आना-जाना साँसों का

16 अप्रैल 2015   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (214 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
जिन्दगी की शतरंज में , है नहीं ठिकाना पासों का |
बीत जाएगा चन्द दिनों में,ये मौसम मधुमासों का ||
जो करना है जल्दी करले , ओ अनाड़ी इन्सान ,
क्या पता कब रुक जाए , ये आना-जाना सांसों का ||
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@




अगला लेख: हिटलर पत्नी



बहुत खूब !

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 अप्रैल 2015
@@@@ तलाक़ की अनूठी कीमत @@@@ ************************************************** तू -तू ,मैं -मैं के बाद जब ,बढ़ गयी थी तकरार | तो लगने लगा संग रहने में ,नहीं है कोई सार || मर्म भेदी शब्द -बाणों से , दिल में हो गया घाव | रोज-रोज के ताने सुनकर,आ गया मुझको ताव || नहीं किसी काम के मेरे ,बीवी बोली जब ये म
02 अप्रैल 2015
02 अप्रैल 2015
"
@@@@@"नाज" का अन्दाज@@@@@ ************************************************ खरी -खरी कहना ही है,"नाज" का अन्दाज | उसके इस अन्दाज पर , हमें हुआ है नाज || मौका मिला है आज तो , बता दूँ यह राज | दिल की घंटी बजी,जब सुना "नाज" का साज || प्रेमी हूँ मैं "नाज" का ,ये कहते आती न लाज | पोल खोल पाखण्ड की ,बन गयी
02 अप्रैल 2015
02 अप्रैल 2015
@ ऐसी "नाज"को मेरा नमन हमेश है @ ******************************************** मन में उमंग नहीं , तन में तरंग नही | दिल से दबंग नहीं,सच के जो संग नहीं || ऐसी नाजुक "नाज" पर आती मुझे लाज है | होठों पर हास नहीं , सच के जो साथ नहीं | गुण कोई ख़ास नहीं ,मिलन की आश नहीं || ऐसी निर्गुण नाज पर कौन मोहताज है
02 अप्रैल 2015
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x