आज का शब्द (४)

11 अप्रैल 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (281 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (४)

पाचक :

१- रसोइया, बावर्ची, खानसामा;


प्रयोग : हमारा पाचक अत्यंत स्वादिष्ट भोजन बनाता है I


२-वह पदार्थ जो खाई हुई चीज़ को पचाता हो या पाचन शक्ति बढ़ाता हो;


प्रयोग : प्राकृतिक वस्तुओं से बना अवलेह सर्वोत्तम पाचक होता है I


►'अवलेह' का अर्थ होता है, किसी वस्तु का गाढ़ा लसीला रूप जैसे गाढ़ी औषधि आदि I


३-शरीर के अंदर रहने वाले पाँच प्रकार के पित्तों में से एक जिसकी सहायता से भोजन पचता है I


प्रयोग : तुम्हें भूख न लगने का एक कारण, पाचक की कमी भी हो सकता है I




अगला लेख: आज का शब्द (२)



umashankar verma
11 अप्रैल 2015

बढ़िया

बहुत अच्छी शरुआत

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 अप्रैल 2015
जनता में एक भाषा के माध्यम से ही एकता आ सकती है. दो भाषाएँ जनता को निश्चय ही विभाजित कर देंगी, यह एक अटल नियम है. भाषा के माध्यम से संस्कृति सुरक्षित रहती है. चूंकि भारतीय एक होकर सामान्य सांस्कृतिक विकास करने के आकांक्षी हैं, अतः सभी भारतीयों का यह अनिवार्य कर्त्तव्य है कि वह हिन्दी को अपनी भाषा के
03 अप्रैल 2015
11 अप्रैल 2015
रजत : १-चांदी, रूपा; २-हाथी दांत; ३-मुक्ताहार; ४-धवल रंग; ५-चांदी का बना हुआ, चांदी के रंग का, उज्जवल, शुभ: प्रयोग: तैराकी प्रतियोगिता में तीन खिलाड़ियों को रजत पदक से सम्मानित किया गया. रविवार, १२ अप्रैल, २०१५
11 अप्रैल 2015
20 अप्रैल 2015
पल्लवी : १- जड़, तने, शाखा तथा पत्तियों से युक्त बहुवर्षीय वनस्पति, २- नए पत्तों से युक्त ३- पेड़, वृक्ष, पादप, तरु प्रयोग : पूजा-गृह के पास पल्लवी पर पीले प्रसून अति सुन्दर प्रतीत हो रहे हैं I
20 अप्रैल 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x