1971 की हार के बाद भारत आई पाकिस्तानी टीम के कोड 'बेटा हुआ है' का क्या मतलब था?

21 जून 2018   |  रितिका चटर्जी   (144 बार पढ़ा जा चुका है)

1971 की हार के बाद भारत आई पाकिस्तानी टीम के कोड 'बेटा हुआ है' का क्या मतलब था?

21 जून. बेनजीर भुट्टो का जन्मदिन. इस मौके पर हम आपको एक किस्सा सुनाते हैं. सीधे, बेनजीर की किताब से. किताब का नाम था- डॉटर ऑफ द ईस्ट. माने, पूरब की बेटी.

1971 की हार के बाद पाकिस्तान सामूहिक शोक में था. उसका पूर्वी हिस्सा अलग होकर मुल्क बन चुका था. बांग्लादेश का बनना यूं ही बड़े तकलीफ की बात थी. ऊपर से ये दर्द कि पाकिस्तान को बांग्लादेश में बेइज्जत होना पड़ा. खुद को हारता देखकर पाकिस्तान ने अमेरिका की मदद ली थी. ताकि सीजफायर करवाया जा सके. मगर सीजफायर नहीं हुआ. पाकिस्तान को सार्वजनिक तौर पर सरेंडर करना पड़ा. ऐसा पहली बार हुआ था. जब एक देश की सेना को इस तरह पब्लिक सरेंडर करना पड़ा था. ये हिंदुस्तान की जीत थी. इसके तकरीबन आठ महीने बाद 2 जुलाई, 1972 को भारत और पाकिस्तान ने शिमला समझौते पर दस्तखत किए. इस मौके की कई कहानियां हैं. क्या हुआ, कैसे हुआ, क्या बातें हुईं, पीछे की कहानियां. बहुत कुछ है. एक कहानी वो भी है, जो बेनजीर भुट्टो ने सुनाई है.


बेनजीर ने अपनी किताब 'डॉटर ऑफ द ईस्ट' में इंदिरा का जिक्र किया है. शिमला समझौते के वक्त की एक बात उन्होंने लिखी है. कि एक बार इंदिरा से मुलाकात के वक्त बेनजीर ने गौर किया कि इंदिरा उनको बहुत गौर से देख रही हैं. बेनजीर ने लिखा है. कि इंदिरा को देखकर वो क्या-क्या सोचती हैं. इंदिरा की साड़ियों, अपने कपड़ों के बारे में भी लिखा है उन्होंने (फोटो: रॉयटर्स)

बेनजीर ने अपनी किताब ‘डॉटर ऑफ द ईस्ट’ में इंदिरा का जिक्र किया है. शिमला समझौते के वक्त की एक बात उन्होंने लिखी है. कि एक बार इंदिरा से मुलाकात के वक्त बेनजीर ने गौर किया कि इंदिरा उनको बहुत गौर से देख रही हैं. बेनजीर ने लिखा है. कि इंदिरा को देखकर वो क्या-क्या सोचती हैं. इंदिरा की साड़ियों, अपने कपड़ों के बारे में भी लिखा है उन्होंने (फोटो: रॉयटर्स)

जुल्फिकार को ‘लाहौर लॉबी’ का डर था
तब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री थे जुल्फिकार अली भुट्टो. बेनजीर के अब्बा. वो शिमला समझौते के लिए भारत आए. बेनजीर भी उनके साथ आईं. इंदिरा और बेनजीर की ये पहली मुलाकात थी. जुल्फिकार और इंदिरा में पहले भी बात हो चुकी थी. 1971 की हार के बाद जुल्फिकार को पता लग गया था. कि पाकिस्तान सैनिक ताकत की बदौलत कश्मीर हासिल नहीं कर सकता. मार्च 1972 में उन्होंने भारतीय पत्रकारों से कहा था. कि कश्मीर विवाद बस शांति से सुलझ सकता है. निजी तौर पर जुल्फिकार कश्मीर मामले में यथास्थिति को स्थायी समाधाना के तौर पर मंजूर करने के पक्ष में थे. मगर दिक्कत ये थी कि पाकिस्तान में प्रधानमंत्री से ज्यादा ताकत कई सारे दूसरे लोगों के पास होती है. जैसे- सेना. ISI. जुल्फिकार अपने विरोधियों को ‘लाहौर लॉबी’ के नाम से पुकारते थे.


ये बेनजीर भुट्टो का परिवार है. पति और तीन बच्चे. गांधी परिवार औल भुट्टो फैमिली की कई बार तुलना की जाती है. जैसे जवाहर लाल नेहरू की विरासत उनकी बेटी इंदिरा के पास आई, वैसा ही भुट्टो परिवार में हुआ. दोनों परिवारों के लोगों की हत्याएं भी हुईं. जुल्फिकार फांसी पर लटका दिए गए. बेनजीर बम धमाके में मारी गईं. इधर इंदिरा को उनके अंगरक्षकों ने मार डाला और राजीव बम ब्लास्ट में मारे गए (फोटो: बेनजीरभुट्टो ओआरजी)

ये बेनजीर भुट्टो का परिवार है. पति और तीन बच्चे. गांधी परिवार औल भुट्टो फैमिली की कई बार तुलना की जाती है. जैसे जवाहर लाल नेहरू की विरासत उनकी बेटी इंदिरा के पास आई, वैसा ही भुट्टो परिवार में हुआ. दोनों परिवारों के लोगों की हत्याएं भी हुईं. जुल्फिकार फांसी पर लटका दिए गए. बेनजीर बम धमाके में मारी गईं. इधर इंदिरा को उनके अंगरक्षकों ने मार डाला और राजीव बम ब्लास्ट में मारे गए (फोटो: बेनजीरभुट्टो ओआरजी)

जुल्फिकार अपने साथ इतने सारे लोग लेकर आए कि माफी मांगनी पड़ी
अगर जुल्फिकार भारत की बातें मानकर समझौता कर लेते, तो पाकिस्तान में उनके लिए बड़ी दिक्कतें हो जातीं. सेना कहती कि उन्होंने पाकिस्तान का राष्ट्रहित भारत के पैरों में डाल दिया. पाकिस्तान में लोकतंत्र की हालत बहुत मरियल थी. जुल्फिकार के आने से पहले 14 साल तक सेना का शासन था. बहुत मुमकिन था कि इस समझौते के बाद जुल्फिकार के हाथ से सत्ता निकल जाती. और फिर से सैन्य शासन आ जाता. इसीलिए शिमला आने के काफी पहले से जुल्फिकार ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी थीं. वो चाहते थे शिमला समझौते में जो भी निकलकर आए, उसको लेकर पाकिस्तान में एक किस्म की आम सहमति बने. शायद इसीलिए जुल्फिकार अपने साथ 84 सदस्यों का लंबा-चौड़ा डेलिगेशन लेकर शिमला पहुंचे थे. ये 84 लोग पाकिस्तान में काबिज अलग-अलग किस्म की राजनैतिक राय के नुमाइंदे थे. जुल्फिकार को लगा कि अगर ये लोग समझौते की शर्तों से सहमत हो जाएं, तो पाकिस्तान में भी करीब-करीब आम सहमति हो जाएगी. उन्होंने इतना बड़ा डेलिगेशन लेकर आने के लिए भारत से माफी भी मांगी थी.


ये 3 जुलाई, 1972 की तस्वीर है. शिमला समझौते पर दस्तखत हो चुके थे. जुल्फिकार अली भुट्टो और उनका कारवां पाकिस्तान के लिए निकल रहा था. तस्वीर में इंदिरा हैं. जुल्फिकार हैं. और बाईं तरफ सबसे किनारे पर खड़ी हैं बेनजीर भुट्टो (तस्वीर: AP)

ये 3 जुलाई, 1972 की तस्वीर है. शिमला समझौते पर दस्तखत हो चुके थे. जुल्फिकार अली भुट्टो और उनका कारवां पाकिस्तान के लिए निकल रहा था. तस्वीर में इंदिरा हैं. जुल्फिकार हैं. और बाईं तरफ सबसे किनारे पर खड़ी हैं बेनजीर भुट्टो (तस्वीर: AP)

शिमला समझौते का वर्ल्ड वॉर कनेक्शन
पाकिस्तानी डेलिगेशन की ओर से की जाने वाली बातचीत की कमान थी अजीज अहमद के पास. अजीज अहमद उस वक्त शायद पाकिस्तान के सबसे वरिष्ठ प्रशासनिक सेवा के अधिकारी थे. बहुत मान था उनका पाकिस्तान में. बहुत प्रभाव था. माना जाता था कि सेना और ISI के साथ भी अजीज के अच्छे-भले ताल्लुकात थे. भारत की ओर से होने वाली बातचीत की कमांड थी दुर्गा प्रसाद धार (डी पी धार) के पास. धार कश्मीरी थे. डिप्लोमेट थे. 1971 की लड़ाई में भारत ने जो दखलंदाजी की, उसके पीछे धार का दिमाग काफी अहम था. मगर ऐन मौके पर वो बीमार हो गए. फिर उनकी जगह इंदिरा ने ये जिम्मेदारी सौंपी परमेश्वर नारायण हसकर (पी एन हसकर) को. हसकर खुद नौकरशाह थे. डिप्लोमेट थे. छह साल तक इंदिरा गांधी के प्रिंसिपल सेक्रटरी रहे. हसकर के दिमाग में पहले विश्व युद्ध के बाद हुई ‘वर्साय की संधि’ थी. ये संधि जर्मनी के लिए इतनी अपमानजनक थी कि कहते हैं इसी की वजह से दूसरा वर्ल्ड वॉर हुआ. हसकर का मानना था कि शिमला समझौते में पाकिस्तान को इतने घुटने टिका देने को नहीं कहना चाहिए कि ये चीज आगे चलकर एक और युद्ध की वजह बन जाए.


ये अक्टूबर 1986 की फोटो है. बेनजीर भुट्टो लोगों के बीच हैं. लोग उनके ऊपर फूल बरसा रहे हैं. जुल्फिकार अली भुट्टो को फांसी पर चढ़ाए जाने की सहानुभूति बेनजीर को मिली. सहानुभूति वोटों में बदली. वोट जीत में बदले. और बेनजीर मुल्क की पहली महिला प्रधानमंत्री बन गईं (फोटो: Getty Images)

ये अक्टूबर 1986 की फोटो है. बेनजीर भुट्टो लोगों के बीच हैं. लोग उनके ऊपर फूल बरसा रहे हैं. जुल्फिकार अली भुट्टो को फांसी पर चढ़ाए जाने की सहानुभूति बेनजीर को मिली. सहानुभूति वोटों में बदली. वोट जीत में बदले. और बेनजीर मुल्क की पहली महिला प्रधानमंत्री बन गईं (फोटो: Getty Images)

भारत बहुत संयम से पेश आ रहा था
भारत और पाकिस्तान की टीमों के बीच कई मुद्दों पर सहमति नहीं बन पा रही थी. सबसे बड़ा मुद्दा था कश्मीर. हालांकि भारतीय पक्ष कश्मीर को लेकर बहुत आक्रामकता नहीं दिखा रहा था. बल्कि संयम और समझदारी से पेश आ रहा था. फिर भी असहमतियां थीं. जैसे ये कि भारत ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में जो रेखा भारत और पाकिस्तान को बांटती है, उसे ‘सीजफायर लाइन’ की जगह ‘नियंत्रण रेखा’ कहा जाए. पाकिस्तान को इसपर आपत्ति थी. उसका कहना था कि अगर ये किया, तो उस लाइन का मतलब बदल जाएगा. यथास्थिति का मतलब बदल जाएगा. ऐसे ही और भी आपत्तियां-असहमतियां थीं.

…और उस दिन लगा कि सब खत्म हो गया
इन असहमतियों की वजह से ऐसा लगने लगा कि समझौता नहीं हो पाएगा. कि सहमति बन ही नहीं पाएगी. यहां 2 जुलाई की तारीख का जिक्र करना जरूरी है यहां. भारत ने समझौते का तीसरा ड्राफ्ट बनाकर दिया था. भारत का कहना था कि ये फाइनल ड्राफ्ट है. दोपहर के वक्त अजीज अहमद ने भारतीय पक्ष से कहा. कि ये उनकी आखिरी मुलाकात है. कि पाकिस्तान सीजयफायर लाइन का स्टेटस बदलने की भारत की मांग नहीं मान सकता. इसके ठीक एक दिन पहले, 1 जुलाई की बात है. उस दिन इंदिरा और जुल्फिकार की मीटिंग थी. दोनों तरफ के कुछ अधिकारी भी थे वहां. मीटिंग में अजीज ने कहा-

हम कश्मीर के अलावा बाकी हर चीज पर राजी हो गए हैं.

ये शिमला समझौते के वक्त की ही तस्वीर है. 1977 में जुल्फिकार अली भुट्टो के हाथ से सत्ता चली गई. पाकिस्तान में तख्तापलट हो गया. दो साल बाद, यानी 1979 में उन्हें फांसी दे दी गई. (फोटो: AP)
ये शिमला समझौते के वक्त की ही तस्वीर है. 1977 में जुल्फिकार अली भुट्टो के हाथ से सत्ता चली गई. पाकिस्तान में तख्तापलट हो गया. दो साल बाद, यानी 1979 में उन्हें फांसी दे दी गई. (फोटो: AP)

उनकी बात को काटते हुए जुल्फिकार ने कहा कि वो तो एक तरह से कश्मीर को भी शांतिपूर्ण तरीके से सुलझाने के लिए सहमत हो चुके हैं. उन्होंने कहा-

एक शांति रेखा बन जाने दो. लोगों को इस पार से उस पार आने-जाने दो. लोग आएं-जाएं. इसे लेकर दोनों मुल्क आपस में न लड़ें.

इंदिरा और जुल्फिकार ने एक घंटे तक बंद दरवाजे के पीछे बात की
‘सीजयफायर लाइन’ को ‘नियंत्रण रेखा’ बनाना भारत का पक्ष था. सो जब अजीज ने कहा कि पाकिस्तान इसके लिए कभी राजी नहीं होगा, तो भारत भी अड़ गया. लगा, अब सब खत्म है. तय हुआ कि पाकिस्तानी डेलिगेशन अगले दिन, यानी 3 जुलाई की सुबह शिमला से लौट जाएगा. तुरंत ये बात फैल गई. कि समझौता नहीं हो सकेगा. कि बातचीत नाकाम रही. जुल्फिकार बहुत निराश थे. खैर. इसी उदासी में तय हुआ कि उस दिन शाम 6 बजे इंदिरा और जुल्फिकार मिलेंगे. अलविदा टाइप समझ लीजिए. इंदिरा वहां रिट्रीट बिल्डिंग में ठहरी थीं. ये इमारत शिमला में राष्ट्रपति की छुट्टियां मनाने का आधिकारिक आवास है. यहीं पर मीटिंग होनी तय हुई. एक घंटे तक दोनों की बातचीत हुई. वो अकेले थे. ये उन दोनों के बीच अकेले में हुई वो बातचीत ही थी कि जिसने इस समझौते को मुमकिन किया. जुल्फिकार ने बंद दरवाजे के पीछे इंदिरा से कई वादे किए. कई चीजों के लिए माने. पाकिस्तान ‘संघर्ष विराम रेखा’ को ‘नियंत्रण रेखा’ का नाम देने के लिए राजी हो गया. फिर हुआ ये कि दोनों तरफ की टीमें ड्राफ्ट को फाइनल शक्ल देने में जुट गईं.

ये बख्तावर भुट्टो जरदारी हैं. बेनजीर भुट्टो और आसिफ अली जरदारी की बेटी. ये 2014 की तस्वीर है. बख्तावर का मोबाइल देखिए. उसके बैक कवर पर बेनजीर की तस्वीर है. जुल्फिकार अली भुट्टो की राजनैतिक विरासत उनकी बेटी बेनजीर ने संभाली. मगर बेनजीर के जाने के बाद उनकी विरासत उनके बेटे बिलावल भुट्टो जरदारी संभाल रहे हैं. मतलब फिलहाल तो वही आगे दिखते हैं (फोटो: रॉयटर्स)
ये बख्तावर भुट्टो जरदारी हैं. बेनजीर भुट्टो और आसिफ अली जरदारी की बेटी. ये 2014 की तस्वीर है. बख्तावर का मोबाइल देखिए. उसके बैक कवर पर बेनजीर की तस्वीर है. जुल्फिकार अली भुट्टो की राजनैतिक विरासत उनकी बेटी बेनजीर ने संभाली. मगर बेनजीर के जाने के बाद उनकी विरासत उनके बेटे बिलावल भुट्टो जरदारी संभाल रहे हैं. मतलब फिलहाल तो वही आगे दिखते हैं (फोटो: रॉयटर्स)

पाकिस्तान को फायदा होने पर क्या ‘कोड वर्ड’ बोला जाना था?
ये समझौते का फाइनल था. पाकिस्तान और हिंदुस्तान, दोनों तरफ के लोगों की धड़कनें बढ़ गई थीं. बेनजीर ने अपनी किताब में लिखा है. कि डेलिगेशन के चुनिंदा लोग अलग कमरों में बात कर रहे थे. बाकी लोग बाहर थे. जो बाहर थे, उनके कान उधर की ही ओर लगे थे. कि क्या खबर आएगी, क्या होगा. ऐसे में पाकिस्तानी डेलिगेशन ने एक कोड वर्ड तय किया. कि अगर समझौते की शर्तें पाकिस्तान के खिलाफ जाती हैं, तो अंदर बातचीत कर रहे डेलिगेशन का एक मेंबर बाहर आकर बाकी लोगों से कहेगा-

बेटी हुई है.

लेकिन अगर समझौते की शर्तें पाकिस्तान के मुताबिक होती हैं, तो वो कहेगा-

मुबारक हो, बेटा हुआ है.

पाकिस्तान के घर ‘लड़का’ पैदा हुआ
फिर तो इतिहास यही है. पाकिस्तान ने सोचा भी नहीं था कि इतनी बुरी हार के बाद भी समझौते में इतनी सम्मानजनक शर्तों के साथ वो वापस घर लौटेगा. भारत उसके 93,000 बंदी सैनिकों को रिहा करने के लिए भी तैयार हो गया था. कोड वर्ड के मुताबिक, पाकिस्तान के घर में ‘लड़का’ हुआ था. बेनजीर ने ये किस्सा सुनाते हुए खुद भी लिखा है. कि ये बड़ा सेक्सिस्ट अरेंजमेंट था. लेकिन जो था, वो था.

बाद के सालों में बेनजीर ने शिमला समझौते को अपने पिता की और पाकिस्तान की जीत बताया. 27 दिसंबर, 2007 को रावलपिंडी में एक बम हमले में वो मारी गईं. इलेक्शन में कुछ ही हफ्ते रह गए थे. बेनजीर एक चुनावी रैली में थीं. कुछ ही दिन पहले वो एक हमले में बाल-बाल बची थीं. उस दिन एक हमलावर ने उनकी कार पर गोलियां चलाईं. और फिर बम फोड़ दिया. खुद भी मरा और वहां मौजूद 20 से ज्यादा लोगों की भी जान लेता गया. बेनजीर को अस्पताल ले जाया गया. लेकिन वो बची नहीं (फोटो: बेनजीरभुट्टो ओआरजी)
बाद के सालों में बेनजीर ने शिमला समझौते को अपने पिता की और पाकिस्तान की जीत बताया. 27 दिसंबर, 2007 को रावलपिंडी में एक बम हमले में वो मारी गईं. इलेक्शन में कुछ ही हफ्ते रह गए थे. बेनजीर एक चुनावी रैली में थीं. कुछ ही दिन पहले वो एक हमले में बाल-बाल बची थीं. उस दिन एक हमलावर ने उनकी कार पर गोलियां चलाईं. और फिर बम फोड़ दिया. खुद भी मरा और वहां मौजूद 20 से ज्यादा लोगों की भी जान लेता गया. बेनजीर को अस्पताल ले जाया गया. लेकिन वो बची नहीं (फोटो: बेनजीरभुट्टो ओआरजी)

नोट: जुल्फिकार अली भुट्टो की चालाकी कहिए. या उनकी काबिलियत. उन्होंने बंद दरवाजे के पीछे इंदिरा से जो वादे किए, उन्हें कहीं दर्ज नहीं करवाया. ये वादे शिमला समझौते के कागजों पर या कहीं अलग से भी नहीं लिखे गए. मुंह की कही बातें मुंहजुबानी ही रहीं. जाहिर है, बिना दस्तावेज के इन बातों को कोई मोल नहीं था. इंदिरा जैसे पैनी, बेहद शातिर और समझदार नेता ने ये चूक क्यों की, इसकी भी कई सारी कहानियां हैं. बहुत सारी दिलचस्प कहानियां. वो भी सुनाएंगे आपको कभी.


Beta Hua hai was the code Pakistani Delegation used during Shimla Agreement, Benazir Bhutto writes in her autobiography Daughter of the east

https://www.thelallantop.com/tehkhana/beta-hua-hai-was-the-code-pakistani-delegation-used-during-shimla-agreement-benazir-bhutto-writes-in-her-autobiography-daughter-of-the-east/

1971 की हार के बाद भारत आई पाकिस्तानी टीम के कोड 'बेटा हुआ है' का क्या मतलब था?

अगला लेख: PM मोदी ने इमरजेंसी पर कांग्रेस को जमके खींचा, पर फिर खुद गलत नारा लगा बैठे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 जून 2018
हम कभी भी अपने इतिहास को नहीं भूल पाते हैं क्यूंकि इतिहास से जुडी काफी कुछ बाते हमारे दिमाग में रहती यहीं या फिर उसकी कोई तस्वीर हमारे साथ हमेशा रहा करती हैं जो की उस पल का अच्छे से एहसास दिला देती हैं ।लेकिन आज हम आप को देश की इतिहास से जुडी कुछ ऐसी तस्वीरें बताने जा रहे
25 जून 2018
19 जून 2018
ट्रेनों के आवागमन में लेटलतीफी बीते कुछ सालों तक केवल सर्दियों के मौसम तक ही सीमित रहती थी. सर्दियों में कोहरे की मार झेल रही ट्रेनों में सफर करने वाला हर शख्‍स खुद को लेटलतीफी के लिए मानसिक तौर पर तैयार रखता था. बदली हुई मौजूदा परिस्थितियों में ट्रेनों की लेतलतीफी अब सर्
19 जून 2018
18 जून 2018
भारतीय रेलवे जल्द ही पूरे देश में अपने रंग रूप को बदलने जा रही है। रेल मंत्रालय ने फैसला लिया है कि सभी ट्रेनों के डिब्बों को आकर्षक बनाने के लिए कलर शेड में रंगकर वर्ल्ड क्लास लुक दिया जाएगा।इस स्कीम के तरह सभी मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों के डिब्बों के कलर में बदलाव किया जा
18 जून 2018
26 जून 2018
26 जून 1975. इसी तारीख को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने आपातकाल का ऐलान किया था. 26 जून 2018. अब इसी तारीख को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) इमरजेंसी के खिलाफ देश भर में काला दिवस मना रही है. ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहां पीछे रहने वाले थे. मोदी मुंबई पहुंचे
26 जून 2018
26 जून 2018
AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्र सरकार का समर्थन करते हुए कश्मीर में कथित मानवाधिकार उल्लंघनों पर संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट को खारिज कर दिया है. उन्होंने कहा कि यह देश का अंदरूनी मामला है. हैदराबाद से लोकसभा सदस्य ने यहां के मक्का मस्जिद में कहा, ''यह हमारे देश की
26 जून 2018
18 जून 2018
अगर आपका बच्चा भी मोबाइल फोन में गेम खेलता है तो ये खबर आपके लिए है। आज के दौर में अकसर ऐसा देखा गया है कि बच्चों को मोबाइल फोन में गेम खेलना बहुत अच्छा लगता है। राजस्थान में 12 साल के एक बच्चा मोबाइल फोन में गेम खेल रहा था इसी दौरान फोन की बैटरी में ब्लास्ट हो गया।इस घटन
18 जून 2018
05 जुलाई 2018
स्वच्छ भारत मिशन पर हमारे सेलिब्रिटीज की इत्ती नजर है कि दुनिया में कोई कचरा नहीं फैला सकता. ये वाकई सही मुहिम है. धुरंधर क्रिकेटर और ट्विटर एक्सपर्ट वीरेंद्र सहवाग ने एक ट्वीट किया. उसे देखकर आप उनकी पारखी नजर के फ़ैन हो जाएंगे भाईसाब. देख लो.यानी जो लड़की खड़ी है. वो कूड़ा कागज उठाने को बोल रही है
05 जुलाई 2018
12 जून 2018
आज कल सीबीएसई का रिजल्ट आ चुका हैं हर तरफ 95% पाने वालों की चर्चा चल रही हैं सोशल मीडिया हो या व्हाट्स एप्प या कुछ और | जिनके 90% हैं या उससे कम वो तो बेचारे शर्म से कुछ कह भी पा रहे मानो वो फेल हो गये हो | इतने मार्क्स की देख कर अक्सर यही सोच
12 जून 2018
11 जून 2018
देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने अपने खाताधारकों की मात्र एक गलती से जुर्माने के रूप में लगभग 39 करोड़ रुपये कमाये। स्टेट बैंक ने चेक पर हस्ताक्षर का मिलान ना होने पर ग्राहकों से पिछले 40 महीनों में 39 करोड़ रुपये जुर्माने के रूप में वसूल किये हैं। दैनिक भास्
11 जून 2018
08 जून 2018
कई बार हम किसी फ़ोटो को देखकर सोचते हैं कि 'Wow फ़ोटोग्राफ़र ने कितनी अच्छी फ़ोटो क्लिक की है', हम मानते हैं कि फ़ोटोग्राफ़र एक अच्छी फ़ोटो के लिए बहुत मेहनत करता है. लेकिन इसके साथ ही फ़ोटो की परफेक्ट टाइमिंग भी होती है. तभी तो कई बार कैंडिड फ़ोटोज़ भी बेहद ख़ूबसूरत आती
08 जून 2018
11 जून 2018
मौसम जैसा भी हो, उत्तप्रदेश का राजनैतिक माहौल हमेशा गर्म ही रहता है. भाजपा और समाजवादी पार्टी के बीच आरोप-प्रत्यारोप का नया दौर शुरु हो चुका है.पिछले महीने सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कहा कि सभी पूर्व CMs को सरकारी बंगला खाली करना होगा. इसकी वजह से अखिलेश यादव को भी अपना आ
11 जून 2018
18 जून 2018
दोस्तों दुनिया में मनोरंजन और कला की कमी नहीं है, आये दिन हमें कुछ ऐसी चीज़े दिखती हैं, जिसे देखकर ऐसा लगता है, जैसे की कितना सूंदर चीज़ बनाया है। ये दुनिया है ही ऐसी रंगबिरंगे रंगो से घिरी हुई। आये दिन हमें ऐसी तस्वीरें भी दिखती हैं। जो हमें सोचने पर मजबूर कर देती हैं की
18 जून 2018
15 जून 2018
गुजरात में एक दलित व्यक्ति के साथ जाति के आधार पर हिंसा की एक और घटना सामने आई है. साथ ही, महाराष्ट्र में दो नाबालिग दलित लड़कों के साथ मारपीट की गई है. इन दोनों ही घटनाओं के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं.पहला केसजगह- जलगांव, महाराष्ट्रतारीख- 10 जूनजलगांव के वकाड
15 जून 2018
15 जून 2018
भारत में आपको प्रत्येक कार पर नंबर प्लेट नजर आएगी सिवाए कुछ गाड़ियों के. इसके बावजूद भारत सरकार ने इन्हें मान्यता दे रखी है. क्या आप जानते हैं कि ये कार किन लोगों के पास है..? चलिए जानते हैं इस रोचक सवाल का रोचक जवाब…आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे कि भारत में देश के रा
15 जून 2018
06 जून 2018
14 साल का राजू यादव जो की हजारीबाग, झारखंड में अपने माता-पिता और दो भाइयों के साथ रहता था। जब वो छठी क्लास में था तभी उसे अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी, वजह था परिवार पर हज़ारों का कर्ज और माता-पिता की खराब तबियत। राजू भाइयों में सबसे बड़ा था और परिवार की आर्थिक ज़रूरतों को पूरा करने
06 जून 2018
21 जून 2018
सोशल मीडिया पर एक चमत्कार का वीडियो चल रहा है. वीडियो में एक चूल्हा दिखाई दे रहा है जिसके ऊपर एक बड़ा बर्तन रखा है. चमत्कार ये है कि यह चूल्हा बिना गैस के जल रहा है. यह वीडियो एक गुरुद्वारे का है. इसे चमत्कार बताया जा रहा है. यह वीडियो बहुत तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो
21 जून 2018
18 जून 2018
भारतीय रेलवे जल्द ही पूरे देश में अपने रंग रूप को बदलने जा रही है। रेल मंत्रालय ने फैसला लिया है कि सभी ट्रेनों के डिब्बों को आकर्षक बनाने के लिए कलर शेड में रंगकर वर्ल्ड क्लास लुक दिया जाएगा।इस स्कीम के तरह सभी मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों के डिब्बों के कलर में बदलाव किया जा
18 जून 2018
25 जून 2018
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शुरू से ही वीआईपी कल्चर के विरोधी रहे हैं। उसकी झलक एक बार देखने को मिली। प्रधानमंत्री मोदी रविवार रात करीब नौ बजे पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी का हाल जानने बिना किसी सिक्योरिटी और प्रोटोकाल के एम्स पहुंच गए। प्रधानमंत्री मोदी ने बिना रूट के अप
25 जून 2018
19 जून 2018
आजकल खिचड़ी चर्चा का विषय बनी हुई है। नेताओं से लेकर सोशल मीडिया तक में खिचड़ी पर ही बातें हो रही हैं। खैर कुछ भी हो लेकिन हमने भी खिचड़ी की तरह सब कुछ मिलाकर आपके लिए तैयार की है खिचड़ी की कहानी …नेपाल से आती है सबसे पहली खिचड़ीलोक मान्यताओं के अनुसार सबसे पहले खिचड़ी बन
19 जून 2018
06 जुलाई 2018
लोगों का दिल जीतने के लिए आप उन्हें कुछ स्वादिष्ट खिलाएं जिससे वो खुश हो जाएं – पांचवी सदी ईसा पूर्व में एथेंस के राजनीतिक और सामाजिक ताने-बाने पर यूनानी नाटककार एरिस्टोफ़ेनस की यह टिप्पणी भारत पर बिल्कुल फिट बैठती है। पिछली सरकार के अंतिम वर्षों के कार्यकाल से हताश जनता
06 जुलाई 2018
08 जून 2018
इंटरनेट ने पूरी दुनिया के लोगों को आपस में जोड़ा है. इतनी बड़ी दुनिया में इतने सारे लोगों को सिर्फ़ एक क्लिक ने जोड़ दिया. Information का आदान-प्रदान तो होता ही है, इसके साथ ही Misleading Information का भी संचार होता है. इंटरनेट पर ऐसी कई Fake Photos वायरल हुए हैं, जिसे ह
08 जून 2018
07 जून 2018
नाखूनों में सफेद सा अर्ध-चंद्राकार क्या होता है? क्या यहां पर नाखून डिस्कलर हो जाता है?ऐसा सोचकर इसको खुरच ना देना. बहुत जालिम चीज है. माफ नहीं करती. नाखून वैसे तो नेल-कटर या ब्लेड से भी काट लेते हैं. पर ये वाला पार्ट बहुत सेंसिटिव होता है गुरु. लुनुला कहते हैं इसको. लैटि
07 जून 2018
22 जून 2018
ख़ूबसूरती को देखने का सबका अपना-अपना नज़रिया होता है, किसी को बाहरी सुंदरता पसंद आती है, तो किसी को अंदरूनी ख़ूबसूरती भाति है. किसी को बॉलीवुड अभिनेत्रियां सुन्दर लगती हैं, तो वहीं कई लोगों के लिए ये सिर्फ़ दिखावटी है. ख़ैर, ये तो अपनी-अपनी पसंद की बात है, पर आज हम आपको ऐसी श
22 जून 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x