सौतेली माँ

25 जून 2018   |  कुनाल मंजुल   (595 बार पढ़ा जा चुका है)

सौतेली माँ

आकाश की दूसरी शादी हो चुकी है, पहली शादी उसने 21 साल की उम्र में ही कर ली थी। घरवालों की मर्जी के खिलाफ लव मैरिज की थी। पहली पत्नी का नाम राधा था। 2 साल पहले ही राधा चल बसी। cancer हो गया था उसे, आकाश अपनी लाख नामुमकिन कोशिशों के बाद भी अपनी राधा को बचा नहीं पाया! असल में आकाश दूसरी शादी करना ही नहीं चाहता था, पूरी तरह बिखर चुका था। राधा के गुज़र जाने के बाद वो जैसे जीना ही भूल चुका था, उसके घरवाले उसे यूँ देखकर परेशान हो चुके थे, अभी सिर्फ 40 साल का ही तो हुआ था। अभी भी बहुत ज़िंदगीं बाकी थी। इसलिए घरवालों की मर्जी के आगे उसे हार माननी पड़ी। उसकी एक बेटी भी है जो शादी के ठीक 2 साल बाद हो गयी थी। उसकी और राधा की निशानी आँचल। जो अब 17 साल की हो चुकी थी।


आकाश की दूसरी पत्नी का नाम राधिका था। ये संयोग ही था कि उसे पहले राधा और अब राधिका मिली थी। राधिका भी बिल्कुल राधा की तरह ही थी, उसका बोलचाल, उसकी कुछ-कुछ आदतें राधा के जैसी ही थीं। आकाश न चाहते हुए भी राधिका को स्वीकार करने लगा था। आँचल का रवैया भी अभी तक ठीक था अपनी माँ को लेकर। अभी तक सब कुछ ठीक था।
लेकिन कुछ दिनों से आँचल का रवैया राधिका के लिए अजीब हो गया था।
राधिका की तो कुछ समझ में ही नहीं आ रहा था कि ये हो क्या रहा है। आँचल हर चीज़ को लेकर, हर बात को लेकर राधिका पे तंज़ कसती रहती। और अगर राधिका उसे कुछ समझाने की बात कहती या उससे बात करने की कोशिश करती तो कहती कि मैं तुम्हारी सगी बेटी नहीं हूँ इसलिए मुझमें हर वक़्त कमी निकालती हो, इसलिए मुझे हर वक़्त नीचा दिखाना चाहती हो।


राधिका रोती हुई अपने कमरे में वापस आ गयी। एक धक्का लगा था उसके वजूद को। उसने कभी जिस सौतेले "शब्द" को अहमियत ही नहीं दी, वही शब्द उसकी और उसकी बेटी की ज़िंदगी में आ चुका था। अब ये हर रोज़ हुआ करता था। रोज़ राधिका को सौतेलेपन का अहसास कराया जाता। अब रिश्तों में सौतेलेपन की एक नयी समस्या खड़ी हो गयी थी।
मुश्किल ये थी कि अगर आकाश आँचल का पक्ष लेता तो राधिका घुटती थी, और अगर राधिका की तरफदारी करता तो आँचल को बुरा लगता था। शायद आकाश ये बात समझता था इसलिए दूसरी शादी नहीं करना चाहता था। पर विडंबना ये थी समय के साथ-साथ ये सौतेलापन का पेड़ बहुत घना होता जा रहा था। आकाश अबतक किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुँच पा रहा था। हालात बद से बदतर होते जा रहे थे। आकाश ये तो समझ चुका था कि राधिका ऐसी तो बिल्कुल नहीं थी, क्योंकि जहाँ तक आकाश ने उसको देखा, उसको समझा तो उसको राधिका में कोई बुराई नज़र नहीं आयी, कुछ कमियाँ जरूर थी पर वो भी ऐसी नहीं थी कि उनसे ज्यादा बड़ा मसला बने। वहीं आँचल भी ऐसी ही थी, समझदार, सुलझी हुई। हाँ बस मॉडर्न थी, खुली सोच खुले विचारों की। अपनी हर बात बेबाँकी से रखने वाली। आकाश अब चुप रहना सीख रहा था, सोच रहा था माँ बेटी खुद एक दूसरे को वक़्त दें, तो शायद बात बन सकती थी।


लेकिन असल परेशानी वहाँ नहीं थी। असल परेशानी थी, वो चंद रिश्तेदार, वो पड़ोसी, कुछ आँचल के आग लगाने वाले दोस्त। आँचल की बुआ, उसकी ताई, उसकी मामी, उसकी मासी, और भी दकियानूसी सोच वाले न जाने कितने लोग थे, जिन्होंने सौतेलेपन का बीज बो दिया था उसके मन में। एक दिन अचानक राधिका बहुत बीमार पड़ गई, अस्पताल में भर्ती हो गई। पर कुछ लोग होते हैं ना जो अपने दुख से नहीं बल्कि दूसरों के सुख से दुखी होते हैं। आँचल उसे देखने तक नहीं गई। क्योंकि उसके लिए वो सौतेली माँ थी। राधिका को ठीक होने में वक़्त लगा, काफी कमजोरी आ गई थी, पर उसकी असली बीमारी तो ये सब नहीं थी, असल में उसकी असली बीमारी आँचल का बार-बार उसे सौतेलेपन का बोध कराना था।
माँ-बेटी के इस सौतेलेपन का पेड़ अब विशाल हो चुका था, जिसपर रोज़ नई कोंपल रोज़ नई शाखें निकल आती थीं। उधर आकाश इतना असहाय तो तब भी नहीं हुआ था जब राधा उसे छोड़ के चली गई, क्योंकि तब भी उसके पास राधा के साथ बितायीं हुईं खूबसूरत यादें थीं। लेकिन अब तो वो दो पाटों में पिस रहा था। दोहरी मार पड़ रही थी उसे। पूरे घर में लोगों से ज्यादा अब तनाव रहता था।


एक दिन आँचल रोते हुए घर आयी, उसको देखकर लग रहा था कि कुछ बहुत बुरा हुआ है। लेकिन आँचल बस रोये जा रही थी, किसी से बात नहीं कर रही थी। आकाश ने जैसे-तैसे आँचल से बात की, उसने बताया कि पड़ोस की कामिनी आँटी के बेटे राजीव ने बीच चौराहे पर उसका हाथ पकड़ा।
ये सब सुनते ही, पुरानी ख़यालात वाले दादी और दादा बोले, "हम तो कहते ही थे कि इसको समझाओ, ढँग के कपड़े पहने, अब उस लड़के से जाके क्या कहोगे? समाज में बेइज्जती होगी सो होगी, कल को इसकी शादी में भी अड़चनें आएँगी। वो तो लड़का है, उससे तो कोई कुछ नहीं कहेगा, ये समाज एक दो दिन याद रखेगा और भूल जाएगा। लेकिन लड़कियों को ये नसीब नहीं मिलता। हम तो कहते हैं कि........तभी राधिका बीच में बोल पड़ी, "क्या आप कहते हैं, क्या सही कह रहे हैं आप, मेरी बेटी का जो मन आएगा वो पहनेगी, जैसे मन आएगा वैसे रहेगी, लेकिन इस सबका ये तो मतलब नहीं कि लड़कों को लाइसेंस मिल जाता है किसी का भी हाथ पकड़ सकें। वो आपका ज़माना था लेकिन ये आज का ज़माना है, उसने बीच सड़क पे मेरी बेटी का हाथ पकड़ा है, इसकी सज़ा उसे मिलेगी।" सब बोले बहु तू ये क्या कर रही है। लेकिन राधिका ने आकाश की तरफ देखा, जैसे उसकी इजाज़त माँग रही हो।


आकाश का पारा सातवें आसमान पर था, वो तेज कदमों से राजीव के घर की तरफ निकला, तभी राधिका ने उसका हाथ पकड़कर उसे रोक लिया। आकाश गुस्से से बोला, "राधिका, मुझे जाने दो, "मैं आज बताऊँगा उनको मेरी बेटी का हाथ पकड़ने की सजा कितनी भयानक होगी।"
राधिका बोली, " मैंने आपको इसलिए नहीं रोका की आप उसे सजा देने जा रहे हो बल्कि इसलिए रोका की आप अकेले जा रहे हो।"
राधिका ने आँचल का हाथ पकड़ा और बोली, "चल बेटी, जितना दर्द तुझे हुआ है, उसका हिसाब लेते हैं।"
आँचल एकटक राधिका को निहारे जा रही थी, फिर कुछ देर चुप रही और रोते हुए बोली, "माँ मुझे माफ़ कर दो......" लेकिन राधिका ने उसको गले से लगाते हुए कहा, "चुप कर कितना रोयेगी" दोनों माँ बेटी गले लगकर रोने लगी। सौतेलेपन का जो पेड़ विशाल हो चुका था वो अब किसी तिनके की तरह हवा में उड़ गया। आज आँचल को उसकी माँ की कमी नहीं खल रही थी। अगर आज राधा भी होती तो वो भी ऐसे ही अपनी बेटी की तरफदारी करती जैसी आज राधिका ने की।
अब तीनों लोग राजीव के घर के बाहर थे। दरवाजे की घंटी बजाने पर राजीव की माँ बाहर आयीं।


और उनके पीछे राजीव भी आकर खड़ा हो गया। उसकी आँखों में कोई पछतावा नहीं था सिर्फ बेशर्मी थी। जब आँचल ने उसकी हरकत के बारे में बताया तो राजीव किसी मंझे हुए खिलाड़ी की तरह खुदको बचाने लगा। जब उसका कोई दाँव काम नहीं आया तो आँचल से बोला, "तू खुदको क्या समझती है, जब तुझे अपनी सौतेली माँ से लड़ाई करके मन नहीं भरा तो यहाँ आ गयी ड्रामा करने। सारा मोहल्ला जानता है कि तुम माँ-बेटी के बीच कितना पंगा होता है। आज यहाँ दिखावे के लिए साथ चली आयीं।" आकाश राजीव को थप्पड़ मारने ही वाला था कि राधिका ने उसका हाथ पकड़ लिया, ये देखकर राजीव बोला, "क्यों आँटी सच बोला तो मिर्ची लगती है, यहाँ कितनी भी एक्टिंग कर लो आखिर तो तुम इसकी सौतेली माँ हो। माफ कीजिये, एक गिरी हुई बेटी की सौतेली माँ।"


राधिका ने एक जोरदार तमाचा राजीव को जड़ दिया, और बोली, "तुझमें इतनी हिम्मत की तू मेरी बेटी को गिरा हुआ बोले।"
राजीव गुस्से से बोला, "आखिर तो तुम इसकी सौतेली माँ हो, कितना भी अच्छा ड्रामा कर लो। सगी माँ थोड़े ही बन पाओगी।"
राजीव के गाल पे एक और तमाचा पड़ा। इस बार आँचल ने हाथ उठाया था। आँचल गुस्से में बोली, "अगर मेरी माँ के खिलाफ एक और शब्द कहा तो मुझसे बुरा कोई नहीं होगा।"
राधिका ने राजीव को देखा फिर सख्त लहज़े में बोली, " मैं तो तुम्हें समझाने आयी थी, सोचा था बच्चे हो अपनी गलती का तुम्हें पछतावा होगा। लेकिन तुम इतने बेशर्म हो कि तुम्हें समझाइश की नहीं बल्कि सुधारने की जरूरत है।"


ये कहकर राधिका ने पुलिस को फोन कर दिया....
लेकिन इस हादसे के बाद माँ-बेटी के बीच सौतेलेपन का पेड़ एक विश्वास के मजबूत धागे से जुड़ चुका था। आँचल आज समझ चुकी थी और ये बहुत अच्छे से जान चुकी थी कि मैं सौतेली या सगी नहीं होती... माँ तो सिर्फ माँ होती है।


अगला लेख: धोनी-साक्षी की शादी की 8वीं सालगिरह पर जानिए 8 खास बातें



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 जून 2018
कुछ दिनों से ट्विटर में सबसे पहले शेयर की गई एक पिक्चर अब सोशल मीडिया में हर जगह वायरल हो रही है. ये फोटो एक छोटे से बच्चे की है.Third party image referenceसब लोग परेशान है और सोच रहे है की ये बच्चा कौन है. आइये हम आपको बताते है ये बच्चा कौन है. ये बच्चा कोई और नहीं बल्कि
18 जून 2018
14 जून 2018
प्
" प्यार क्या है " सदियों से ये सवाल सब के दिलो में उठता रहा है और सदियों तक उठता रहेगा .इस सवाल का जबाब देने की सबने अपनी तरफ से पूरी कोशिश भी की है ." प्यार" शब्द अपने आप में इतना वयापक और बिस्तृत है की इसकी वयाख्या करना बड़े बड़ो के लिए
14 जून 2018
29 जून 2018
कहते हैं ना एक बाप के लिए उसकी औलाद उस स्कीम की तरह है जहां एक बार इन्वेस्ट करने के बाद प्राफिट मिले या ना मिले..कोई गारंटी नहीं है।बाप आधी से ज्यादा जिंदगी निकाल देता है कि उसकी औलाद भी पैरों पर खड़ी हो और जो दुख वो आज देख रहा है। उसकी औलाद उन दुखों को ना देखे। बच्चे की
29 जून 2018
23 जून 2018
अकस्मात मीनू के जीवन में कैसी दुविधा आन पड़ी????जीवन में अजीव सा सन्नाटा छा गया.मीनू ने जेठ-जिठानी के कहने पर ही उनकी झोली में खुशिया डालने के लिए कदम उठाया था.लेकिन .....पहले से इस तरह का अंदेशा भी होता तो शायद .......चंद दिनों पूर्व जिन खावों में डूबी हुई थी,वो आज दिवास्वप्न सा लग रहा था.....
23 जून 2018
05 जुलाई 2018
आज टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और मशहूर फिनिशर महेंद्र सिंह धोनी की शादी की आठवी सालगिरह है. धोनी ने 4 जुलाई 2010 को साक्षी के साथ केवल कुछ ही खास दोस्तों और रिश्तेदारों की उपस्थिति में शादी की. शादी से पहले ही दोनों काफी समय पहले से ही मिलते रहे थे. उनकी प्रेम कहानी के बा
05 जुलाई 2018
03 जुलाई 2018
कुछ लोग जब पास आ कर बात करते हैं, तो मुंह से निकलने वाली महक हमें उनकी ओर आकर्षित करती है. वहीं कुछ लोग ऐसे होते हैं, जिनके मुंह से निकलने वाली सांस की दुर्गंध की वजह से लोग उनसे दूरी बनाना बेहतर समझते हैं. ज़्यादातर लोग इस समस्या का शिकार हैं और इसकी वजह से उनमें आत्मविश
03 जुलाई 2018
02 जुलाई 2018
स्वरोजगार योजना में लोन का आवेदन करने से पहले गरीबी रेखा के नीचे का कार्ड बनवाने आए छठी फेल युवक की अंग्रेजी सुन कलेक्टर हैरान रह गए। उन्होंने कहा- तुम इतने अच्छे, स्मार्ट हो और अंग्रेजी भी बाेल लेते हो, तुम छठी फेल नहीं हो सकते। झूठ बोले रहे हो, तुम्हारा बीपीएल कार्ड नही
02 जुलाई 2018
21 जून 2018
एयरटेल अब गा रहा है ‘जिंदगी बरबादि हो गिया.’ उसकी साख बढ़ाने के लिए एक लड़की रात दिन एक किए हुए है. जिसे ‘एयरटेल गर्ल’ कहते हैं. दूसरी लड़की है पूजा. जिसने एयरटेल को तबाह कर रखा है. उसने मुस्लिम कस्टमर सर्विस वाले को हटाकर हिंदू भेजने की मांग की थी. ये ट्वीट याद होगा.अब ए
21 जून 2018
07 जुलाई 2018
टे
सुर्ख अंगारे से चटक सिंदूरी रंग का होते हुए भी मेरे मन में एक टीस हैं.पर्ण विहीन ढूढ़ वृक्षों पर मखमली फूल खिले स्वर्णिम आभा से, मैं इठलाया,पर न मुझ पर भौरे मंडराये और न तितली.आकर्षक होने पर भी न गुलाब से खिलकर उपवन को शोभायमान किया.मुझे न तो गुलदस्ते में सजाया गया और न ही माला में गूँथकर द
07 जुलाई 2018
20 जून 2018
इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे वनडे में इतिहास रचते हुए 50 ओवर 481 रन बना डाले। इसके साथ ही इंग्लैंड ने वनडे क्रिकेट के अपना पुराना रिकॉर्ड तोड़ते हुए सबसे ज्यादा स्कोर बनाने का रिकॉर्ड बनाया। इससे पहले भी वनडे क्रिकेट में एक पारी में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर
20 जून 2018
22 जून 2018
क्रिकेट को अनिश्चितताओं का खेल कहा जाता है. कब किस मैच का पासा पलट जाये कुछ कहा नहीं जा सकता है. मैच जीतने के लिए खिलाड़ियों को कड़ी मेहनत करनी पड़ती है. लेकिन एक अच्छा क्रिकेटर बनने के लिए न सिर्फ़ कड़ी मेहनत बल्कि समर्पण की भी ज़रूरत होती है. तभी गावस्कर, कपिल, सचिन, धोनी और
22 जून 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x