यार मदारी

11 अप्रैल 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (1050 बार पढ़ा जा चुका है)

यार मदारी

यार मदारी!
तुम अच्छे हो;
रस्सी पर चल लेते हो,
लोहे के छल्ले से कैसे
ये करतब कर लेते हो?
एक पैसे से दो फिर दो से,
चार उन्हें कर देते हो;
हाँ तो जमूरे कह-कह के,
क्या से क्या कर देते हो I
कालू-भालू और बंदरिया
सबको नचाते एक उंगली पर,
एक डुगडुगी की थापों पर
सबका मन हर लेते हो I
जीवन की पगडंडी पर,
मुझे भी चलना सिखला दो,
कैसे मनाऊँ प्रियजन को,
ये मुझको बतला दो I
प्रेम की डुगडुगी
कैसे बजती,
वो संगीत सिखा दो !


-ओम

अगला लेख: आज का शब्द (२)



भारतीय सांस्कृतिक कला का उत्कृष्ट वर्णन

Rajat Vynar
11 अप्रैल 2015

वाह-वाह... अति सुन्दर कविता।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अप्रैल 2015
किंकर्तव्यविमूढ़ : १-दुविधा की स्थिति, २-भौचक्का या अवाक रह जाना, ३-जो यह न समझ सके की उसे अब क्या करना चाहिए जैसे-आपको कोई एक निर्णय तो लेना ही होगा कि जीवन में नौकरी करोगे या व्यापार, लेकिन इस तरह किंकर्तव्यविमूढ़ होकर बैठने से कोई लाभ नहीं होगा I शुक्रवार, १० अप्रैल, २०१५
11 अप्रैल 2015
20 अप्रैल 2015
पल्लवी : १- जड़, तने, शाखा तथा पत्तियों से युक्त बहुवर्षीय वनस्पति, २- नए पत्तों से युक्त ३- पेड़, वृक्ष, पादप, तरु प्रयोग : पूजा-गृह के पास पल्लवी पर पीले प्रसून अति सुन्दर प्रतीत हो रहे हैं I
20 अप्रैल 2015
10 अप्रैल 2015
उसकी कमीज़ का कॉलर फटा था, सर से पाँव तक पसीने-पसीने; पादुकाएं, घिसी इतनी कि खीसें काढ़े I चोर निगाहों से इधर-उधर देखा उसने, बिजली के खम्भे तले पड़ी सूखी रोटी पर, छितरा सा भात उठाया I जो टोका उसको, पूछ लिया उससे- "हा s s s छी-छी! क्यों करते हो ऐसा? मेरी आँखों में ऑंखें डाल वो बोला................
10 अप्रैल 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
11 अप्रैल 2015
31 मार्च 2015
सा
13 अप्रैल 2015
11 अप्रैल 2015
03 अप्रैल 2015
03 अप्रैल 2015
11 अप्रैल 2015
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x