मेरे मन की

12 जुलाई 2018   |  ऋषभ शुक्ला   (92 बार पढ़ा जा चुका है)

#meremankee


Mere Man Kare "मेरे मन की" पर आपकी रचनाओं के ऑडियो / विडियो प्रसारण के लिए सादर आमंत्रित हैं I निवेदन है कि प्रसारण हेतु ऑडियो / विडियो भेजें I


आपकी कवितायेँ, गज़लें , कहानिया , मुक्तक , शायरी , लेख और संस्मरण का प्रसारण करा सकते हैं I

Subscribe करने के लिए link को click करें :

https://www.youtube.com/user/rushabhshukla


आपसे व्यक्तिगत अनुरोध है कि मेरे मन की में प्रकाशन हेतु अपनी रचनाएँ भेजें I

अपनी रचना को आप हमारे इसी whatsaap no. 09125888212 पर अथवा rushabhshukla8@gmail.com अपनी रचना आपके संक्षिप्त परिचय के साथ पोस्ट कर दें I आपकी रचना #youtube और #facebook के पेज पर प्रकाशित कर दिया जाएगा|

आप अपनी रचनाएँ ऑडियो या विडियो दोनो मे भेज सकते हैं|

#meremankee

§

Hi Friends,

My name is Rishabh Shukla. Basically, I'm a blogger. I love to read and write also. I have created two blogs one is about Hindi Poetry based and the second one is about Hindi short sto...

Mere Man Kee - YouTube

https://www.youtube.com/user/rushabhshukla

अगला लेख: सो जा नन्हे-मुन्हे सो जा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 जुलाई 2018
नमस्कार,स्वागत है आप सभी का यूट्यूब चैनल "मेरे मन की" पर|"मेरे मन की" में हम आपके लिए लाये हैं कवितायेँ , ग़ज़लें, कहानियां और शायरी|आज हम लेकर आये है कवियत्री रेखा जी का सुन्दर गीत "दुनिया नहीं कुछ मुझे देने वाली"|आप अपनी रचनाओं का यहाँ प्रसारण करा सकते हैं और रचनाओं
21 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
नमस्कार,स्वागत है आप सभी का यूट्यूब चैनल "मेरे मन की" पर|"मेरे मन की" में हम आपके लिए लाये हैं कवितायेँ , ग़ज़लें, कहानियां और शायरी|आज हम लेकर आये है कवियत्री रेखा जी का भोजपुरी गीत "देशवा बचाके रख भईया"|आप अपनी रचनाओं का यहाँ प्रसारण करा सकते हैं और रचनाओं का आनंद ले सकते हैं| #meremankee के YouTu
19 जुलाई 2018
30 जून 2018
दु
दर्द का दुसरा नाम महबूब है काटो सा चुभता गुलाब है मेरी पुरानी खताओं को माफ़ कर दो तो पेश ए खिदमत , एक नई खता जनाब है दर्द वो हि देते है, जो दिल मे रह
30 जून 2018
24 जुलाई 2018
नमस्कार,स्वागत है आप सभी का यूट्यूब चैनल "मेरे मन की" पर|"मेरे मन की" में हम आपके लिए लाये हैं कवितायेँ , ग़ज़लें, कहानियां और शायरी|आज हम लेकर आये है वसीम महशर सौरिखी जी का सुन्दर गजल "फूलों में भी, काँटों में भी "|आप अपनी रचनाओं का यहाँ प्रसारण करा सकते हैं और रचना
24 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x