आज का शब्द (७)

16 अप्रैल 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (230 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (७)

पथ्य :

१- शीघ्र पचने वाला भोजन जो रोगी को दिया जाता है.


२- संयमित आहार


३- पथ अथवा मार्ग सम्बन्धी


प्रयोग:


१- रोज़-रोज़ पथ्य खाकर रोगी उकता जाता है I


२-स्वस्थ रहने के लिए पथ्य अति आवश्यक है I


३- पथ्य कार्य के कारण, इन दिनों इस मार्ग पर अधिक भीड़ रहती है I





१६ अप्रैल, २०१५










अगला लेख: आज का शब्द (२)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अप्रैल 2015
यार मदारी! तुम अच्छे हो; रस्सी पर चल लेते हो, लोहे के छल्ले से कैसे ये करतब कर लेते हो? एक पैसे से दो फिर दो से, चार उन्हें कर देते हो; हाँ तो जमूरे कह-कह के, क्या से क्या कर देते हो I कालू-भालू और बंदरिया सबको नचाते एक उंगली पर, एक डुगडुगी की थापों पर सबका मन हर लेते हो I जीवन की पगडंडी पर, मु
11 अप्रैल 2015
03 अप्रैल 2015
जनता में एक भाषा के माध्यम से ही एकता आ सकती है. दो भाषाएँ जनता को निश्चय ही विभाजित कर देंगी, यह एक अटल नियम है. भाषा के माध्यम से संस्कृति सुरक्षित रहती है. चूंकि भारतीय एक होकर सामान्य सांस्कृतिक विकास करने के आकांक्षी हैं, अतः सभी भारतीयों का यह अनिवार्य कर्त्तव्य है कि वह हिन्दी को अपनी भाषा के
03 अप्रैल 2015
13 अप्रैल 2015
कैसे मनाएं बैसाखी, कैसे ढोल नगाड़े बाजें, कैसे करे भांगड़ा कोई, कैसे खेले कोई गिद्दा. फ़सल पकी थीं स्वप्नों में, आशाएं थीं अपनों में, मौसम ने पानी फेरा यूँ, अन्न के स्वर्णिम रत्नों में. पूरे बरस की खेती-कमाई, जाती रही सब हांथों से, जैसे खींचे जान कोई, आती-जाती साँसों से. दिन वो भी बैसाखी था, त
13 अप्रैल 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x