ये औरतें मॉडल नहीं, असल महिला पुलिस हैं, यही इनकी यूनिफ़ॉर्म है

05 जुलाई 2018   |  रेखा यादव   (84 बार पढ़ा जा चुका है)

ये औरतें मॉडल नहीं, असल महिला पुलिस हैं, यही इनकी यूनिफ़ॉर्म है

और ऐसी ड्रेस पहनाने के पीछे सरकार का मकसद क्या है, जानकर आप वो फोन न पटक दें जिसपर ये पढ़ रही हैं.

हिंदुस्तान से लगभग 4,000 किलोमीटर दूर एक देश है लेबनन. वहां एक शहर है ब्रोउम्माना. वहां समाता साद नाम की एक औरत रहती है. हाल-फ़िलहाल में यातायात पुलिस में भर्ती हुई है. रोज़ सुबह की तरह तैयार होने के लिए उठी. अलमारी से अपनी यूनिफार्म निकाली. काले रंग की शॉर्ट्स यानि निक्कर और लाल टोपी. जी हां, आजकल ब्रोउम्माना शहर में यातायात पुलिस की यूनिफार्म बदल गई है. उन्हें अब शॉर्ट्स पहननी हैं. पर सिर्फ़ औरतों को. मर्द अभी भी पूरी पेंट पहन रहे हैं. कमाल की बात ये है कि दुनिया में और कहीं भी पुलिस में भरती हुई औरतें को यूनिफार्म के नाम पर नेक्कर नहीं पहननी पड़ती. ऐसा सिर्फ़ यहां हो रहा है.




पर क्यों?

इसका महिला सशक्तिकरण से कोई लेना-देना नहीं है. शॉर्ट्स पहनने की मांग इन औरतों ने नहीं की. ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि ब्रोउम्माना शहर के मेयर ऐसा चाहते हैं. पर क्यों, ये उन्ही के शब्दों में पढ़िए:

“ये सब एक प्लान के मुताबिक है. टूरिस्टों को लुभाने की कोशिश है. हम अपने देश की छवि सुधारना चाहते हैं. 99% लोग जो यहां घूमने आते हैं, वो शॉर्ट्स पहनते हैं. उनको अच्छा लगे, इसलिए हम चाहते है ये औरतें उनके जैसे कपड़े पहने.”




जहां कुछ लोग इस बदलाव से ख़ुश है, कुछ लोग मेयर साब को गालियां दे रहे हैं. बात ये है कि लोगों को लुभाने के लिए सिर्फ़ औरतों के कपड़े ही क्यों बदले गए हैं? आदमियों के क्यों नहीं? वो अपनी टांगें खुली रखकर लोगों को क्यों नहीं लुभा सकते? भई, इसका जवाब आपको और हमे दोनों को पता है.




दुनिया मर्दों को एक ‘चीज़’ के रूप में नहीं देखती. जिसका शरीर लोगों को आकर्षित करने के लिए ही बना है. उसके अंगों को हमेशा वासना की निगाह से नहीं देखा जाता है. ऐसा सिर्फ़ औरतों के साथ होता है. इसलिए टांगें उन्हें खुली रखने के लिए बोला गया है. इस सोच से ट्विटर पर भी काफ़ी लोग इत्तेफ़ाक रखते है.

जब वहां के स्थानीय लोगों से पुछा गया कि वो क्या सोचते हैं तो उन्होंने बड़ा चौंकाने वाला जवाब दिया. वो कहते हैं कि जब उन औरतों को ही कोई दिक्कत नहीं है तो बाकी लोगों को क्या परेशानी है? पर हां, सबको सड़क हादसों का बड़ा डर है. उन्हें लगता है कि औरतों को ऐसे कपड़ों में देखकर लोगो का ध्यान भटक जाएगा.

अगर औरतों को एक सजावट के समान की तरह ही देखना है तो उन्हें पुलिस में भरती ही क्यों किया गया है? ये तो ज़ाहिर है कि मेयर साब को उनके काम से कोई मतलब नहीं है. क्योंकि पुलिस का काम सुंदर दिखना या आकर्षित दिखना नहीं होता. उनका काम व्यवस्था बनाए रखना होता है. और उसके लिए शॉर्ट्स पहनने की कोई ज़रुरत नहीं है.

आपको क्या लगता है?

ये औरतें मॉडल नहीं, असल महिला पुलिस हैं, यही इनकी यूनिफ़ॉर्म है

https://www.oddnaari.in/latest/story/policewomen-in-lebanon-broummana-to-wear-shorts-to-attract-tourist-127731-2018-07-04

अगला लेख: सोने की एक्टिंग करते हुए महिला को छूने वाला ये कॉन्सटेबल न वर्दी के लायक है, न समाज में रहने के



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 जुलाई 2018
पटना:पुलिसवालों का काम समाज में कानून की रखवाली और शांति बनाए रखना है। जनता की सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिसवालों की ही है।आमतौर पर आपने सुना होगा कि पुलिसवाले ही सबका बैंड बजाते हैं लेकिन इस बार कुछ अलग हुआ है। बिहार में एक 14 साल के लड़के ने पुलिसवालों का बाजा बजा दिया।बा
09 जुलाई 2018
09 जुलाई 2018
दिन भर की थकान के बाद रात में बेड पर सोना दुनिया के सबसे हसीन कामों में से एक है. अब सोने के बाद हमें सपने भी आते हैं, जिस दौरान हमारे शरीर में अजीब तरह की हलचल होती है. नींद में आने वाले कुछ सपने ख़ूबसूरत होते हैं, तो वहीं कुछ सपने बेहद अजीबोग़रीब और डरावने होते हैं. कई
09 जुलाई 2018
11 जुलाई 2018
ना
तू जग की आधी सृजन है,मानवता तेरा आभारी।तू खुद में सम्पूर्ण ज्वाला ज्योति है,कदमों में तेरे जग सारी।।वक़्त आती तलवार खींचती,जंगों में तेरी हाहाकारी।ज़रूरत में तू भूमि सींचती,ले कर हाथों में हल आरी।।तू आत्मबल की स्रोत है,ले उसको चन्द्रमा तक जाए।मनोबल तो तेरा घोर प्रबल है,पर्वत को निचा दिखलाये।।ह्रदय में
11 जुलाई 2018
22 जून 2018
वो 15-20 लीटर वाला मिनरल वॉटर का जार होता है न. जिसका सिस्टम सिलेंडर की तरह होता है. आपसे एक बार जार की कीमत ले ली जाती है. फिर पानी वाला आपकी जरूरत के मुताबिक भरा हुआ जार दे जाता है. जब पानी खत्म हो जाता है, तो वो खाली जार ले जाता है. नया दे जाता है. घर में, ऑफिस में, हो
22 जून 2018
23 जून 2018
अकस्मात मीनू के जीवन में कैसी दुविधा आन पड़ी????जीवन में अजीव सा सन्नाटा छा गया.मीनू ने जेठ-जिठानी के कहने पर ही उनकी झोली में खुशिया डालने के लिए कदम उठाया था.लेकिन .....पहले से इस तरह का अंदेशा भी होता तो शायद .......चंद दिनों पूर्व जिन खावों में डूबी हुई थी,वो आज दिवास्वप्न सा लग रहा था.....
23 जून 2018
24 जून 2018
आगरा से कुछ दिन पहले सोते हुए कुत्ते के ऊपर सड़क बना देने की खबर आई थी. खूब बवाला मचा था. सोशल मीडिया से लेकर सड़क तक लोगों ने इस पर नराजगी जताई. मुकदमा दर्ज हुआ. गिरफ्तारियां हुईं. अब एक और मामला सामने आया है. इस बार कोई कुत्ता नहीं बल्कि एक इंसान पीड़ित है. एक सोते हुए
24 जून 2018
03 जुलाई 2018
यूपी सरकार के अल्पसंख्यक मामलों के राज्यमंत्री मोहसिन रजा ने कहा है कि अब मदरसों में भी ड्रेस कोड लागू होगा. उन्होंने कहा कि अब छात्र कुर्ता पयजामा पहनकर मदरसों में नहीं जा पाएंगे. प्रदेश सरकार जल्द ही उनके लिए नया ड्रेस कोड निर्धारित करेगी. मोहसिन रजा ने कहा कि ये कदम मद
03 जुलाई 2018
17 जुलाई 2018
दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का काम जोरों से चल रहा है. वल्लभ भाई पटेल की यह प्रतिमा 182 मीटर ऊंची होगी. अलग-अलग हिस्सों में इसे जोड़ने का काम हो रहा है.अब तक लगभग 70 प्रतिशत काम इसका पूरा हो चुका है. इसकी लागत 2989 करोड़ रुपये है. अभी तक 1100 करोड़ रुपये इ
17 जुलाई 2018
27 जून 2018
इस शादी को अनोखा इसलिए कहा जा रहा है, क्योंकि यहां पर जो शादी हुई है उसमें दूल्हे की हाइट 34 इंच और दूल्हन की हाइट 33 इंच है.यूपी के गोरखपुर जिले में एक अनोखी शादी हुई है. देश में होने वाले बाकि अन्य शादियों की तरह इस शादी में भी वही रस्में निभाई गई हैं, लेकिन इस शादी को
27 जून 2018
28 जून 2018
सोशल मीडिया के ज़माने में हमें किसी भी चीज़ के बारे में जानना हो, तो गूगल पर एक सेकेंड के अंदर उसकी पूरी जानकारी हमारे सामने होती है. अगर किसी से कुछ पूछो, तो वो यही कहता है कि गूगल कर ले न यार. तो इसका मतलब ये हुआ कि इस दुनिया की कोई भी जानकारी चाहिए, तो बस गूगल करो और जवा
28 जून 2018
17 जुलाई 2018
धरती के अंदर होने वाली हलचल और इसके प्रभावों पर देश के चार बड़े संस्थानों ने हाल ही में अध्ययन किया है. इसमें यह सामने आया है कि देश में आने वाले समय में आठ से ज्यादा तीव्रता वाले भूकंप आ सकते हैं, जो बड़ी तबाही मचा सकते हैं.यह अध्ययन देहरादून स्थित वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ ह
17 जुलाई 2018
29 जून 2018
भोपाल: मध्य प्रदेश के बुरहानपुर जिले में हैरतअंगेज मामला सामने आया है. एक महिला अपनी डेढ़ महीने की नवजात को सीने से लगाकर रेलवे ट्रैक पर लेट गई. आशंका थी कि महिला और बच्ची के शरीर के परखच्चे उड़ गए होंगे, लेकिन लोग यह देख हक्के बक्के रह गए कि 100 की स्पीड से ऊपर से ट्रेन नि
29 जून 2018
09 जुलाई 2018
जब भी हम पुलिस की बात करते हैं तो हमारे दिमाग में एक बड़े तोंद और मूंछ वाले आदमी की छवि बनती है. पुलिस को हम सबने अधिकतर ऐसे ही रूप में देखा है. लेकिन ये पहले की बात हुआ करती थी. आजकल के इस बदलते युग में अब पुलिस डिपार्टमेंट में आपको हैंडसम लोग भी दिख जाएंगे. भारत में कई ऐ
09 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x