पड़ताल: कौन है ये आदमी, जिसके पत्नी-बच्ची के साथ खुदकुशी की वजह से सरकार कोसी जा रही है

19 जून 2018   |  अखिलेश ठाकुर   (112 बार पढ़ा जा चुका है)

पड़ताल: कौन है ये आदमी, जिसके पत्नी-बच्ची के साथ खुदकुशी की वजह से सरकार कोसी जा रही है

किसान, कर्ज और खुदकुशी.

ये वो कीवर्ड्स हैं, जिनका इस्तेमाल कर आप किसी भी सरकार की कितनी भी निर्मम आलोचना कर सकते हैं. लेकिन जैसे ही बात सोशल मीडिया पर पहुंचती है, सारी प्रामाणिकता संदिग्ध हो जाती है. यहां दिखने वाली चीज़ें अक्सर वैसी नहीं होतीं, जैसी दिखाई जाती हैं. ताज़ा मामला महाराष्ट्र के वर्धा का है.

क्या शेयर किया जा रहा है?

सोशल मीडिया पर ढेर सारे लोग एक परिवार की तस्वीर शेयर कर रहे हैं. परिवार, जिसके तीन सदस्यों ने एक साथ फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली. तस्वीर में पति-पत्नी और उनकी ढाई साल की बच्ची फांसी से लटके दिख रहे हैं. तस्वीर शेयर करने वालों का दावा है कि खुदकुशी करने वाला किसान है, जिसके सिर पर कर्ज का बोझ था. कर्ज न चुका पाने की हालत में उसने परिवार के साथ खुदकुशी कर ली.

शेयर करने वाले लोग किसे कोस रहे हैं?

तस्वीर के आधार पर लोग सरकार की आलोचना कर रहे हैं. मौजूदा सरकार के चुनाव-पूर्व दिए नारे को निशाने पर लिया जा रहा है कि ‘हां, हमारा देश वाकई बदल रहा है. एक पिता के कर्ज की वजह से उसकी डेढ़ साल की बच्ची की मौत हो रही है’. आलोचना करने वाले कह रहे हैं कि सरकार और बैंक छोटे कर्जों से दबे किसानों से कर्ज-वसूली के हथकंडे तो जानते हैं, लेकिन नीरव मोदी और विजय माल्या जैसे कानून की नाक के नीचे से निकल जाते हैं. किसान के मसले पर सरकार की विफलता को कोसा जा रहा है.

पर सवाल ये है कि क्या इस तस्वीर की असल कहानी वही है, जो सोशल मीडिया पर बताया जा रही है. नहीं. इसकी सच्चाई कुछ और है.

क्या है तस्वीर की सच्चाई?

ये सच है कि ये मामला महाराष्ट्र के वर्धा जिले का है, लेकिन खुदकुशी करने वाला शख्स किसान नहीं है और न ही उसने कर्ज के बोझ तले ऐसा कदम उठाया. इस शख्स ने घरवालों के तानों से तंग आकर अपनी पत्नी और बच्ची के साथ खुदकुशी की. ये जून के दूसरे सप्ताह की घटना है और जिस इलाके में इस परिवार ने फांसी लगाई, वो आष्टी पुलिस थाने के तहत आता है.

आष्टी पुलिस थाना

आष्टी थाने के पुलिसकर्मी विष्णु करहाले ने इस केस की जानकारी देते हुए बताया कि 37 साल के अनिल नारायण वानखेड़े मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में किसी कंपनी में इलेक्ट्रीशियन का काम करते थे. करीब तीन महीने पहले वो कंपनी बंद हो गई, तो अनिल की नौकरी चली गई. ऐसे में वो अपनी पत्नी स्वाति (32) और ढाई साल की बच्ची आस्था के साथ वर्धा के आर्वी गांव में अपने घर वापस आ गए. घर में उनके पिता नारायण वानखेड़े, मां रत्नाबाई और एक बहन रहती थी, जो खेती पर निर्भर थे.

अनिल, स्वाति और उनकी बच्ची आस्था

घरवाले अनिल को हमेशा नौकरी की वजह से कोसते रहते थे और ताने देते थे. दो-ढाई महीने से घर में ऐसा ही माहौल चल रहा था. पड़ोसियों ने भी बताया कि अनिल के घर में आए दिन झगड़ा होता रहता था और हमेशा तनाव का माहौल बना रहता था. फिर एक दिन पिता ने अनिल को उसकी पत्नी और बच्ची समेत घर से निकाल दिया. अनिल अपनी ससुराल में भी नहीं रहना चाहते थे और घर उनके पास था नहीं. तो उन्होंने पत्नी-बच्ची समेत खुदकुशी का फैसला कर लिया.

उन्होंने पहले पत्नी और बच्ची को खेत में इस्तेमाल होने वाला कीटनाशक पिलाया और फिर दोनों के साथ फांसी लगाकर जान दे दी. लोगों ने जब उनकी लाश पेड़ से लटकते देखी, तो पुलिस को बताया.

ससुराल में फोन करके बताया था कि सुसाइड करने जा रहे हैं

अनिल के खुदकुशी करने के बाद पता चला कि जब वो घर छोड़कर निकले थे, तो उन्होंने ससुराल में फोन किया था. वहां उनकी बात अपने साले नितिन राउत से हुई थी. अनिल ने नितिन को बताया कि उन्हें घर से निकाल दिया गया है और अब वो स्वाति के साथ सुसाइड करने जा रहे है. नितिन ने बताया कि इस फोन के बाद उन्होंने अनिल के घर फोन करके बताया कि वो खुदकुशी करने जा रहे हैं, लेकिन उनके मां-बाप ने ये मानने से इनकार कर दिया. नितिन के मुताबिक फोन पर अनिल की बहन ने उसे गालियां भी दीं और कोई उनकी बात मानने को तैयार नहीं था. नितिन और उसका परिवार मानता है कि मां-बाप-बहन की हरकतों की वजह से ही अनिल ने खुदकुशी की.

अनिल की सास और साला नितिन

फिर पुलिस ने अनिल के परिवार को गिरफ्तार कर लिया

सारी बातें साफ होने पर आष्टी पुलिस ने अनिल के पिता नारायण, मां रत्नाबाई और बहन को गिरफ्तार कर लिया. उन पर धारा 306 लगाई गई है, जो आत्महत्या के लिए उकसाने पर लगाई जाती है.

खुदकुशी के बाद गिरफ्तार किया गया परिवार.

तो पुलिस के इस पूरे ऐक्शन से साफ होता है कि ये कर्ज की वजह से किसान के खुदकुशी करने का मामला नहीं है, बल्कि परिवार के तानों से तंग आकर एक बेरोजगार शख्स के खुदकुशी करने का मामला है. अगर आपको सोशल मीडिया पर ये अफवाह दिखती है, तो आप उसे हमारी इस पड़ताल का लिंक दे सकते हैं. साथ ही, अगर आपको सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा कोई कॉन्टेंट संदिग्ध लगता है या आप जानते हैं कि अफवाह फैलाई जा रही है, तो आप उसे हमें lallantopmail@gmail.com पर भेज सकते हैं. हम उसकी सच्चाई सबके सामने लाएंगे.

https://www.thelallantop.com/bherant/the-man-in-the-viral-photo-who-committed-suicide-with-family-was-not-a-farmer-had-no-debt/

अगला लेख: इस शख्स के पेट से निकला 12 इंच का साबुत बैंगन, कारण जानकर सिर पीट लेंगे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 जून 2018
दुनिया में जितने डिग्रीधारी डॉक्टर नहीं है उससे ज्यादा आपको खुद से इलाज करने वाले लोग मिल जाएंगे। ऐसे लोगों के पास हर मर्ज की दवा होती है, ये लोग पेट दर्द, नजला-जुकाम से लेकर हैजा-टीवी और कैंसर तक का इलाज घरेलु नुस्खों पर बता देते हैं और हर डॉक्टर का दावा होता है कि असर च
11 जून 2018
15 जून 2018
संजय दत्त की बायोपिक ‘संजू’ का ट्रेलर आने के बाद कई राज़ खुलने लगे हैं । संजय दत्त के नशे के आदि होने और उनके जेल जाने के बारे में तो आप सब जानते ही होंगे लेकिन अब उनकी नीजी जिंदगी के बारे में कुछ ऐसी बातें सामने आने लगीं हैं जिन्हें जानकर पूये बात है दरसल संजय दत्त के प्
15 जून 2018
06 जून 2018
भा
पीटीआई-भाषा संवाददाता 13:59 हरष ईस्ट भोपाल, छह जून (भाषा) छुट्टियों में घर आये भारतीय वायु सेना के 27 वर्षीय फ्लाइट लेफ्टिनेंट हिमांशु गुप्ता की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई है। अयोध्या नगर के थाना प्रभारी बलजीत सिंह ने आज बत
06 जून 2018
07 जून 2018
परिसर सरकारी हो या प्राइवेट, अपनी सामान की सुरक्षा स्वयं करें की लाइन किसी न किसी दीवार, खंभे या गेट पर लिखी दिख ही जाती है। शॉपिंग मॉल में तो कई बार पार्किंग की पर्ची पर लिखा रहता है कि पार्किग एट योर ओन रिस्क। अब आदमी गाड़ी तो खड़ी कर देता है लेकिन दिल की धुकधुकी वैसे ह
07 जून 2018
22 जून 2018
Opical Illusion समझते हैं? भ्रम यानि कि आंखों का धोखा यानि जो देख रहे हैं, वो है नहीं और जो है वो दिख नहीं रहा.Source: slideshareचलो ज़्यादा नहीं बोलेंगे, फ़िलहाल ये तस्वीरें देख लो: ये महिला झांक नहीं रही, बल्कि ये मैगज़ीन का कवर है.ये बिल्ली किसी दोमुंहे सांप जैसी लग रह
22 जून 2018
06 जून 2018
वि
पीटीआई-भाषा संवाददाता 13:35 H आयर्स, छह जून (भाषा) बचपन में बौनेपन से जूझने के बावजूद फुटबाल के मैदान पर उपलब्धियों के नये शिखरों को छूने वाले लियोनेल मेस्सी ने डेढ दशक के सुनहरे कैरियर में क्लब के लिये कामयाबियों के नये कीर्तिमान बनाये लेकिन अर्जेंटीना
06 जून 2018
24 जून 2018
बिहार में एक कहावत है ‘बढय पुत पिता के धर्मे आ खेती उपजय अपना कर्मे’ अर्थात बेटा पिता के धर्म से आगे बढ़ता है और खेती कर्म करने पर लहलहाती है। जीं हां कुछ ऐसा ही कर दिखाया है एक गरीब पिता ने। जो पान की दुकान चलाता है। किसी तरह परिवार को पालता है। जी तोड़ मेहनत करता है। तब
24 जून 2018
25 जून 2018
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शुरू से ही वीआईपी कल्चर के विरोधी रहे हैं। उसकी झलक एक बार देखने को मिली। प्रधानमंत्री मोदी रविवार रात करीब नौ बजे पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी का हाल जानने बिना किसी सिक्योरिटी और प्रोटोकाल के एम्स पहुंच गए। प्रधानमंत्री मोदी ने बिना रूट के अप
25 जून 2018
06 जून 2018
पा
पीटीआई-भाषा संवाददाता 13:43 हरष ईस्ट (सज्जाद हुसैन) इस्लामाबाद , छह जून (भाषा) पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने एक याचिका पर पाकिस्तान के पूर्व सैन्य तानाशाह परवेज मुशर्रफ को नोटिस जारी किया है। याचिका में वर्ष 2007 में एक विवादित कानून
06 जून 2018
06 जून 2018
नई दिल्ली: अकसर देखा गया है कि रेल में यात्रा के दौरान परिवार के साथ चलते समय यात्री जरूरत से ज्यादा सामान लेकर चलते हैं. कई बार तो कुछ लोग अकेले होते हुए भी काफी सामान लेकर चलते हैं. मौजूद जगह पर वे ऐसे कब्जा करते हैं जैसे कि वे ही अकेले सफर क
06 जून 2018
14 जून 2018
हमारा सामना कई बार ऐसी शख़्सियतों से होता है, जिन्होंने समाज के सभी बंधनों को तोड़कर अपने सपनों को हक़ीक़त में बदला है.ऐसी ही एक जाबांज़ महिला थी शांति तिग्गा.कौन थी शांति?35 साल की विधवा, दो बच्चों की मां. ऐसी महिला के बारे में सुनते ही लोगों के मन में एक ही शब्द आता है,
14 जून 2018
08 जून 2018
बारात वाली लाइट अपने सर पर उठाए हुए इस औरत की तस्वीर लगभग 4 दिनों से फेसबुक पर चक्कर लगा रही है. पिछले 4 दिनों में अपनी टाइमलाइन देखें, तो पाएंगे कि कई लोगों ने इस तस्वीर को शेयर किया है. सबने अलग-अलग कैप्शन लिखकर.ये तस्वीर असल में महेश बग्जई नाम के फोटोग्राफर ने इंदौर मे
08 जून 2018
19 जून 2018
भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के अध्यक्ष अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर को लेकर मंगलवार को राज्य के नेताओं की दिल्ली में बड़ी बैठक बुलाई। शाह ने जम्मू-कश्मीर सरकार में शामिल पार्टी के सभी मंत्रियों और कुछ शीर्ष नेताओं को इस बैठक में बुलाया। अमित शाह ने राज्य के मसले पर जम्मू-कश्मी
19 जून 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x