आज का शब्द (९)

20 अप्रैल 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (239 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (९)

पल्लवी :




१- जड़, तने, शाखा तथा पत्तियों से युक्त बहुवर्षीय वनस्पति,


२- नए पत्तों से युक्त


३- पेड़, वृक्ष, पादप, तरु





प्रयोग : पूजा-गृह के पास पल्लवी पर पीले प्रसून अति सुन्दर प्रतीत हो रहे हैं I

अगला लेख: आज का शब्द (३)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 अप्रैल 2015
मूर्द्धन्य : ​१- वह वर्ण जिसका उच्चारण मूर्द्धा से होता है जैसे 'ट' वर्ग के सभी वर्ण मूर्द्धन्य हैं I २- जो बहुत बड़ा या अच्छा हो, श्रेष्ठ, उदात्त, अध्यारूढ़; जैसे : पं0 महामना मदन मोहन मालवीय मूर्द्धन्य विद्वान थे I ३- मस्तक में स्थित; जैसे : शिव भक्त स्वामी जी का मूर्द्धन्य तिलक उन पर बहुत
28 अप्रैल 2015
10 अप्रैल 2015
उसकी कमीज़ का कॉलर फटा था, सर से पाँव तक पसीने-पसीने; पादुकाएं, घिसी इतनी कि खीसें काढ़े I चोर निगाहों से इधर-उधर देखा उसने, बिजली के खम्भे तले पड़ी सूखी रोटी पर, छितरा सा भात उठाया I जो टोका उसको, पूछ लिया उससे- "हा s s s छी-छी! क्यों करते हो ऐसा? मेरी आँखों में ऑंखें डाल वो बोला................
10 अप्रैल 2015
25 अप्रैल 2015
नैहर : १- विवाहित स्त्रियों के लिए उनके माता-पिता का घर​ २- मायका, ३- पीहर, ४- मैका, मायका ५- मैहर, ६- प्योसार
25 अप्रैल 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x