नियमबद्धता ---- आचार्य अर्जुन तिवारी

10 जुलाई 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (13 बार पढ़ा जा चुका है)

नियमबद्धता ---- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! इस सृष्टि का निर्माण परमात्मा ने बहुत ही सूझ बूझ के साथ किया है | इस सम्पूर्ण सृष्टि का कण - कण परमात्मा द्वारा प्रतिपादित नियम का पालन करते हुए अपने - अपने क्रिया - कलापों को गतिमान बनाये हुए हैं | बिना नियम के सृष्टि चलायमान नहीं हो सकती है | सूर्य , चन्द्र , वायु आदि यदि नियमों का उल्लंघन कर दें तो विचार कीजिए कि इस सृष्टि का क्या हाल होगा | इस संसार में प्रत्येक कार्य नियम का पालन करने से ही सम्पादित होते आये हैं | यदि किसी के द्वारा कहीं भी नियम का उल्लंघन किया जाता है तो स्थिति विध्वंसक ही होती आई है | देश की सरकारें भी एक नियम कानून के अन्तर्गत चल रही हैं | ये सारे नियम कानून मनुष्यों की सुरक्षा - संरक्षा के लिए ही बनाये गये हैं | जहाँ इन नियमों का निर्माण किया गया वहीं इन नियमों का पालन कराने वाली ईकाईयां भी स्थापित की गयी हैं जो आम जनमामस को इन नियमों का पालन करने की सलाह देती रहती हैं | कभी - कभी नियमों का पालन न करने वालों के विरुद्ध दण्डात्मक कार्यवाही भी करनी पड़ती है | प्रकृति के नियमों का उल्लंघन करने पर जिस तरह समय समय पर भूकम्प , तूफान आदि के रूप में परमात्मा द्वारा मनुष्यों के लिए दंड देने का विधान है | उसी प्रकार देश , समाज व परिवार भी नियमों के बिना नहीं चल सकते | अनादिकाल से यह क्रम चलता आ रहा है, क्योंकि प्रत्येक वस्तु अपनी गति के अनुरूप चल रही है.यही कारण है कि इस संसार की व्यवस्था कभी भंग नहीं होती | व्यवस्था भंग वहां होती है, जहां कोई नियम न हो, कोई बंधन न हो, प्रत्येक व्यक्ति स्वतंत्र और स्वच्छंद हो, लेकिन जहां व्यवस्था होती है, वहां कोई स्वच्छंदता नहीं होती | सर्वत्र नियम होता है | आज के युग में नियमों धज्जियां प्रत्येक स्थान पर उड़ती देखी जा सकती हैं | संसार की प्रथम ईकाई परिवार होता है एक परिवार का मुखिया अपने परिवार को सुगमता से चलाने के लिए नियम बनाता है | प्रत्येक परिवार / समूह / संगठन के अपने नियम होते हैं | परिवार के सदस्यों के द्वारा उन नियमों का पालन किया जाता रहा है | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी का मानना है कि जब परिवार के मुखिया को अपने परिवार के सदस्यों द्वारा परिवार की मर्यादा का उल्लंघन करते हुए देखा जाता है तो उसे अपार कष्ट होता है | तब वह परिवार के सदस्यों को परिवार की मर्यादा का भान कराने का प्रयास किया जाता है , और परिवार के सदस्यों द्वारा उन मर्यादाओं को न मानने पर कुछ कड़े / दंडात्मक निर्णय भी लेने पड़ते हैं | कभी - कभी यह निर्णय लेने पर परिवार के सदस्य मुखिया को दमनकारी / अहंकारी आदि भी कह देते हैं | मुखिया कभी अहंकारी नहीं होता , उसका एक ही उद्देश्य होता है कि उसके परिवार के सदस्य सुसंस्कारित होकर समाज में एक नया उदाहरण प्रस्तुत करे | नियम की बाध्यता को न स्वीकार करके स्वतंत्र रहने की कामना ने एकल परिवारों को बढावा दिया | एकल परिवारों में संस्कृतियों का लोप होता जा रहा है क्योंकि जो स्वयं नियम तोड़कर आये हैं वे नियमों का पालन करवा भी नहीं पाते और उनके बच्चे उच्छृंखल होकर नित्य नये कारनामों को अंजाम देते रहते हैं और दुखी रहते हैं | जहाँ नियमबद्धता को नहीं माना जाता वहीं विध्वंस होता आया है और होता रहेगा | बिना नियम के न तो यह संसार चलता है और न ही कोई समाज या परिवार ही चल सकता है क्योंकि यह सकल सृष्टि ही नियमबद्ध है |

अगला लेख: स्वयं की खोज ----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 जुलाई 2018
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*मनुष्य के जीवन में यदि देखा जाय तो संसार में सब कुछ महत्त्वपूर्ण है ! परंतु इन सभी सबसे अति महत्तवपूर्ण शिक्षा | बिना शिक्षा प्राप्त किये मनुष्य को स्वयं , समाज एवं विशेषकर मनुष्यता का बोध नहीं हो सकता | एक शिक्षित मनुष्य ही अपने भले बुरे के बारे में सही ढंग से सोच सकता
05 जुलाई 2018
01 जुलाई 2018
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *आदिकाल से ईश्वर की सत्ता सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में विद्यमान है | परंतु सृष्टि के प्रारम्भ से ही ईश्वरीय सत्ता को मानने वाले भी इसी ब्रह्माण्ड में रहे हैं जिन्हें असुर की संज्ञा दी गयी है | समय समय पर इस धरती पर ईश्वर की उपस्थिति का प्रमाण मिलता रहा है | उन्हीं प्रमाणों
01 जुलाई 2018
05 जुलाई 2018
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!*मनुष्य के जीवन में यदि देखा जाय तो संसार में सब कुछ महत्त्वपूर्ण है ! परंतु इन सभी सबसे अति महत्तवपूर्ण शिक्षा | बिना शिक्षा प्राप्त किये मनुष्य को स्वयं , समाज एवं विशेषकर मनुष्यता का बोध नहीं हो सकता | एक शिक्षित मनुष्य ही अपने भले बुरे के बारे में सही ढंग से सोच सकता
05 जुलाई 2018
14 जुलाई 2018
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! इस सृष्टि का निर्माण परमात्मा ने बहुत ही सूझ बूझ के साथ किया है | इस सम्पूर्ण सृष्टि का कण - कण परमात्मा द्वारा प्रतिपादित नियम का पालन करते हुए अपने - अपने क्रिया - कलापों को गतिमान बनाये हुए हैं | बिना नियम के सृष्टि चलायमान नहीं हो सकती है | सूर्य , चन्द्र , वायु आद
14 जुलाई 2018
30 जून 2018
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! इस सृष्टि में परमपिता परमात्मा ने मनुष्य को जो भी बल, बुद्धि एवं विवेक दिया है, उसके हृदय में दया, करुणा, सहृदयता, सहानुभूति अथवा संवेदना की भावनायें भरी हैं, वे इसलिये नहीं कि वह उन्हें अपने अन्दर ही बन्द रखकर व्यर्थ चला जाने दे | उसने जो भी गुण और विशेषता मनुष्यों को
30 जून 2018
14 जुलाई 2018
!! भगवत्कृपा हि के वलम् !! *यह संसार विचित्रताओं से भरा पड़ा है | यहाँ भाँति - भाँति के विचित्र जीव देखने को मिलते हैं | कुछ जीव तो ऐसे - ऐसे कभी देखने को मिल जाते हैं कि अपनी आँखों पर भी विश्वास नहीं होता | और मनुष्य विचार करने लगता है कि :- परमात्मा की सृष्टि भी अजब - गजब है | हमारे वैज्ञानि
14 जुलाई 2018
30 जून 2018
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! पारब्रह्म परमेश्वर ने इस सुंदर सृष्टि की रचना की , मैथुनी सृष्टि करके मनुष्य को इस धराधाम पर उतारा | मनुष्य ईश्वर के प्रति कृतज्ञ होकर उसकी आराधना करने का वचन देता है | पुराण बताते है कि माँ के गर्भ में बालक की स्थिति उत्तानपाद होती है ! अर्थात सर नीचे तथा पैर ऊपर को ह
30 जून 2018
30 जून 2018
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! इस धराधाम पर विधाता ने अद्भुत मैथुनी सृष्टि की है | नर एवं नारी का जोड़ा उत्पन्न करके दोनों को एक दूसरे का पूरक बनाया | बिना एक दूसरे के सहयोग के सृष्टि का सम्पादन नहीं हो सकता | नर एवं नारी की महत्ता को दर्शाते हुए भगवान शिव ने भी अर्द्धनारीशवर का स्वरूप धारण किया है
30 जून 2018
14 जुलाई 2018
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! मानव जीवन में दो चीजे मनुष्य को प्रभावित करती हैं पहला स्वार्थ और दूसरा परमार्थ | जहाँ स्वार्थ का मतलब हुआ स्व + अर्थ अर्थात स्वयं का हित , वहीं परमार्थ का मतलब हुआ परम + अर्थ अर्थात परमअर्थ | परमअर्थ के विषय में हमारे मनीषी बताते हैं कि जो आत्मा के हितार्थ , आत्मा के
14 जुलाई 2018
30 जून 2018
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! इस असार संसार में आने के बाद मनुष्य जैसे खो जाता और उसकी एक यात्रा प्रारम्भ हो जाती है | मनुष्य द्वारा नित्यप्रति कुछ न कुछ खोजने की प्रक्रिया शुरू होती है | मनुष्य का सम्पूर्ण जीवनकाल एक खोज में ही व्यतीत हो जाता है | कभी वह वैज्ञानिक बनकर नये - नये प्रयोगों की खोज कर
30 जून 2018
30 जून 2018
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *इस धराधाम पर जबसे मनुष्य की सृष्टि हुई तब से लेकर आज तक मनुष्य अनवरत संघर्षशील ही रहा है | अपनी इसी संघर्षशीलता के बल पर मनुष्य ने असम्भव को भी सम्भव बनाकर दिखाया है | इस संसार में विद्यमान शायद कोई भी ऐसा संसाधन नहीं बचा है जिसका उपयोग मनुष्य ने न किया हो | हिंसक जान
30 जून 2018
06 जुलाई 2018
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *इस सकल ब्रह्माण्ड में चौरासी लाख योनियों का वर्णन मिलता है | इन चौरासी लाख योनियों के चार प्रकार बताये गये हैं :- जरायुज, स्वेदज, अण्डज और उद्भिज | जिसमें मनुष्य शरीर एक श्रेष्ठतम् और सर्वोत्तम आकृति है | चौरासी लाख आकृतियों में मनुष्य रूप आकृति के समान अन्य कोई आकृ
06 जुलाई 2018
14 जुलाई 2018
!! भगवत्कृपा हि के वलम् !! *यह संसार विचित्रताओं से भरा पड़ा है | यहाँ भाँति - भाँति के विचित्र जीव देखने को मिलते हैं | कुछ जीव तो ऐसे - ऐसे कभी देखने को मिल जाते हैं कि अपनी आँखों पर भी विश्वास नहीं होता | और मनुष्य विचार करने लगता है कि :- परमात्मा की सृष्टि भी अजब - गजब है | हमारे वैज्ञानि
14 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x