कभी सोचा है कि जिस गूगल पर हम आंख मूंद कर भरोसा करते हैं, क्या वो हमेशा सही जानकारी ही देता है?

28 जून 2018   |  रेखा यादव   (89 बार पढ़ा जा चुका है)

कभी सोचा है कि जिस गूगल पर हम आंख मूंद कर भरोसा करते हैं, क्या वो हमेशा सही जानकारी ही देता है?

सोशल मीडिया के ज़माने में हमें किसी भी चीज़ के बारे में जानना हो, तो गूगल पर एक सेकेंड के अंदर उसकी पूरी जानकारी हमारे सामने होती है. अगर किसी से कुछ पूछो, तो वो यही कहता है कि गूगल कर ले न यार. तो इसका मतलब ये हुआ कि इस दुनिया की कोई भी जानकारी चाहिए, तो बस गूगल करो और जवाब ले लो. गूगल ने लोगों के बीच अपनी ऐसी साख़ बना ली है कि हम उसकी हर बात पर भरोसा कर लेते हैं. लेकिन इसके साथ ही सवाल ये भी उठता है कि क्या गूगल से हमें जो भी जानकारी मिलती है वो 100 प्रतिशत सही होती है?


Source: indianexpress

इसको लेकर भी कई लोगों के भिन्न-भिन्न मत हो सकते हैं. जो लोग अब भी सोशल मीडया से जुड़ नहीं पाए हैं, वो आज भी किसी जानकारी के लिए पुरानी किताबों का सहारा लेते हैं. लेकिन जब बात प्रमाणिकता की आती है, तो सौ फ़ीसदी भरोसा हम गूगल पर भी नहीं कर सकते. भले ही गूगल अपने कंटेंट की प्रमाणिकता की लाख दलीलें ही क्यों न दे दे. लेकिन सच तो ये है कि कई बार ऐसा होता कि हम गूगल पर जिस किसी के बारे में भी जानकारी चाहते हैं हिंदी और इंग्लिश में उसकी जानकारी अलग-अलग होती है. क्या आपके साथ भी कभी ऐसा हुआ है कि गूगल से मिली जानकारी ग़लत साबित हुई हो?

आईये जानते हैं ऐसा कब-कब होता है, जब गूगल आपको ग़लत जानकारी देता है?


1. गूगल मैप अकसर ग़लत लोकेशन दिखाता है, जाना कहीं होता है और पहुंच कहीं जाते हैं.


Source: wired

2. अगर आप किसी दो जगहों के बीच की दूरी किमी में जानना चाहते हैं, तो वो भी ग़लत दिखाई जाती है.


Source: technorms

3. किसी जगह का पता ढूंढना हो, तो वो भी सही लोकेशन पर नहीं मिल पाता है.


Source: irjci

4. गूगल पुराने और नए एड्रेस को समय के साथ अपडेट नहीं करता है.


5. किसी शब्द विशेष का हिंदी या इंग्लिश मीनिंग जानना हो, तो जवाब कुछ और ही मिलता है.


Source: deutschseite

6. भारत के पूर्व राष्ट्रपति वी.वी. गिरी की मरणतिथि हिंदी और इंग्लिश में अलग-अलग लिखी गयी है.


Source: wikipedia

7. बॉलीवुड स्टार इरफ़ान खान की जन्मतिथि भी दोनों जगह अलग-अलग दिखाई गयी है. ऐसे ही कई लोग होंगे जिनकी डेट ऑफ़ बर्थ ग़लत बताता है गूगल.


Source: wikipedia

8. गूगल का एडिट ऑप्शन सिक्योरिटी लेस है, कोई भी इसके साथ छेड़खानी कर सकता है.


Source: theportcitynews

भारत में आज भी ज़्यादातर काम हिंदी में ही होते हैं. गूगल हिंदी और गूगल इंग्लिश में एक ही व्यक्ति की जानकारी अलग-अलग होती हैं. लेकिन लोगों को गूगल पर इतना ज़्यादा भरोसा होता है कि वो ग़लत को सही मान बैठते हैं. क्या ये गूगल की जिम्मेदारी नहीं बनती है कि वो लोगों को दोनों भाषा में सही जानकारी उपलब्ध कराए?

कभी सोचा है कि जिस गूगल पर हम आंख मूंद कर भरोसा करते हैं, क्या वो हमेशा सही जानकारी ही देता है?

https://hindi.scoopwhoop.com/Google-is-not-Right-always/?ref=latest&utm_source=home_latest&utm_medium=desktop#.9td7dtazo

अगला लेख: कश्मीर को लेकर आई UN की रिपोर्ट को भारत ने किया खारिज, दिया करारा जवाब



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 जुलाई 2018
भारतीय रेलवे के साथ कैरियर बनाने के लिए आवेदन करने वाले लगभग 2.4 करोड़ आवेदकों को नौकरी के लिए लंबा इंतजार करना पड़ सकता है। दरअसल रेलवे के पास इन ऑनलाइन आवेदनों की छंटनी के लिए संसाधनों का टोटा है। एक लाख से अधिक पदों के लिए रेलवे ने आवेदन तो मंगा लिए लेकिन इसकी परीक्षा
02 जुलाई 2018
03 जुलाई 2018
सही मायनो में हम यह कह सकते हैं की भारत बदल रहा है. अगर हम हर पहलू पर गौर करें तो यह पाएंगे की हम आज काफी आगे निकल चुके हैं . आज हम शिक्षा के क्षेत्र में देखें , करियर के क्षेत्र में देखे, मानसिक , आर्थिक या सामाजिक , आज जिंदगी के हर क्षेत्र में बदलाव आ रहा है. अगर हम एक एक कर हर पहलु पर गौर करें
03 जुलाई 2018
29 जून 2018
भोपाल: मध्य प्रदेश के बुरहानपुर जिले में हैरतअंगेज मामला सामने आया है. एक महिला अपनी डेढ़ महीने की नवजात को सीने से लगाकर रेलवे ट्रैक पर लेट गई. आशंका थी कि महिला और बच्ची के शरीर के परखच्चे उड़ गए होंगे, लेकिन लोग यह देख हक्के बक्के रह गए कि 100 की स्पीड से ऊपर से ट्रेन नि
29 जून 2018
21 जून 2018
महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ़ क्राइम की घटनाएं थमने तो दूर, कम होने का भी नाम नहीं ले रही हैं. ऐसा लग रहा है दिन-ब-दिन स्थिति और बिगड़ती जा रही है.कुछ दिन पहले एक अधेड़ उम्र के व्यक्ति का ये वीडियो सामने आया.उससे कुछ दिन पहले बस में लड़की को देखकर Masturbate करते एक व्यक्
21 जून 2018
05 जुलाई 2018
और ऐसी ड्रेस पहनाने के पीछे सरकार का मकसद क्या है, जानकर आप वो फोन न पटक दें जिसपर ये पढ़ रही हैं. हिंदुस्तान से लगभग 4,000 किलोमीटर दूर एक देश है लेबनन. वहां एक शहर है ब्रोउम्माना. वहां समाता साद नाम की एक औरत रहती है. हाल-फ़िलहाल में यातायात पुलिस म
05 जुलाई 2018
03 जुलाई 2018
यूपी सरकार के अल्पसंख्यक मामलों के राज्यमंत्री मोहसिन रजा ने कहा है कि अब मदरसों में भी ड्रेस कोड लागू होगा. उन्होंने कहा कि अब छात्र कुर्ता पयजामा पहनकर मदरसों में नहीं जा पाएंगे. प्रदेश सरकार जल्द ही उनके लिए नया ड्रेस कोड निर्धारित करेगी. मोहसिन रजा ने कहा कि ये कदम मद
03 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x