जब मां ज्वालाजी ने तोड़ा अकबर का अभिमान, आज भी रहस्य बना है उसका चढ़ाया छत्र !

28 जून 2018   |  प्राची सिंह   (185 बार पढ़ा जा चुका है)

जब मां ज्वालाजी ने तोड़ा अकबर का अभिमान, आज भी रहस्य बना है उसका चढ़ाया छत्र !

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिला में माता श्री ज्वालाजी का मंदिर स्थित है। यहां ज्योति रूप में मां ज्वाला भक्तों को दर्शन देती हैं। मान्यता है कि ज्वालाजी में माता सती की जीभ गिरी थी, इससे यहां का नाम ज्वालाजी मंदिर पड़ा। मंदिर में होने वाले चमत्कारों को सुन अकबर सेना सहित यहां आया था।

अकबर ने ज्योति को बुझाने के लिए नहर का निर्माण किया और सेना से पानी डलवाना शुरू कर दिया। नहर के पानी से मां की ज्योतियां नहीं बुझीं। इसके बाद अकबर ने मां से माफी मांगी और पूजा कर सोने का सवा मन का छत्र चढ़ाया था। माता ने उसका छत्र स्वीकार नहीं किया था।

यह छत्र सोने का न रहकर किसी दूसरी धातु में बदल गया था। अकबर की भेंट माता ने अस्वीकार कर दी थी। इसके बाद वह कई दिन तक मंदिर में रहकर क्षमा मांगता रहा। बड़े दुखी मन से वापस गया था। कहते हैं कि इस घटना के बाद ही अकबर के मन में हिंदू देवी-देवताओं के लिए श्रद्धा पैदा हुई थी।


छत्र किस धातु का है, नहीं पता…




अकबर का चढ़ाया गया छत्र किस धातु में बदल गया, इसकी जांच के लिए साठ के दशक में तत्कालीन प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू की पहल पर यहां वैज्ञानिकों का दल पहुंचा। छत्र के एक हिस्से का वैज्ञानिक परीक्षण किया तो चौंकाने वाले नतीजे सामने आए। वैज्ञानिक परीक्षण के आधार पर इसे किसी भी धातु की श्रेणी में नहीं माना गया।

जो भी श्रद्धालु शक्तिपीठ में आते हैं, वे अकबर के छत्र और नहर देखे बगैर यात्रा को अधूरा मानते हैं। आज भी छत्र ज्वाला मंदिर के साथ भवन में रखा हुआ है। मंदिर के साथ नहर के अवशेष भी देखने को मिलते हैं।

मंदिर का निर्माण..




सबसे पहले इस मंदिर का निर्माण राजा भूमि चंद ने करवाया था। बाद में महाराजा रणजीत सिंह और राजा संसार चंद ने 1835 में इस मंदिर का निर्माण पूरा कराया। कहा जाता है कि पांडवों ने अज्ञातवास के समय यहां समय गुजारा था और मां की सेवा की थी। मंदिर से जुड़ा एक लोकगीत भी है जिसे भक्त अक्सर गाते हुए मंदिर में प्रवेश करते हैं…पंजा-पंजा पांडवां तेरा भवन बनाया, राजा अकबर ने सोने दा छत्र चढ़ाया…।

मंदिर में सात ज्योतियां
मंदिर के गर्भ गृह के अंदर सात ज्योतियां हैं। सबसे बड़ी ज्योति महाकाली का रूप है जिसे ज्वालामुखी भी कहा जाता है। दूसरी ज्योति मां अन्नपूर्णा, तीसरी ज्योति मां चंडी, चौथी मां हिंगलाज, पांचवीं विंध्यावासनी, छठी महालक्ष्मी व सातवीं मां सरस्वती है।

पांच बार होती है आरती
मंदिर में पांच बार आरती होती है। एक मंदिर के कपाट खुलते ही सूर्योदय के साथ सुबह 5 बजे की जाती है। दूसरी मंगल आरती सुबह की आरती के बाद। दोपहर की आरती 12 बजे की जाती है।

आरती के साथ-साथ माता को भोग भी लगाया जाता है। फिर संध्या आरती 7 बजे होती है। इसके बाद देवी की शयन आरती रात 9.30 बजे की जाती है। माता की शय्या को फूलों, आभूषणों और सुगंधित सामग्रियों से सजाया जाता है।

ज्वाला चमत्कारिक भी




यहां पर ज्वाला प्राकृतिक न होकर चमत्कारिक है। अंग्रेजी शासनकाल में अंग्रेजों ने पूरा जोर लगा दिया था कि जमीन से निकलती ऊर्जा का इस्तेमाल किया जाए। लाख कोशिश पर भी वे इस ऊर्जा को नहीं ढूंढ पाए थे।

कैसे पहुंचें ज्वालाजी मंदिर
ज्वालाजी मंदिर पहुंचने के लिए नजदीकी हवाई अड्डा कांगड़ा के पास गगल में है। हवाई अड्डा मंदिर से लगभग 45 किलोमीटर है। रेल मार्ग से पठानकोट से रानीताल (ज्वालामुखी रोड) पहुंच सकते हैं। आगे मंदिर तक पहुंचने के लिए बस, टैक्सी उपलब्ध रहती है। दिल्ली, शिमला व पंजाब के प्रमुख स्थानों से सीधी बसें ज्वालाजी आती हैं।

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/05/09/national-historical-incidents-related-to-maa-jwala-ji/

अगला लेख: जानें क्यों भारत में गाडियां सड़क के बायीं ओर और अमेरिका में दायीं ओर चलती हैं?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जुलाई 2018
हे ईश्वर मालिक हे दाता, हे जगत् नियंता दिन बन्धु!हे परमेश्वर प्रभु हे भगवन्, हे प्रतिपपालक हे दया सिन्धु!!सच्चिदानंद घट घट वासी, हे सुखराशि करुणावतार!हे विघ्न हर्न मंगल मूर्त, हे शक्ति रूप हे गुणागार!!सभ्यता यशश्वी हो जाए, मानवता का फैले प्रकाश!सब दिव्य दृष्टि के पोषक हो, कर दो कुदृष्टि का सर्व् नाश
12 जुलाई 2018
01 जुलाई 2018
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *आदिकाल से ईश्वर की सत्ता सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में विद्यमान है | परंतु सृष्टि के प्रारम्भ से ही ईश्वरीय सत्ता को मानने वाले भी इसी ब्रह्माण्ड में रहे हैं जिन्हें असुर की संज्ञा दी गयी है | समय समय पर इस धरती पर ईश्वर की उपस्थिति का प्रमाण मिलता रहा है | उन्हीं प्रमाणों
01 जुलाई 2018
23 जून 2018
हरियाणा की लोकप्रिय कलाकार सपना चौधरी जल्द ही राजनीति के मंच पर नजर आ सकती हैं. सपना चौधरी के राजनीति में आने के कयास उस समय तेज हो गए जब वह शुक्रवार को अचानक कांग्रेस दफ्तर में नजर आईं. इससे पहले उन्होंने दस जनपथ जा कर सोनिया गांधी से मिलने का वक्त भी मांगा.दस जनपथ पहुंच
23 जून 2018
16 जून 2018
नीलम - ब्लू नीलमणि - कई लोगों द्वारा सादे सती के बुरे प्रभावों और कुंडली में शनि भगवान की खराब स्थिति को दूर करने के लिए पत्थर पहना जाता है। (जन्मा कुंडली)। नीलम रत्न पहनने से पहले और पहले मंत्र को मंत्रमुग्ध किया जाना चाहिए: नीलम पहनने के लिए शनि मंत्र नमो भगव शनिश्चराय सूर्य सभाय नम: ओम नमो भगवत श
16 जून 2018
19 जून 2018
आजकल खिचड़ी चर्चा का विषय बनी हुई है। नेताओं से लेकर सोशल मीडिया तक में खिचड़ी पर ही बातें हो रही हैं। खैर कुछ भी हो लेकिन हमने भी खिचड़ी की तरह सब कुछ मिलाकर आपके लिए तैयार की है खिचड़ी की कहानी …नेपाल से आती है सबसे पहली खिचड़ीलोक मान्यताओं के अनुसार सबसे पहले खिचड़ी बन
19 जून 2018
29 जून 2018
“वहां माइनस डिग्री टेम्प्रेचर में फौजी खड़े हैं और तुम चाय में एक्स्ट्रा शुगर मांग रहे हो?” हमारे आस पास के ज्ञानी और सुधीजन फौजियों को थैंक्यू करने के लिए यही शब्द इस्तेमाल करते हैं. अपने दावे को सही साबित करने का अगर हल्का सा भी क्लू हाथ लगता है, तो उसे जाने नहीं देते.
29 जून 2018
06 जुलाई 2018
दोस्तों क्या छुट्टी के दिन जब आप सुबह आराम से उठते हैं और उठने के बाद सबसे पहले न्यूज़पेपर ही उठाते हैं और चाय की चुस्कियों के साथ देश और दुनिया की ताज़ा ख़बरें पढ़ते हैं. लेकिन कुछ लोग पेपर में आने वाले क्रॉस वर्ड्स गेम या सुडोकु खेलते हैं. बचपन से ही हम लोग क्रॉसवर्ड खेलते
06 जुलाई 2018
26 जून 2018
पटना: शास्त्रों के अनुसार तुलसी को देवी का रूप माना जाता है। घर के आंगन में तुलसी का पौधा लगाने की और उसकी पूजा-अर्चना करने की परंपरा पुरानी है। ऐसा करने वालों को देवी-देवताओं की विशेष कृपा मिलती है। साथ ही साथ हर तरह की नकारात्मक ऊर्जा से घर-परिवार की रक्षा होती है।तुलसी
26 जून 2018
22 जून 2018
हि
शुक्रवार, 22 जून, 2018 को हिंदू कैलेंडर में तिथि - शुक्ल पक्ष नवमी तीथी या नौवें दिन हिंदू कैलेंडर में चंद्रमा के मोम या प्रकाश चरण और अधिकांश क्षेत्रों में पंचांग के दौरान। यह शुक्ल पक्ष नवमी तीथी या नौवें दिन 22 जून को 6:37 बजे तक चंद्रमा के मोम या प्रकाश चरण के दौरान नौवें दिन है। इसके बाद यह शुक
22 जून 2018
21 जून 2018
सोशल मीडिया पर एक चमत्कार का वीडियो चल रहा है. वीडियो में एक चूल्हा दिखाई दे रहा है जिसके ऊपर एक बड़ा बर्तन रखा है. चमत्कार ये है कि यह चूल्हा बिना गैस के जल रहा है. यह वीडियो एक गुरुद्वारे का है. इसे चमत्कार बताया जा रहा है. यह वीडियो बहुत तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो
21 जून 2018
04 जुलाई 2018
कतर, मकाओ और लक्सज़मबर्ग सबसे अमीर देश हैं किस देश को सबसे अमीर देश कहा जा सकता है? आप कहेंगे कि सीधी सी बात है, जिस देश में सबसे ज़्यादा पैसा है वो देश सबसे अमीर कहलाएगा. लेकिन इस सवाल का जवाब इतना सीधा नहीं है. सबसे अमीर देशों की सूची बनाने के लिए कई दूसरे रास्ते अपनाए
04 जुलाई 2018
16 जून 2018
अनी उथिरम, या अनी उथ्रम, तमिल महीने अनी (या अनी) में शुभ दिन है और भगवान नटराज (शिव) को समर्पित है। अनी उथिरम 2018 की तारीख 20 जून है। त्यौहार को अनी थिरुमनंजनम भी कहा जाता है और उथिरम नक्षत्रम दिवस पर मनाया जाता है। यह माना जाता है कि यह अनी उथिरम दिवस पर था कि भगवान शिव कुरुंडीई वृक्ष के नीचे ऋषि
16 जून 2018
19 जून 2018
कैंसर राशि चक्र हिंदू ज्योतिष में करका राशी के रूप में जाना जाता है और यह जुलाई 2018 राशिफल चंद्रमा ज्योतिष पर आधारित है। जुलाई 2018 में, कार्क राशी पैदा हुए लोग जुलाई 2018 में खुश और सकारात्मक समाचार सुनेंगे। करका राशी जुलाई 2018 अच्छी तारीखें जुलाई 2018 में कारका राशी, या कैंसर राशि चक्र के लिए अच
19 जून 2018
06 जुलाई 2018
आपने अमीर लोगों के बारे में तो सुना ही होगा, लेकिन क्या कभी आपने अमीर शहरों के बारे में सुना है। हम आपको जीडीपी के आधार पर भारत के 10 बड़े शहरो के बारे में बताएंगे। अर्थव्यवस्था के नाम पर भारत को मजबूत बनाने में इन्हीं अमीर शहरों का बहुत बड़ा योगदान रहता है।10. विशाखापट्न
06 जुलाई 2018
03 जुलाई 2018
शादी में जयमाल के दौरान दुल्हा-दुल्हन को गोद में उठाना आजकल एक फैशन सा हो गया है। दोनों पक्ष जयमाल में खूब मजे और हंसी ठिठोली करते हैं। दुल्हा-दूल्हन के बीच जयमाल डाले जाने को लेकर भी कई तरह के मजाक सामने आते रहे हैं... लेकिन इन दिनों एक मजेदार वीडियो वायरल हो रहा है... ज
03 जुलाई 2018
25 जून 2018
बळ्यो सम्प रो बूंट राजपूत केवल एक जाति ही नहीं है बल्कि यह धैर्य, साहस, शौर्य, त्याग, सच्चरित्रता, स्वामिभक्ति एवं सुशासन का पर्याय भी है । कवियों ने इसे समाज व दीन-दुखियों के हितैषी के रूप में इंगित किया है - रण ख
25 जून 2018
19 जून 2018
रेल मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को कहा कि पटरियों के रख रखाव के काम की वजह से अगर रविवार को कोई रेलगाड़ी पांच-छह घंटे लेट होती है तो भारतीय रेल ट्रेन में मौजूद यात्रियों को मुफ्त में भोजन देगी। रेलमंत्री ने मीडिया से बातचीत में यहां कहा, ‘रेलवे अपनी संपत्तियों के नियोजित
19 जून 2018
23 जून 2018
कुछ लोग मानते हैं कि वास्तु के अनुसार रसोईघर में पूजा कक्ष खराब है। यह सच नहीं है। रसोई में पूजा न तो अच्छा है और न ही बुरा है। कई हिंदू समुदायों में रसोईघर में पूजा क्षेत्र है। रसोईघर में पूजा कक्ष पूरी तरह से परंपरा, सुविधा और आपकी मान्यताओं पर निर्भर करता है। हिंदू धर्म के अनुसार, भोजन की देवी दे
23 जून 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x