“मुक्तक”

06 जुलाई 2018   |  महातम मिश्रा   (80 बार पढ़ा जा चुका है)

मापनी-२१२२ २१२२ २१२२ २१२


“मुक्तक”


समांत- आने पदांत – के लिए


घिर गए जलती शमा में मन मनाने के लिए।

उड़ सके क्या पर बिना फिर दिल लगाने के लिए।

राख़ कहती जल बनी हूँ ख्वाइसें इम्तहान में-

देख लो बिखरी पड़ी हूँ पथ बताने के लिए॥-१


समांत- आम पदांत – अब


कौन किसका मानता है देखते अंजाम सब।

उड़ रहे हैं आ पतिंगे प्रेम का परिणाम रब।

नयन तो सबका सजग है देखता कोई नहीं-

बिन पिए ही गिर रहे हैं कह शमा लव जाम कब॥-२


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "हाइकु" योग दिवस पर प्रस्तुति



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 जून 2018
“मुक्तक”अस्त-व्यस्त गिरने लगी पहली बारिश बूँद। मानों कहना चाहती मत सो आँखें मूँद। अभी वक्त है जाग जा मेरे चतुर सुजान- जेठ असाढ़ी सावनी भादों जमे फफूँद॥-१याद रखना हर घड़ी उस यार का। जिसने दिया जीवन तुम्हें है प्यार का। हर घड़ी आँखें बिछाए तकती रहती- है माँ बहन बेटी न भार्या
29 जून 2018
04 जुलाई 2018
“पिरामिड”वो गया समय बचपन लौट न आए मन बिछलाए झूला झूले सावनी॥-१ ये वक्त बे-वक्त शरमाना होठ चबाना उँगली नचानाप्रेमी प्रेम दीवाना॥-२ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
04 जुलाई 2018
25 जून 2018
छंद–दिग्पाल (मापनी युक्त) मापनी -२२१ २१२२ २२१ २१२२ “मुक्तक” जब गीत मीत गाए मन काग बोल भाए। विरहन बनी हूँ सखियाँ जीय मोर डोल जाए। साजन कहाँ छुपे हो ले फाग रंग अबिरा- ऋतुराज बौर महके मधुमास घोल जाए॥-१ आओ न सजन मेरे कोयल कसक रही है। पीत सरसो फुलाए फलियाँ लटक रही है। महुवा
25 जून 2018
02 जुलाई 2018
मापनी- २२१२ १२२ २१२२ १२२"दिग्पाल छंद"जब गीत मीत गाए मन काग बोल भाएविरहन बनी हूँ सखियाँ जीय मोर डोल जाएसाजन कहाँ छुपे हो ले राग रंग अबिराऋतुराज बौर महके मधुमास घोल जाए।।आओ न सजन मेरे कोयल कसक रही है पीत सरसो फुलाए फलियाँ लटक रहीं हैदादुर दरश दिखाए मनमोहना कहाँ होपपिहा तरस
02 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x