सडक और हम

01 जुलाई 2018   |  गौरीगन गुप्ता   (86 बार पढ़ा जा चुका है)


सुरक्षा नियमों का करना हैं सम्मान.

धुँआ छोडती कोलाहल करती,

एक-दो,तीन,चारपहिया दौड़ती,

लाल सिंग्नल देख यातायात थमता,

जन उत्सुकतावश शीशे से झांकता.

+++++

बीच सडक चौतरफा रास्ता,

तपती दुपहरी में छाता तानता,

जल्दी निकलने को हॉर्न बजाता,

वाहनों के बीच फोन पर बतियाता.

++++++

लालबत्ती का ध्यान रखते,

दायें-बाएं देख वाहन चलाते,

सुरक्षा नियमों का सम्मान करते,

अनमोल जीवन की सलामती रखते.

++++++

कारखाना काला धुँआ निकालती,

सुविधापरस्ती वाहनों की भीड़ बढाती,

शहरीकरण में सड्के पर सड़के बनती जाती,

हरे-भरे वृक्षों के कटने से हरियाली घटती जाती.

++++++

वाहनों की आवाजे कर्णभेदती,

सारे वातावरण को प्रदूषित करती,

मशीनरी सा जन जीवन जीती ,

कई बीमारियों का शिकार होती.

++++++

आसमां छूती ऊंची इमारतें ,

झुग्गी झोपड़ियों को दबाते,

चारपहिया वाहन शान दिखाते,

दुपहियों को कुचल,निकल जाते,

+++++++

यातायात का हिस्सा हैं अपना जीवन,

जिससे बन जाती हैं जिन्दगी आसान,

बात पते की ,सदा खुशहाल रखना हैं जीवन,

तो भैय्या ,सुरक्षा नियमों का करना हैं सम्मान.

अगला लेख: बारिश का मौसम



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जुलाई 2018
टे
मुंह अँधेरे ही भजन की जगह,फोन की घंटी घनघना उठी,घंटी सुन फुर्ती आ गई,नही तो,उठाने वाले की शामत आ गई,ड्राईंग रूम की शोभा बढाने वाला,कचड़े का सामान बन गया,जरूरत अगर हैं इसकी,तो बदले में कार्डलेस रख गया,उठते ही चार्जिंग पर लगाते,तत्पश्चात मात-पिता को पानी पिलाते,दैनान्दनी से निवृत हो,पहले मैसेज पढ़ते,बा
12 जुलाई 2018
30 जून 2018
रि
बदलते समीकरण - रिश्तों के...आज ख़ुशी का दिन था,नाश्ते में ममता ने अपने बेटे दीपक के मनपसन्द आलू बड़े वाउल में से निकालकर दीपक की प्लेट में डालने को हुई तो बीच में ही रोककर दीपक कहने लगा-माँ,आज इच्छा नही हैं ये खाने की.और अपनी पत्नी के लाये सेंडविच प्लेट में रख खाने लगा. इस तरह मना करना ममता के मन को
30 जून 2018
02 जुलाई 2018
महोदय,नमस्कार! पुरुस्कृत रचना से प्राप्त राशि का विवरण कहा पर देखने को मिल सकता हैं? कृपया अवगत कराए.सधन्यवाद!
02 जुलाई 2018
20 जून 2018
बा
बारिश का मौसम हल्की भीगी सी धरा , अनन्त नभ से बरसता अथाह नीर, उठती गिरती लहरें झील में, आनंद उठाते नैसर्गिक सौंदर्य का, सरसराती हवाओं के तेज झोके, सूखी नदी लवालव हो गई, सिन्चित हुए तरू, छा गई हरियाली, बातें करती तरंगिणी बहती जाती, प्यास बुझाती, जीवो को तृप्त करती, घनी हरियाली से झांकते, आच
20 जून 2018
09 जुलाई 2018
भ्
कैसे- कैसे भ्रम पाल रखे हैं. .... सोते से जाग उठी ख्याली पुलाव पकाती उलझनों में घिरी मृतप्राय जिन्दगी में दुख का कुहासा छटेगा जीने की राह मिलेगी बोझ की गठरी हल्की होगी जीवन का अल्पविराम मिटेगा हस्तरेखा की दरारें भरेगी विधि का विधान बदलेगा उम्मीद के सहारे नैय्या पार लग जायेगी बचनों मे विवशता का पुल
09 जुलाई 2018
24 जून 2018
मु
योग एक कला है | योग किसी खास धर्म , समुदाय, आस्था पद्धिति के मुताबिक नहीं चलता है | आमतौर पर योग को स्वास्थ्य और फिटनेस के लिए व्यायाम या थेरेपी के रूप में समझा जाता है | जो भी नियमित रूप से योगाभ्यास करता है वह इसका लाभ प्राप्त कर सकता है | उसका धर्म, जाति और संस्कृत
24 जून 2018
25 जून 2018
बुध का कर्क में गोचर आज 25 जून, ज्येष्ठशुक्ल त्रयोदशी को तैतिल करण और साध्य योग में शाम छह बजकर पाँच मिनट के लगभग बुधका कर्क राशि और पुनर्वसु नक्षत्र में गोचर हुआ है | साथ मेंराहु और शुक्र भी वहीं हैं, और मंगल तथा केतु की दृष्टि उसपर है | वहाँ से दो सितम्बर को रात्रि नौ ब
25 जून 2018
24 जून 2018
आज की भागदौड़ और तनाव भरी ज़िंदगी मे ज़्यादातर लोग मोटापे की समस्या से जूझ रहे है| जब एक व्यक्ति के शरीर मे बहुत अधिक वसा या फैट जमा हो जाता है तो इस स्थिति को मोटापा कहते है जिसका उस व्यक्ति के स्वास्थ्या पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकत
24 जून 2018
06 जुलाई 2018
जी
व्यक्ति क्या चाहता है, सिर्फ दो पल की खुशी और दफन होने के लिए दो गज जमीन, बस... इसी के सहारे सारी जिन्दगी कट जाती है। तमन्नाएं तो बहुत होती है, पर इंसान को जीने के लिए कुछ चन्द शुभ चिन्तक की, उनकी दुआओं की जरूरत होती है।आज सभी के पास सब कुछ है मग
06 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x