मे तेरा हु सिर्फ तेरा

06 जुलाई 2018   |  vikas khandelwal   (131 बार पढ़ा जा चुका है)

मैं तेरा हु सिर्फ तेरा



एतबार कर मेरा



चिराग़ बनके जला हु तो



ये रौशनी रहेगी उमर भर



एतबार कर मेरा



मै तेरा हु सिर्फ तेरा



मुझको अपने दिल मे बसा लो



कब तलक फिरता रहुंगा आवारा



मेरा हाथ थाम लो सनम



दुनियाँ के मेले मे ,



कही छूट ना जाए साथ हमारा



मै तेरा हु सिर्फ तेरा



एतबार कर मेरा

अगला लेख: दिल मेरा तुझे याद करता है



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 जून 2018
दि
बारिश के इस सुहाने मौसम मे दिल मेरा तुझे याद करता है वो साथ भीगने के ज़माने याद करता है भीगी हुई रातो कि वो , बाते याद करता है बारिश के इस सुहाने मौसम मे तुम्हारी हॅ
29 जून 2018
23 जून 2018
दि
तेरे हसीन चेहरे को देखु वो अच्छा दिल पे अपने हसरतो का बोझ क्यू लु इस बारिश मे तुम भी नहा लो, मे भी नहा लु सावन की इस पहली फुहार मे तुम्हारे संग भीग लु दिल पे अपने मोहब्तो का बोझ क्य
23 जून 2018
15 जुलाई 2018
ज़ि
हाथ से रेत फिसलती रही वक़्त के साथ दुनिया बदलती रही जिन्दगी तुझे देखा तो तबियत बिमार कि बहलती रही हाथ से रेत फिसलती रही मौसम को भी
15 जुलाई 2018
12 जुलाई 2018
टे
मुंह अँधेरे ही भजन की जगह,फोन की घंटी घनघना उठी,घंटी सुन फुर्ती आ गई,नही तो,उठाने वाले की शामत आ गई,ड्राईंग रूम की शोभा बढाने वाला,कचड़े का सामान बन गया,जरूरत अगर हैं इसकी,तो बदले में कार्डलेस रख गया,उठते ही चार्जिंग पर लगाते,तत्पश्चात मात-पिता को पानी पिलाते,दैनान्दनी से निवृत हो,पहले मैसेज पढ़ते,बा
12 जुलाई 2018
30 जून 2018
मु
मुझको प्यार मे तन्हाई मिली आपको क्या मिला साथ चलते थे वो मेरे ,तो लगता था खुदा साथ है अब जुदा हो गए है वो मुझसे, तो यु लगता है, जिस्म हि ख़ाली रह गया है मेरे पास,जान
30 जून 2018
17 जुलाई 2018
कोईअस्तित्व न हो शब्दों का, यदि हो न वहाँ मौन का लक्ष्य |कोईअर्थ न हो मौन का,यदि निश्चित नहो वहाँ कोई ध्येय |मौनका लक्ष्य है प्रेम,मौन मौन कालक्ष्य है दया मौनका लक्ष्य है आनन्द,और मौन मौन काहै लक्ष्य संगीत भी |मौन, ऐसा गीत जो कभीगाया नहीं गया,फिरभी मुखरित हो गया |मौन, ऐसा
17 जुलाई 2018
05 जुलाई 2018
ते
वो तेरा घर जो मेरे घर के करीब है तेरा घर महल अमीर है, मेरा घर झोपड़ी गरीब है वो तेरा घर जो मेरे घर के करीब है कल मिल गए थे,कुछ
05 जुलाई 2018
05 जुलाई 2018
मि
मेरे आँसू , मेरा दर्द , मेरा गम कोई लेने वाला हो, तो बताना मैं जिन्दगी को जीना चाहता हु एक मासूम बच्चे की तरह कोई मुझसे प्यार करने वाला हो तो बताना मेरी आरजु बस इतनी है कोई
05 जुलाई 2018
17 जुलाई 2018
वो
आओ सबका करे भला जो मुझ तक आ पहुंचा है वो मेरे लिए ख़ुदा है मैं ख़ुदा के किसी काम आया और क्या चाहिए भला आओ सबका करे भला मेरे दिल मे भी जख्म है चलते है जो गमो कि हवा के झोके नास
17 जुलाई 2018
20 जुलाई 2018
आज एक सुरज और ढल गया चाँद के पास से टूट सितारा गया फलक पे चमकते रहेंगे शब्दों के मोती कोई ग़ालिब , कोई मोमिन , आज फिर जिन्दगी कि जंग हार गया दिल कि नाव का डुब आज
20 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x