आज का शब्द (१)

11 अप्रैल 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (200 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (१)

किंकर्तव्यविमूढ़ :

१-दुविधा की स्थिति,


२-भौचक्का या अवाक रह जाना,


३-जो यह न समझ सके की उसे अब क्या करना चाहिए


जैसे-आपको कोई एक निर्णय तो लेना ही होगा कि जीवन में नौकरी करोगे या व्यापार, लेकिन इस तरह किंकर्तव्यविमूढ़ होकर बैठने से कोई लाभ नहीं होगा I





शुक्रवार, १० अप्रैल, २०१५

अगला लेख: आज का शब्द (२)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अप्रैल 2015
यार मदारी! तुम अच्छे हो; रस्सी पर चल लेते हो, लोहे के छल्ले से कैसे ये करतब कर लेते हो? एक पैसे से दो फिर दो से, चार उन्हें कर देते हो; हाँ तो जमूरे कह-कह के, क्या से क्या कर देते हो I कालू-भालू और बंदरिया सबको नचाते एक उंगली पर, एक डुगडुगी की थापों पर सबका मन हर लेते हो I जीवन की पगडंडी पर, मु
11 अप्रैल 2015
20 अप्रैल 2015
पल्लवी : १- जड़, तने, शाखा तथा पत्तियों से युक्त बहुवर्षीय वनस्पति, २- नए पत्तों से युक्त ३- पेड़, वृक्ष, पादप, तरु प्रयोग : पूजा-गृह के पास पल्लवी पर पीले प्रसून अति सुन्दर प्रतीत हो रहे हैं I
20 अप्रैल 2015
03 अप्रैल 2015
​अगर लोग अंग्रेज़ी पढ़ते हैं तो व्यापारी बुद्धि से और तथाकथित राजनीतिज्ञ फ़ायदे के लिए ही पढ़ते हैं. हमारे विद्यार्थी ऐसा मानने लगे हैं कि अंग्रेज़ी के बिना उन्हें सरकारी नौकरी हरगिज़ नहीं मिल सकती. लड़कियों को तो इसलिए अंग्रेज़ी पढ़ाई जाती है कि उनको अच्छा वर मिल जाएगा. मैं इसकी कई मिसालें जानता हूँ. मैंने
03 अप्रैल 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x