वही किया, बिहार से पलायन. दिल्ली आए तो सोचा थोड़ा कंप्यूटर चलाना सीख लेंगे और छोटी मोटी नौकरी करके कुछ पैसे बचा लेंगे. तब अमित घर से किसी तरह 250 रुपये लेकर आए थे. लेकिन दिल्ली में कंप्यूटर इंस्टिट्यूट ने उन्हें दाखिला देने से ही इनकार कर दिया. वह बताते हैं, “हमें अंग्रेजी नहीं आती थी. वहां जो सवाल पूछे हमें समझ नहीं आए.”



तब अमित ने एक इंग्लिश स्पीकिंग कोर्स किया और फिर उसी कंप्यूटर इंस्टिट्यूट गए. इस बार दाखिला मिला और सीखने लगे. “फिर टेस्ट हुआ तो मेरे सबसे अच्छे नंबर आए. मुझे वहां नौकरी भी मिल गई. इसका बड़ा फायदा हुआ क्योंकि मेरे पास कंप्यूटर खरीदने के पैसे नहीं थे. तो वहां रहते हुए मैं अभ्यास करता रहा.” फिर अमित को बेहतर नौकरी का ऑफर आया लेकिन उन्होंने मना कर दिया क्योंकि वह अपना काम करने का मन बना चुके थे.


किस्मत बदली, एक कॉन्फ्रेंस के सिलसिले में अमित सन 2008 में ऑस्ट्रेलिया आए. देश पसंद आया, काम करने के मौके दिखे और अमित ने फैसला किया ऑस्ट्रेलिया में ही कुछ करने का. लेकिन इसी बीच उनके पिता की मृत्य हो गई. अमित ने हिम्मत नहीं हारी और ऑस्ट्रेलिया में जम गए.



आज अमित ऑस्ट्रेलिया में ISOFT नाम से सॉफ्टवेयर कंपनी के मालिक हैं जिसका टर्नओवर 150 करोड़ रुपये है. लेकिन अभी भी अमित को बिहार में पटना से 300 किलोमीटर दूर अपने गांव की याद आती है. खुद इंजिनियर बनने की तमन्ना रही लेकिन न बन पाए तो उन्होंने दूसरों को इंजिनियर बनाने की सोची. आज उन्होंने अपने पैतृक स्थान पर अपने पिता की स्मृति में मोती बाबू इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नॉलजी स्थापित किया है. वह कहते हैं, “मेरे पिता का निधन डॉक्टरी लापरवाही के कारण हुआ था. इसलिए मैं उनकी याद में एक अस्पताल बनाना चाहता हूं. अभी इंजीनियरिंग कॉलेज शुरू किया है लेकिन मैं इसे यूनिवर्सिटी और मेडिकल कॉलेज तक लेकर जाना चाहता हूं.”


https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/06/14/story-of-150-crores-in-sydney-from-250-rupees-in-bihar/

भारत के 250 रुपये से सिडनी में 150 करोड़ तक की कहानी

अगला लेख: आईपीएल 2018 : रनरअप सनराइजर्स हैदराबाद को सपोर्ट करने वाली मिस्ट्री गर्ल की पहचान का हुआ खुलासा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जून 2018
आज कल सीबीएसई का रिजल्ट आ चुका हैं हर तरफ 95% पाने वालों की चर्चा चल रही हैं सोशल मीडिया हो या व्हाट्स एप्प या कुछ और | जिनके 90% हैं या उससे कम वो तो बेचारे शर्म से कुछ कह भी पा रहे मानो वो फेल हो गये हो | इतने मार्क्स की देख कर अक्सर यही सोच
12 जून 2018
06 जून 2018
14 साल का राजू यादव जो की हजारीबाग, झारखंड में अपने माता-पिता और दो भाइयों के साथ रहता था। जब वो छठी क्लास में था तभी उसे अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी, वजह था परिवार पर हज़ारों का कर्ज और माता-पिता की खराब तबियत। राजू भाइयों में सबसे बड़ा था और परिवार की आर्थिक ज़रूरतों को पूरा करने
06 जून 2018
02 जून 2018
इस आईपीएल सीजन में मैदान और स्टेडियम में कैमरा पर्सन की जबरदस्त मुस्तैदी नजर आयी। इस सीजन में कैमरापर्सन ने हर एक ऐसे पल को अपने कैमरे में कैद किया, जो दर्शकों तक पहुंचानी जाने लायक थी। कैमरापर्सन की मुस्तैदी से टीमों को सपोर्ट करने आए समर्थक भी बच नहीं सके। इनमें से कई ऐ
02 जून 2018
08 जून 2018
हम भारतीयों को आज़ादी इतनी प्यारी है कि हमें बंदिशें बिलकुल नहीं पसंद. इसी चक्कर में हम खुद को इन नियमों से दूर रख कर कई बार कुछ ऐसे कारनामों को अंजाम दे देते हैं जो ये साबित करने के लिए काफ़ी होते हैं कि “हम भारतीय हैं”. देखिए ऐसे ही कुछ कारनामे इन मज़ेदार तस्वीरों में.1
08 जून 2018
01 जून 2018
ट्रैफ़िक पुलिस हो या नॉर्मल पुलिस पर पुलिस की ड्यूटी देखने में जितनी आसान लगती है, असलियत में वो उतनी ही कठिन होती है. परिस्थितियां कैसी भी हों पर पुलिसवाले अपना कर्तव्य निभाने से नहीं चुकते. पर अपने काम को अगर ये लोग मज़े लेकर करें, तो इनको काम करने में ज़्यादा मज़ा आएगा. प
01 जून 2018
15 जून 2018
भारत में आपको प्रत्येक कार पर नंबर प्लेट नजर आएगी सिवाए कुछ गाड़ियों के. इसके बावजूद भारत सरकार ने इन्हें मान्यता दे रखी है. क्या आप जानते हैं कि ये कार किन लोगों के पास है..? चलिए जानते हैं इस रोचक सवाल का रोचक जवाब…आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे कि भारत में देश के रा
15 जून 2018
19 जून 2018
Google ने अंततः अपने ऐप मेकर को लॉन्च किया है, यानी, इसका 'लो-कोड एप्लिकेशन डेवलपमेंट एनवायरनमेंट' हर जगह वर्कफोर्स के लिए उपलब्ध है - और यह उम्मीद कर रहा है कि उपकरण कंपनियों के भीतर टीमों द्वारा व्यापक रूप से अपना सिस्टम और प्रक्रियाओं को अनुकूलित करने के लिए अपनाया जाएगा।Google ने पहली बार अपने श
19 जून 2018
18 जून 2018
स्मार्ट वर्कस्पेस समाधान प्रदाता इंडीक्यूब ने सोमवार को घोषणा की कि उसने वेस्टब्रिज कैपिटल के नेतृत्व में एक दौर में 100 करोड़ रुपये इक्विटी जुटाई है। इस दौर में हेलियन वेंचर्स के सह-संस्थापक आशीष गुप्ता ने भी भागीदारी की, जो कंपनी के सलाहकार बोर्ड पर कार्य करता है।इस दौर के फंड का इस्तेमाल कंपनी की
18 जून 2018
16 जून 2018
लंबे समय तक काम करने के लिए, सर्वोत्तम बनाने, प्रयोग करने, नवाचार करने और प्रवृत्तियों को स्थापित करने के लिए निरंतर दबाव शेफ पर बहुत अधिक दबाव और तनाव डालता है, भले ही वे कर्मचारियों का प्रबंधन कर रहे हों या कैमरे का सामना कर रहे होंशेफ, लेखक और टेलीविज़न होस्ट एंथनी बोर्डेन के लिए एक उचित श्रद्धां
16 जून 2018
21 जून 2018
21 जून. बेनजीर भुट्टो का जन्मदिन. इस मौके पर हम आपको एक किस्सा सुनाते हैं. सीधे, बेनजीर की किताब से. किताब का नाम था- डॉटर ऑफ द ईस्ट. माने, पूरब की बेटी.1971 की हार के बाद पाकिस्तान सामूहिक शोक में था. उसका पूर्वी हिस्सा अलग होकर मुल्क बन चुका था. बांग्लादेश का बनना यूं ह
21 जून 2018
09 जून 2018
याराना हो तो ऐसा। पटना के एक स्कूल में पढ़ाई के दौरान तीन छात्र दोस्त बने। तीनों छात्रों के पिता संयोग से इंजीनियर थे। वे भी इंजीनियर बनना चाहते थे। तीनों को इंजीनियरिंग की परीक्षा देने पटना से बाहर जाना था। तीनों को एक ही ट्रेन से यात्रा करनी थी। लेकिन संयोग कुछ ऐसा हुआ
09 जून 2018
11 जून 2018
विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेले में सुल्तानगंज आने वाले कांवरियों को हर सुविधा मुहैया कराने की कवायद रेलवे ने तेज कर दी है। स्टेशन पर लंबी दूरी जाने वाली चार जोड़ी एक्सप्रेस/सुपरफास्ट ट्रेनों का अतिरिक्त ठहराव दिया जाएगा। एक महीने के प्रायोगिक तौर ट्रेनें रुकेंगी। अप और डाउन
11 जून 2018
19 जून 2018
आजकल खिचड़ी चर्चा का विषय बनी हुई है। नेताओं से लेकर सोशल मीडिया तक में खिचड़ी पर ही बातें हो रही हैं। खैर कुछ भी हो लेकिन हमने भी खिचड़ी की तरह सब कुछ मिलाकर आपके लिए तैयार की है खिचड़ी की कहानी …नेपाल से आती है सबसे पहली खिचड़ीलोक मान्यताओं के अनुसार सबसे पहले खिचड़ी बन
19 जून 2018
18 जून 2018
क्या आप जानते हैं कि क्या होता है जब पॉलिसीधारक प्रीमियम भुगतान करने की देय तिथि के बाद प्रदान की गई ग्रेस अवधि के भीतर मर जाता है। जवाब आपको आश्चर्यचकित कर सकता है क्योंकि इस विषय के आसपास एक बड़ी मिथक है।प्रत्येक जीवन बीमा कंपनी देय तिथि समाप्त होने के बाद प्रीमियम का भुगतान करने के लिए 30 दिनों क
18 जून 2018
07 जून 2018
नाखूनों में सफेद सा अर्ध-चंद्राकार क्या होता है? क्या यहां पर नाखून डिस्कलर हो जाता है?ऐसा सोचकर इसको खुरच ना देना. बहुत जालिम चीज है. माफ नहीं करती. नाखून वैसे तो नेल-कटर या ब्लेड से भी काट लेते हैं. पर ये वाला पार्ट बहुत सेंसिटिव होता है गुरु. लुनुला कहते हैं इसको. लैटि
07 जून 2018
07 जून 2018
मार्केट में एक नई फोटू आई है. फोटो क्या कहें, है तो असल में फोटोशॉप किया हुआ एक फितूर. ये ऐसा फितूर है, जिसे देखकर बीजेपी की आधी जनता फोटोशॉप पर बैन लगाने की डिमांड कर देगी. और इस बार फोटोशॉप किया गया है जसोदाबेन को. अभी तक अरविंद केजरीवाल मोदी से परेशान दिख रहे थे और अब
07 जून 2018
21 जून 2018
यह कैंपस प्लेसमेंट महीने था, और हालांकि सभी ने घोषणा की कि वे एक बार रखा जाने के बाद गुणवत्ता के काम करना चाहते थे, उन्होंने उच्चतम वेतन पर पहुंचने की गुप्त इच्छा भी बरकरार रखी। जब हम अपने पॉकेट मनी को देखते थे और कंपनियों द्वारा पेश किए गए वेतन 'पैकेज' के साथ इसकी तुलना करते थे, तो हमें लगता था कि
21 जून 2018
19 जून 2018
आज हम इक्विफैक्स द्वारा दी गई इक्विफैक्स क्रेडिट रिपोर्ट देखेंगे - एक विश्वव्यापी क्रेडिट ब्यूरो। इसने सीआईबीआईएल की तरह भारत में क्रेडिट रिपोर्ट और क्रेडिट स्कोर देना शुरू कर दिया है (सीआईबीआईएल क्रेडिट रिपोर्ट के बारे में पढ़ें)। सीआईबीआईएल भारत में पहला क्रेडिट ब्यूरो था जिसने व्यक्तियों के लिए क
19 जून 2018
19 जून 2018
खुल कर जीना अच्छी बात है पर कुछ लोग ज़्यादा ही खुल के जीते हैं। ऐसे लोग हमें भी एन्टरटेन करते हैं और खुद भी लुत्फ़ उठाते हैं। तो आओ आपको दिखाते हैं कुछ ऐसे लोग जो खुल कर जीने के चक्कर में कभी-कभी बेवकूफ़ी कर जाते हैं। 1. अब इनको यहीं जगह मिली थी। या किसी के डर से छिपे हैं
19 जून 2018
08 जून 2018
हिंदुओं में ऐसी मान्यता है कि इस दुनिया का सबसे पुराना धर्म हिंदू सनातन धर्म है. इसके अनुसार माना जाता है कि ब्रह्मा का कर्म है सृष्टि की रचना करना, भगवान विष्णु का कर्म है उसका संचालन करना और भगवान शिव का कर्म है विनाश करना. वैसे तो हिंदू धर्म में हर धार्मिक ग्रंथों की अ
08 जून 2018
19 जून 2018
ट्रेनों के आवागमन में लेटलतीफी बीते कुछ सालों तक केवल सर्दियों के मौसम तक ही सीमित रहती थी. सर्दियों में कोहरे की मार झेल रही ट्रेनों में सफर करने वाला हर शख्‍स खुद को लेटलतीफी के लिए मानसिक तौर पर तैयार रखता था. बदली हुई मौजूदा परिस्थितियों में ट्रेनों की लेतलतीफी अब सर्
19 जून 2018
18 जून 2018
भारतीय रेलवे जल्द ही पूरे देश में अपने रंग रूप को बदलने जा रही है। रेल मंत्रालय ने फैसला लिया है कि सभी ट्रेनों के डिब्बों को आकर्षक बनाने के लिए कलर शेड में रंगकर वर्ल्ड क्लास लुक दिया जाएगा।इस स्कीम के तरह सभी मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों के डिब्बों के कलर में बदलाव किया जा
18 जून 2018
18 जून 2018
भारतीय स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र ने पिछले कुछ महीनों में वित्त पोषण में मंदी देखी है, जो साल में पहले तेज शुरुआत में पहुंच गई थी। साल के पहले 40 दिनों में निवेश में 1.8 बिलियन डॉलर की बढ़ोतरी हुई, तब से फंडिंग में गिरावट आई है।2018 के पहले छह महीनों में, इस तिथि तक, स्टार्टअप फंडिंग में $ 5.1 बिल
18 जून 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x